न्यूज़

अक्कई पद्मशाली और वासु: एक बच्चे को कानूनी रूप से अपनाने वाले पहले ट्रांसकपल

Published by
Ayushi Jain

अक्काई पद्मशाली और उनके पति वासु के प्यार और अपनेपन की इस कहानी ने उन्हें पहली बार दुनिया में सबसे अलग बना दिया है। हाल ही में अपने साढ़े तीन महीने के बेटे को कानूनी रूप से गोद लेकर उन्होंने समाज में एक उदहारण पेश किया है।

अक्काई का यह कदम ऐसा करने वाली पहली ट्रांस व्यक्ति के रूप में नयी उपलब्धि हो सकती है लेकिन पद्मशाली के लिए यह निश्चित रूप से उसकी पहली उपलब्धि नहीं है।

बंगलौर की रहने वाली पद्मशाली, जिसने 12 साल की उम्र में खुद को मारने की कोशिश की क्योंकि उसके लिए एक अलग लिंग से होने के दबाव से गुज़रना मुश्किल हो गया था, जिसे वह खुद मानती थी, अब वह अपने अधिकारों के लिए जूझ रही है। अब तीन दशकों से ट्रांस समुदाय के लोगो के हक़ के लिए लड़ रही है। पद्मशाली को पहले कर्नाटक में एक ट्रांसजेंडर व्यक्ति के रूप में स्वीकृति के लिए लड़ना पड़ा और फिर अपनी शादी को रजिस्टर करने के लिए। इसके बाद वह देश में पहली ट्रांसजेंडर व्यक्ति बन गईं, जिन्होंने अपने लिंग को महिला के रूप में बताते हुए ड्राइविंग लाइसेंस प्राप्त किया और कर्नाटक राज्य का दूसरा सर्वोच्च नागरिक सम्मान राज्योत्सव प्रशस्ति प्राप्त करने वाली वह पहली ट्रांसजेंडर थीं।

अपने बेटे को हाल ही में गोद लेने के बारे में शीदपीपल.टीवी से बात करते हुए, वह कहती है कि जब वह अविवाहित थी तब से एक बच्चे को गोद लेने का सपना देख रही थी। “शादी करने के बाद, मैं और वासु, हम दोनों को लगा कि हमें एक बच्चे की ज़रूरत है। एक बच्चे को गोद लेना मेरे लिए एक बहुत पुरानी इच्छा और एक सपना था। लेकिन वासु से शादी करने के बाद, यह आशा अब एक असलियत लग रही थी। इसलिए, हमने कुछ अनाथालयों से संपर्क किया, लेकिन उन्होंने हमें बच्चा देने से इनकार कर दिया कि एक ट्रांसजेंडर को ज्यादातर यौनकर्मी और भिखारी के रूप में सड़कों पर देखा जाता है। उनकी धारणा थी कि अगर वे हमें बच्चा देते हैं तो डिफ़ॉल्ट रूप से बच्चा सेक्स वर्क या भीख मांगने के लिए मजबूर होगा, लेकिन हमारे साथ ऐसा नहीं है, मैं अपने बच्चे को यह तय करने दूंगी कि वह जीवन में क्या करना चाहता है। यह पूरी तरह से उसका निर्णय होगा।

एक महिला और एक नारीवादी के रूप में, मुझे एक बच्चे को एक बच्चे के रूप में देखने की जरूरत है। निर्धारित सेक्स लड़का या पुरुष हो सकता है लेकिन मुझे इसे अपने बच्चे के लिए कुछ भी तय नहीं करना चाहिए। मैं चाहती हूं कि वह एक ऐसे बच्चे के रूप में बड़ा हो जो खुद तय कर सके कि वह कोनसा  लिंग को खुद देना चाहता है, ”पद्मशाली कहती है जिन्होंने  अपने बेटे को अपनी बहन के रिश्तेदार से गोद लिया था।

हालाँकि, उसके बेटे की एक झलक ही उसको बहुत खुश कर देती है । हमसे अधिक, दोनों परिवार (वह और उसके द्वारा अपनाए गए लोग) वास्तव में खुश हैं. वह मेरे पूरे परिवार के साथ रहता है और पूरा परिवार सिर्फ उसकी देखभाल कर रहा है और उससे प्यार कर रहा है और उसने हम सभी को एक -दूसरे के करीब ला दिया है।

Recent Posts

रानी रामपाल: कार्ट पुलर की बेटी ने भारत को ओलंपिक में एक ऐतिहासिक जीत दिलाई

भारतीय महिला हॉकी टीम ने सोमवार (2 अगस्त) को तीन बार की चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को…

9 hours ago

टोक्यो ओलंपिक: गुरजीत कौर कौन हैं ? यहां जानिए भारतीय महिला हॉकी टीम की इस पावर प्लेयर के बारे में

मैच के दूसरे क्वार्टर में गुरजीत कौर के एक गोल ने भारतीय महिला हॉकी टीम…

9 hours ago

मंदिरा बेदी ने कहा जब बेटी तारा हसने को बोले तो मना कैसे कर सकती हूँ?

मंदिरा ने वर्क आउट के बाद शॉर्ट्स और टॉप में फोटो शेयर की जिस में…

9 hours ago

क्रिस्टीना तिमानोव्सकाया कौन हैं? क्यों हैं यह न्यूज़ में?

एथलीट ने वीडियो बनाया और इसे सोशल मीडिया पर साझा करते हुए कहा कि उस…

10 hours ago

लखनऊ कैब ड्राइवर मारपीट वीडियो : DCW प्रमुख स्वाति मालीवाल ने UP पुलिस से जांच की मांग की

लखनऊ कैब ड्राइवर मारपीट वीडियो मामले में दिल्ली महिला आयोग (DCW) की प्रमुख स्वाति मालीवाल…

11 hours ago

स्टडी में सामने आया कोरोना पेशेंट के आंसू से भी हो सकता है कोरोना

कोरोना की दूसरी लहर फिल्हाल थमी ही है और तीसरी लहर के आने को लेकर…

11 hours ago

This website uses cookies.