करीब एक दशक तक प्रसिद्ध कानून फर्मों के साथ काम करने के बाद, अर्चना खोसला ने दस महीने पहले अपने स्वयं के कानूनी फर्म, वर्टेस पार्टनर्स को शुरू करने का फैसला किया। इस के लिए उन्हें प्रेरणा खुद के लिए काम करने की गहरी इच्छा से मिली क्योंकि तब तक वह केवल किसी और के सपनों का निर्माण करने में मदद करती थी.

image

जोखिमों के बारे में बहुत सोच विचार करने के बाद, उन्होंने एन्त्रेप्रेंयूर बनने का निर्णय लिया. ‘हर उपलब्धि प्रयास करने के निर्णय से मिलती है’, उन्होंने कहा.

अर्चना ने जोर दिया कि एन्त्रेप्रेंयूर्शिप बहुत आकर्षक लगती है परन्तु यह वास्तव में एक बहुत ही अकेली यात्रा है जिसके लिए निरंतर प्रेरणा की आवश्यकता होती है।

गोलपोस्ट शिफ्ट होते रहते हैं और चुनौतियां आगे बढ़ती रहती हैं – प्रारंभिक व्यवसाय योजना के प्रारंभिक चरण से लेकर पिच डेक तक, अवधारणा के सबूत के निर्माण के लिए न्यूनतम व्यावहारिक उत्पाद की स्थापना तक , चुनौतियों की कोई कमी नहीं होती.

पढ़िए : मथुरा में 1200 बीमार गायों का ध्यान रखती हैं फ्रिडेरेकी इरिना ब्रूनिंग

इन चुनौतियों का सामना एक बहुत ही सकारात्मक मन फ्रेम के साथ किया जाना चाहिए। मेन्टोरिंग से बहुत आवश्यक मार्गदर्शन, दृष्टि और समर्थन मिलता है जो आगे बढ़ने के लिए एक प्रमुख आवश्यकता बन जाते हैं।

जब यह सलाह देने की बात आती है, अर्चना बताती हैं कि कोई भी “वन साइज फिट्स आल’ दृष्टिकोण से नहीं चलता है.

कुछ पहलुओं को ध्यान में रखते हुए ध्यान देने की आवश्यकता हो सकती है:

१. हमेशा स्वयं से पूछिए कि आपको मेंटोर की आवश्यकता क्यों पड़ रही है? क्या आपको इसकी ज़रूरत है क्योंकि आप किसी पड़ाव पर फ़स गए हैं या क्योंकि यह एक पीयर प्रेशर है?

२. आप अपने मेंटर से किस प्रकार की सहायता कि उम्मीद कर रहे हैं?

३. क्या आपकी मेंटर के साथ बात-चीत बिलकुल ट्रांसपेरेंट है? क्या आप “नेगेटिव” सुनने के लिए भी तत्पर हैं या केवल मेंटोर के ज्ञान के लाभ उठाना चाहते हैं?

वह कहती हैं, “अपने मेंटोर को कभी ग्रांटेड नहीं लेना चाहिए.कई बार लोग व्यावसायिकता का एक सार लाकर मेंटोर के महत्व्व को काम करने कि कोशिश करते हैं जो कभी-कभी मेंटोर  का व्यक्तिगत अपमान भी हो सकता है। इस संबंध में छोटे तत्व अधिक महत्वपूर्ण हैं। ”

पढ़िए : मेजर वंदना शर्मा एक समान दुनिया का निर्माण करना चाहती हैं

Email us at connect@shethepeople.tv