कामकाजी माताओं को सदा दुःख और दोषिता की भावनाओं से गुज़ारना पढ़ता है : मंदिरा सेन

Published by
admin

हमारे जैसे देश में एक कामकाजी महिला होना एक उपलब्धि है और यदि आप एक माँ हैं और साथ साथ काम भी करती हैं तो वह एक दोगुनी उपलब्धि है.

एक नारीवादी प्रकाशन कंपनी की फाउंडर मंदिरा सेन ने कामकाजी महिलाएं और मातृत्व के विषय में कहा,”अगर एक महिला मध्यम वर्ग से जुड़ी है, तो उसे शायद थोड़ा अधिक विकल्प और समर्थन मिले, लेकिन साधारण कार्यकर्ता महिला ने हमेशा काम ही किया है। ”

उन्होंने कहा, “वह काम करती थी क्योंकि उन्हें करना पड़ता था, और जब उसे करना पड़ता था, तब वह किसी और के साथ बच्चे को छोड़ देती है. तो बहुत दुख महसूस होता है महिलाओं को जो मज़दूर वर्ग की होती हैं। और ये ऐसी महिलाएं हैं जो समाज से कोई समर्थन नहीं प्राप्त करती हैं, जिसमें उनके परिवार भी शामिल हैं। ”

पढ़िए :जानिए किस प्रकार अपने भोजन के जूनून को इंदरप्रीत नागपाल ने अपने अचार के व्यवसाय में बदला

समर्थन प्रणाली की कमी एक मुख्य कारण यह है जिसके कारण आज की महिलाएं घर से काम करना पसंद करती हैं.

लेखिका किरण मंराल के साथ हमारे पहले इंटरव्यू में कहा, “काम कर रही माँ के लिए भारत में चाइल्डकैयर एक बहुत बड़ी मुश्किल है. छोटे बच्चों के लिए पर्याप्त संगठित और विश्वसनीय डेकेयर नहीं हैं, कार्यस्थल और घर के बीच अक्सर बहुत दूरी होती हैं. जब तक बच्चे के लिए घर में कोई परिवार का सदस्य (एक सास या मां), यह एक छोटे बच्चे और काम के साथ संतुलन बनाना एक बहुत बड़ी चुनौती हैं.

लेकिन महिलाओं के आंदोलन और नारीवाद के प्रचार के कारण अब इस विषय में खुले में बात होने लगी हैं.

पढ़िए :जानिए चेतना करनानी किस प्रकार तीन व्यवसाय संभालती हैं

मंदिरा, जो भटकल और सेन की फाउंडर हैं और अब एक दशक से अधिक समय से महिलाओं के लेखों के काम प्रकाशित कर रही हैं का तर्क है कि यदि नारीवाद सफल हुआ है और समाज में बदलाव लाया है, यह केवल मध्यवर्ग की महिलाओं के लाभ के लिए हुआ है ।

अब हमारे पास एक सांस्कृतिक कॉर्पोरेट परिवर्तन तो है, लेकिन जब तक सामाजिक परिवर्तन नहीं आता है, तब तक माताओं को दोषिता की भावना का सामना करना पड़ेगा, भले ही वे हर दिन काम पर जाये.

पढ़िए :जानिए बीना राव हजारों बच्चों की जिंदगी कैसे बदल रहे हैं

Recent Posts

Marital Rape: बंद गेट के पीछे का सेक्सुअल वायलेंस हम इंग्नोर नहीं कर सकते हैं

एक महिला के लिए तब आवाज उठाना बहुत मुश्किल होता है जब रेप करने वाला…

13 hours ago

Ram Mandir Saree: उत्तर प्रदेश के चुनाव से पहले साड़ी पर मोदी, योगी और राम मंदिर हुए वायरल

अहमदाबाद के एक पत्रकार ने वीडियो शेयर की थी जिस में अयोध्या के थीम पर…

18 hours ago

Loop Lapeta Online Release: क्या आप लूप लपेटा फिल्म ऑनलाइन देखने का इंतज़ार कर रहे हैं? जानिए जरुरी बातें

तापसी पन्नू हमेशा से ऐसी फिल्में लेकर आती हैं जो कि महिलाओं को हमेशा एक…

19 hours ago

मुलायम सिंह की बहु BJP में शामिल हुई, अखिलेश यादव की बात पर कहा “राष्ट्र धर्म” सबसे ऊपर है

अपर्णा का कहना है कि उनको बीजेपी की नीतियां और काम करने का तरीका बेहद…

20 hours ago

अपर्णा यादव कौन हैं? मुलायम सिंह की छोटी बहु ने बीजेपी ज्वाइन की

अपर्णा यादव की शादी मुलायम सिंह के छोटे बेटे प्रतीक यादव की बहु है। इन्होंने…

20 hours ago

Gehraiyaan Trailer Release Date: दीपिका पादुकोण की गहराइयाँ फिल्म का ट्रेलर कब होगा रिलीज़

दीपिका ने बताया है कि कैसे डायरेक्टर बत्रा और संजय लीला भंसाली स्क्रिप्ट में और…

22 hours ago

This website uses cookies.