हमले का वीडियो वायरल होने के बाद हर जगह सनसनी फैल गई। सोशल मीडिया पर पोस्ट की गई तस्वीरों में एक फोटो में एक व्यक्ति ज़बरदस्ती डंडा पकड़कर उस लड़की से सवाल पूछते हुए दिखाया गया है, जबकि दूसरे को खून से लथपथ पीड़ित के साथ सेल्फी लेते देखा गया।

image

केरल पिछले साल उस समय काफी सदमे में था, जब एक आदिवासी युवती मधु (27) को पलक्कड़ के अट्टापडी में वहाँ के लोगों ने एक दुकान से खाने का सामान चुराने के आरोप में मार डाला था। ऐसा लगता है, राज्य को अब अन्याय के लिए हिसाब चुकाने का समय आ गया है।

सभी बाधाओं पार करते हुए, उसकी बहन चंद्रिका, पूरी मेहनत के साथ अपनी बहन के साथ हुए अन्याय का बदला लेने आई है। वह उन 74 आदिवासियों में से एक हैं, जो बुधवार को त्रिशूर में एक पुलिस अधिकारी के रूप में पुलिस ट्रेनिंग कॉलेज से पास आउट हुईं। केरल पुलिस के साथ चंद्रिका ने मार्च करते हुए उसकी माँ , मल्ली ने आंसुओं के साथ देखा।

मैं कड़वी यादों को पीछे छोड़ते हुए आगे बढ़ना चाहती हूं। एक पुलिस अधिकारी के रूप में, मैं सभी पीड़ितों को न्याय सुनिश्चित करूंगी , ”बी.कॉम ग्रेजुएट ने कहा। वह एक विशेष भर्ती अभियान के माध्यम से दल का हिस्सा बनी। राज्य के पुलिस महानिदेशक लोकनाथ बेहरा ने त्रिशूर में केरल पुलिस अकादमी में हुई पासिंग आउट परेड के बाद व्यक्तिगत रूप से उन्हें बधाई दी।

हमले का वीडियो वायरल होने के बाद केरल में सनसनी फैल गई। बुरी तरह से घायल मधु काफी प्रताड़ित कर उसे पुलिस के हवाले कर दिया गया लेकिन फरवरी 2018 में अस्पताल ले जाते समय उसकी मौत हो गई। बाद में, उसकी माँ ने कहा कि वह आदिवासी जीवन जीती थी और गुफाओं में रहती थी और हो सकता है कि भूख के कारण उसने भोजन चुरा लिया हो। । विशेष जांच दल ने ज़बरदस्ती हत्या के मामले में 16 लोगों को गिरफ्तार किया था।

यह राज्य की पहली बटालियन है जिसमें तीन जिलों, वायनाड, इडुक्की और पलक्कड़ के आदिवासी कैडेट शामिल हैं। प्रशिक्षण अकादमी के एक अधिकारी ने कहा कि एक वर्ष के कठोर प्रशिक्षण के दौरान, अधिकारियों को मार्शल आर्ट, तैराकी, ड्राइविंग, हाई-अलटीटुडे फाइटिंग और बचाव कार्यों का प्रशिक्षण दिया गया। उन्हें उनके घरों के पास जंगलों के किनारे के इलाकों में तैनात किया जाएगा। 74 कैडेटों में 24 महिलाएं हैं।

Email us at connect@shethepeople.tv