जानिए कैसे बसंतिका बागरी शर्मा की ऑनलाइन कम्युनिटी माता-पिता की मदद करती है

Published by
admin

उद्यमी बसंतिका बाग्री शर्मा ने अपने वेंचर किड्यूकेट नामक समुदाय को माता-पिता का, माता-पिता के द्वारा और माता-पिता के लिए संबोधित किया है। यह उन माता-पिता के लिए है जो अपने बच्चे के लिए करिकूलर और एक्स्ट्रा – करिकुलर गतिविधियों के संदर्भ में अच्छे से अच्छा परिणाम प्राप्त करना चाहते हैं। इस प्लेटफ्रॉम के द्वारा माता-पिता वास्तव में एक दूसरे से जुड़ते हैं और अन्य माता-पिता की सहायता करते हैं और उन्हें अलग अलग क्लासेस में पढ़ रहे बच्चों के विषय में रिव्यु देते हैं.

यह माता-पिता का इसलिए है क्यूंकि माता-पिता ऐसे कई उपयोगी रिसोर्सेज के विषय में पोस्ट करते हैं, जिनको वे अपने बच्चे की आवश्यकताओं के लिए उपयोग कर सकते हैं।

शादी करने के लिए अपने दोस्तों के सर्कल में आखिरी व्यक्ति होने के नाते, बसंतिका ज्यादातर अपने दोस्तों के साथ रही हैं जब उनके दोस्त चर्चा कर रहे होते थे कि वे अपने बच्चों को कौन से विद्यालय में दाखिला दिलाएं- उन्हें नहीं पता था कि कैसे उपलब्ध विकल्पों में से चुनाव किया जाए। जब उन्होंने अपनी बेटी सितारा के समय में पहली बार इस समस्या का सामना किया, तब इस इंटीरियर डिजाइनर और अर्ली चाइल्डहुड एडुकेटर ने एक समाधान निकालने के निर्णय लिया।

“मुझे पता था कि यह बहुत अच्छा होगा यदि सभी बच्चे-संबंधी संसाधन एक साथ इकट्ठे होंगे ताकि जानकारी का आदान-प्रदान और गुण-दोष निरूपण किया जा सके।”

“मुझे पता था कि यह बहुत अच्छा होगा यदि सभी बच्चे-संबंधी संसाधन एक साथ इकट्ठे होंगे ताकि जानकारी का आदान-प्रदान और गुण-दोष निरूपण किया जा सके या किसी के माता-पिता करिकूलर और एक्स्ट्रा-करिकूलर के बारे में जानकारी, समीक्षा, फीडबैक, या अपने बच्चे को किस एक्टिविटी में दाखिला कराना चाहिए, इसकी जानकारी चाहते हैं तो यह सबसे बढ़िया साधन होगा। यह बच्चों के माता-पिता को किसी भी अस्पष्टता या किसी कक्षा या किसी गतिविधि के बारे में संदेह से बचाने में मदद करेगा जिसमें वे अपने बच्चे को हिस्सा दिलाना चाहते हों।

पढ़िए : एंटरप्रेंयूर्शिप कमज़ोर-दिल वालों के लिए नहीं है, कहती हैं डॉक्टर से लेखिका बनी चार्मैन रथीश

यह मेरे जैसे और सभी माता-पिता के लिए एक सपने जैसा होगा कि वे किसी भी समय, कहीं भी, एक बैंक का उपयोग कर सकते हैं क्यूंकि इस बैंक में दी गई जानकारी हर तरह से प्रत्यक्ष और तत्काल होगी चाहे उनके बच्चे की उम्र कुछ भी हो! और फिर एक समय आया जहां लोगों ने सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट्स के माध्यम से ई-कॉमर्स प्लेटफार्मों का उपयोग करना आरम्भ कर दिया.

लगभग उसी समय किड्यूकेट का जन्म हुआ, जब मैं अपने काम से एक अवकाश लेकर घर बैठी थी!

बसंतिका को हाल ही में सोशल नेटवर्क के मुख्य ऑपरेटिंग ऑफिसर शेरिल सैंडबर्ग से फेसबुक पर एक मैसेज मिला। अमेरिकन स्कूल ऑफ बॉम्बे की पूर्व शिक्षक ने अपने इस अनुभव का वर्णन अविश्वसनीय रूप से किया है – उन्होंने यह भी स्वीकार किया कि इस पोस्ट को उन्होंने अनगिनत बार पढ़ लिया होगा और यह अभी भी उन्हें पूरी तरीके से इसका यकीन नहीं होता है.

“मेरा परिवार, मेरे मित्रों और शुभचिंतकों के अलावा शेरिल सैंडबर्ग के पोस्ट ने मुझे अगले कदमों की योजना बनाने के लिए प्रेरित किया है”.

अपनी बेटी, जो पूर्वस्कूली है, की देखभाल करने के साथ-साथ एक नवप्रवर्तित कंपनी का प्रबंध करना और विकास करना किसी कमाल से कम नहीं है।

“मैं सचमुच इच्छा रखती हूँ कि अर्ली चाइल्डहुड एजुकेशन सिस्टम बच्चों को एक शैक्षिक स्कूल वर्ष के दौरान निर्धारित पाठ्यक्रम पढ़ाए जाने की बजाय जीवन कौशल की ओर विकसित करे जो की जीवन भर उनकी मदद करेगा।”

पूर्णकालिक एन्टेर्प्रेनुएर बनने की दहलीज पर, बसंतिका खुद को हर दिन और हर घंटे चुनौतियों से घिरा महसूस करती हैं- अगले चरण के सन्दर्भ में, वेबसाइट तैयार करने के सन्दर्भ में, आदि! और अपनी बेटी, जो पूर्वस्कूली है, की देखभाल करने के साथ-साथ अपनी नयी कंपनी का प्रबंध करना और विकास करना किसी कमाल से कम नहीं है।

वह कहती हैं, “मेरा एकमात्र इरादा हमारे समुदाय के बच्चों के लिए सीखने के अनुभव प्रदान करना था। कुछ ऐसा जो उन्हें उन सिस्टम्स के बारे में समझाए जिसमें वे रह रहे हैं, इन सिस्टम्स की प्रक्रिया क्या है और वे काम कैसे करती हैं.”

उन्हें उम्मीद है कि उनका वेंचर एक अर्ली चाइल्डहुड एनरिच्मेंट सेंटर के रूप में विकसित हो सकता है, जो आत्मनिर्भरता को बढ़ावा देता है और बच्चों को अपने स्वयं के कार्यों से सीखने के लिए अवसर प्रदान करता है।

बसंतिका बच्चों के जीवन के प्रारंभिक वर्षों की शिक्षा के बारे में गहराई से ध्यान देती हैं और उन्हें लगता है कि यही उनका असली जुनून है – प्रीस्कूलर्स को खुद को एक नए तरीके से खोजते हुए देखना! हालाँकि कुछ शिक्षा निकायों ने इस दिशा में कुछ हद तक आगे बढ़ना शुरू कर दिया है, अभी भी हमें एक लंबा रास्ता तैय करना है अपने बच्चों को आजीवन शिक्षार्थी के रूप में देखने के लिए।

“मैं सचमुच इच्छा रखती हूँ कि अर्ली चाइल्डहुड एजुकेशन सिस्टम बच्चों को एक शैक्षिक स्कूल वर्ष के दौरान निर्धारित पाठ्यक्रम पढ़ाए जाने की बजाय जीवन कौशल की ओर विकसित करे जो की जीवन भर उनकी मदद करेगा।”, वह अंत में कहती हैं.

पढ़िए : एक नए अंदाज़ के साथ घर की सजावट करती प्रेरणा दुगर से मिलिए

 

Recent Posts

क्या घर के काम सिर्फ़ महिलाओं की ज़िम्मेदारी है ?

"घर के काम महिलाओं की जिम्मेदारी है।" ये हम सालो से सुनते आए है। चाहे…

1 hour ago

Advantages and Disadvantages of Coffee: क्या कॉफ़ी पीना ख़राब होता है? जानिये कॉफ़ी पीने के फ़ायदे और नुक्सान

'ऐक्सेस ऑफ एवरीथिंग इज बैड ' ज्यादा कॉफी का सेवन करना भी सेहत के लिए…

2 hours ago

Slut Shaming : इंडिया में महिलाओं को लेकर स्लट शेमिंग क्यों है आम बात, आख़िर कब बदलेगी लोगो की सोच?

इंडिया में स्लट शेमिंग क्यों है आम बात, उनकी छोटी सोच की वहज से? आख़िर…

2 hours ago

लखनऊ कैब ड्राइवर लड़की की एक और वीडियो हुई वायरल Lucknow Cab Driver Case Girl

इस वीडियो में प्रियदर्शिनी उस आदमी को डरा धमका भी रही हैं और कह रही…

2 hours ago

Mirabai Chanu Rewards Truck Driver : ओलंपियन मीराबाई चानू ने ट्रक ड्राइवरों को रिवार्ड्स दिए

मीराबाई अपने घर के खर्चे कम करने के लिए इन ट्रक के ड्राइवर से फ्री…

3 hours ago

Happy Birthday Kajol : जानिए काजोल के 5 पावरफुल मदरहुड कोट्स

जैसे जैसे काजोल उम्र में बड़ी होती जा रही हैं यह समझदार होती जा रही…

4 hours ago

This website uses cookies.