महिला एन्त्रेप्रेंयूर्स अपने शानदार स्टार्ट-अप विचारों और समान रूप से प्रभावी एक्सेक्यूशन योजनाओं के साथ इस क्षेत्र में शासन कर रही हैं. यह खुशी की बात है कि अधिक से अधिक महिलाएँ खुद पर विश्वास करके एंटरप्रेंयूर्शिप में प्रवेश कर रही हैं.

image

अच्छी खबर यह है कि भारत महिलाओं द्वारा संचालित होने वाले व्यापारों की संख्या में विकास देख रहा है। शैली चोपड़ा,जो शीदपीपल.टीवी और गोल्फ इंडियन की फाउंडर हैं, सोचती हैं कि एन्त्रेप्रेंयूर्शिप महिलाओं के लिए सशक्तिकरण कर सकती है। “एंटरप्रेंयूर्शिप महिलाओं को खुद को साबित करने के बहुत से अवसर दे रहा है,” वे कहती हैं।

महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए एन्त्रेप्रेंयूर्शिप क्या कर सकती है जानने के लिए पढ़ें:

वित्तीय स्वतंत्रता

भारतीय महिलाओं को अर्थव्यवस्था या उसको संभालने में कभी भागीदार नहीं समझा जाता। क्योंकि कोई भी व्यापार आरम्भ करने के लिए शुरू से शुरुवात करनी पड़ती है इसलिए एक सुरक्षित भविष्य के लिए एन्त्रेप्रेंयूर्स महिलाओं को सावधानी से निवेश करने और बहुत कुछ सीखने के अनेकों अवसर प्रदान करती है।

एक नए अंदाज़ के साथ घर की सजावट करती प्रेरणा दुगर से मिलिए

आत्मसम्मान और आत्मविश्वास की भावना

सभी महिला एन्त्रेप्रेंयूर्स के लिए सबसे पहला परिवर्तन आता है कि वे आत्मविश्वास में अचानक वृद्धि महसूस कर पाती हैं. सदियों से महिलाओं को हमारे समाज की पुरुषवादी मानसिकता के कारण दबाया गया है। लेकिन अब महिलाएँ अवसरों को स्वीकारकर कुछ बड़ा करने की दिशा में काम कर रही हैं.

पढ़िए : मिलिए आंड्ररा तंशिरीन से – हॉकी विलेज की संस्थापक

रूढ़िवादी सोच को ख़त्म करना

“महिलाएँ व्यवसाय नहीं कर सकती”, “वे अंकों के खेल में अच्छी नहीं हैं”, “यह एक पुरुष का काम है”, “हर महिला की सफलता के पीछे एक आदमी होता है”, ऐसे कई विचार हैं जिन्होंने महिलाओं को एन्त्रेप्रेंयूर्स से इतने लंबे समय तक बाहर रखा है। मगर अब इस तरह के विचारों को तोड़ने का समय आ गया है। महिला एन्त्रेप्रेंयूर्स का ऐसी रूढ़िवादी सोच में विश्वास करने से इनकार करना, उनकी सफलता का सबसे महत्वपूर्ण कारण है।

क्योंकि यह अधिक महिलाओं को प्रोत्साहित करती है

महिलाओं की सफलता की कहानियां उनके जैसी और अधिक महिलाओं को अपनी क्षमता को पहचानने और अपने काम के प्रति जुनूनी बनने के लिए प्रेरित करती हैं। यह हमें मज़बूत महिलाओं के एक व्यापक समुदाय की कल्पना करने में मदद कर सकता है, जो उनके अनुभवों और कौशल के माध्यम से दूसरों को सशक्त बनाने के लिए काम कर रहे हैं।

इसकी लम्बी उम्र

एन्त्रेप्रेंयूर्शिप के बारे में गंभीरता से सोचने के लिए महिलाओं के पास सबसे महत्वपूर्ण कारणों में से एक है भारत में इसकी लंबी उम्र। आज एन्त्रेप्रेंयूर्शिप में महिलाओं के लिए एक्सपोज़र और सशक्त महसूस करने के लिए बहुत कुछ है।

फ्लेक्सिबिलिटी प्रदान करना

एक आम नौकरी आपके व्यक्तिगत जीवन पर बुरा असर डाल सकती है। अपनी आर्थिक स्वतंत्रता से समझौता किए बिना अपने बच्चों के साथ अनमोल क्षणों का आनंद लेने के लिए एन्त्रेप्रेंयूर्शिप की शक्ति का उपयोग क्यों न करें? आप पार्ट-टाइम काम कर सकती हैं, घर से काम के अवसरों का लाभ उठा सकती हैं और अपने जीवन को पूरी तरह से जी सकती हैं।

इसकी पहुंच

इंटरनेट युग महिलाओं के लिए एक वरदान है। एन्त्रेप्रेंयूर्शिप की बारीकियों को सीखना अब बहुत आसान हो गया हैं. आपके कौशल के साथ मिलकर एक अच्छा इंटरनेट कनेक्शन आपकी एन्त्रेप्रेंयूर्शिप जर्नी को एक अच्छी शुरुआत दे सकता है। दिलचस्प बात यह है कि ऐसे बहुत से ऑनलाइन प्लेटफार्म हैं जो कि सफल महिला एन्त्रेप्रेंयूर्स की कहानियों को कवर करती हैं ताकि वे अन्य महिलाओं को एंटरप्रेंयूर्शिप में खुद को आज़माने के लिए प्रेरित कर सकें।

पढ़िए : “इनोवेशन एन्त्रेप्रेंयूर्शिप का दिल है” – सुरभि देवरा

Email us at connect@shethepeople.tv