मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा की भावना देवरिया दुनिया की सबसे ऊंची पर्वत माउंट एवरेस्ट चढ़ने वाली राज्य की पहली महिला बनीं, जिन्होंने लीक हुए गैस सिलेंडर के कारण भयानक बाधाओं का सामना किया।

image

27 वर्षीय, छिंदवाड़ा के तामिया की रहने वाली और भोपाल से फिजिकल एजुकेशन  में पोस्ट ग्रेजुएशन  करने वाली भावना ने 22 मई को यह उपलब्धि हासिल की।

ऑक्सीजन सिलेंडर से अचानक गैस लीक होने लगी मुझे जीवित रहने के लिए लगभग 90 मिनट तक उस छेद पर जहाँ से गैस लीक हो रही थी वहाँ अंगूठा रखना पड़ा। मेरे साथ जाने वाले लोगो ने उस छेद को ठीक करने में मेरी मदद की, उसके बाद मैंने ट्रेक को फिर से शुरू किया, शिखर पर गई और तिरंगे को फहराया। ”

सिलिंडर में खराबी के बारे में बोलते हुए, देहरिया ने पीटीआई से कहा, “ऑक्सीजन सिलेंडर के नियामक ने लीक करना शुरू कर दिया। मुझे जीवित रहने के लिए लगभग 90 मिनट तक छेद पर अंगूठा रखना पड़ा जहाँ से गैस लीक हो रही थी । मेरे साथ जाने वाले लोगो ने मेरी मदद की उस लीक को ठीक करने में , उसके बाद मैंने ट्रेक को फिर से शुरू किया, शिखर पर गई और तिरंगे को फहराया। ”

बाकी उपलब्धियाँ हासिल करने वाले

अतीत में भी महिलाएं माउंट एवेरेस्ट पर चढ़ चुकी हैं। 13 वर्षीय, मालावत पूर्णा 2014 में शिखर पर पहुंचकर चर्चा का विषय बनी थी । एक असाधारण पर्वतारोही, अरुणिमा सिन्हा ने वर्ष 2013 में चोटी तक पहुंचने वाली पहली महिला एंप्यूटि के रूप में खुद को स्थापित किया। अंशु जामसेनपा दुनिया की दूसरी महिला है जिन्होंने एक सीज़न में दो बार माउंट एवरेस्ट के शिखर की चढ़ाई चढ़ी और 5 दिनों के भीतर ऐसा करने वाली पहली महिला बनी।

आशा झंजरया ने अपनी माउंट एवेरेस्ट को चढ़ने की चाहत के लिए 28 लाख रुपये का क़र्ज़ लिया । उन्होंने 2017 में माउंट एवेरेस्ट को फतह किया । इन महिलाओं को हमारा सलाम.

Email us at connect@shethepeople.tv