Categories: न्यूज़

निरंतर की पूर्णिमा गुप्ता

Published by
STP Team

निरंतर की पूर्णिमा गुप्ता कहती है की गावों की महीलाओं को पढ़ा लिखा करना देश इस ख़ास ज़रूरत है. उनका कहना है की लिटरसी एक मात्रा पढ़ाई नही है बल्कि विकास की ओर एक और कदम है. ज़िंदगी के हर पहलू में शिक्षा का उपयोग होता है, चाहे वो काम में हो या जीने का मज़ा लेने में. गुप्ता जी का काम आसान नही है क्योंकि वह बताती है की गावों में अधिकतर लोग निरक्षर है और उनके कोशिश है की वायसक साक्षरता के ज़रीय इसको बदला जाए.

औरतों को पढ़ना आसान नही है और ना ही उनके लिए टीचर मिलना. समस्या कुछ ऐसे भी है की कॅस्ट जैसे मुद्दे टीचिंग के काम के बीच बढ़ा डालते है. पूर्णिमा गुप्ता से बातचीत कर रही है पूर्वी गुप्ता शी द पीपल से

 

Recent Posts

श्रद्धा कपूर के बारे में 10 बातें

1. श्रद्धा कपूर एक भारतीय एक्ट्रेस और सिंगर हैं। वह सबसे लोकप्रिय और भारत में…

42 mins ago

सुष्मिता सेन कैसे करती हैं आज भी हर महिला को इंस्पायर? जानिए ये 12 कारण

साल 1994 में सुष्मिता सेन ने भारत के लिए पहला "मिस यूनिवर्स" खिताब जीता था।…

60 mins ago

केरल रेप पीड़िता ने दोषी से शादी की अनुमति के लिए SC का रुख किया

केरल की एक बलात्कार पीड़िता ने शनिवार को सुप्रीम कोर्ट का रुख कर पूर्व कैथोलिक…

3 hours ago

टोक्यो ओलंपिक : पीवी सिंधु सेमीफाइनल में ताई जू से हारी, अब ब्रॉन्ज़ मैडल पाने की करेगी कोशिश

ओलंपिक में भारत के लिए एक दुखद खबर है। भारतीय शटलर पीवी सिंधु ताई त्ज़ु-यिंग…

4 hours ago

वर्क और लाइफ बैलेंस कैसे करें? जाने रुटीन होना क्यों होता है जरुरी?

वर्क और लाइफ बैलेंस - बहुत बार ऐसा होता है जब हम अपने काम में…

4 hours ago

योग क्यों होता है जरुरी? जानिए अनुलोम विलोम करने के 5 चमत्कारी फायदे

अनुलोम विलोम करने से अगर आपके फेफड़ों में किसी तरह की कोई विषैली गैस होती…

4 hours ago

This website uses cookies.