न्यूज़

नॉएडा की लड़कियों ने मैत्री ऐप बनाकर विदेश में लहराया भारत का झंडा

Published by
Ayushi Jain

नोएडा की पांच लड़कियों ने एक मोबाइल ऐप बनाया है। मैत्री नाम की इस ऐप का मुख्य लक्ष्य वृद्धाश्रम के वरिष्ठ लोगो को अनाथालयों  के अकेले बच्चों से जोड़ता है। उनके इस उत्तम विचार के लिए इन लड़कियों ने अमेरिका में वैश्विक तकनीकी प्रतियोगिता में ब्रोंज मैडल जीता है। लड़कियों ने कहा कि मैत्री नाम की इस ऐप का उद्देश्य अकेलेपन से पीड़ित व्यक्तियों को एक साथ लाना है। ज़्यादातर माता -पिता जिनको उनके बच्चे वृद्धाश्रम छोड़ जाते ही और ऐसे लाखो बच्चे जो अनाथालय में अकेले रहते है, जिन्हे माता -पिता का प्यार चाहिए होता है दोनों ही एक दूसरे का अकेलापन दूर करेंगे ।

गूगल प्लेस्टोर पर मुफ्त में उपलब्ध यह ऐप उपयोगकर्ताओं को वृद्धाश्रम और अनाथालय में दान करने की भी अनुमति देता है। इस ऐप के डेवलपर्स में अनन्या ग्रोवर, वंशिका यादव, वसुधा सुधीर, अनुष्का शर्मा और आरिफ़ा, सभी कक्षा 12 की छात्राएँ शामिल हैं। जिन्होंने कहा कि वे “एक पुरुष प्रधान समाज में टेक्नोलॉजी के स्टीरियोटाइप को बदलना चाहते हैं”।

लड़कियों ने कहा, “हम आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) और टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में लड़कियों के स्टीरियोटाइप को तोड़ना नहीं चाहते हैं। अनन्या ग्रोवर ने कहा कि वे टेक्नोलॉजी में करियर बना सकते हैं।”

ये लड़कियां इस महीने लड़कियों के लिए दुनिया की सबसे बड़ी तकनीक और उद्यमिता कार्यक्रम टेक्नोवेशन चैलेंज में भाग लेने के लिए सैन फ्रांसिस्को, यूएस गईं थी । जहां उन्होंने अपने नए  ऐप मैत्री के लिए कांस्य पदक हासिल किया। मैत्री नामक ऐप वृद्धावस्था वाले घरों और अनाथालयों को जोड़ने और व्यवस्थित करने की अनुमति देता है। इस प्रकार बच्चों और वरिष्ठ नागरिकों को एक साथ समय बिताने की सुविधा मिलती है। ऐप को अब तक 1,000 से अधिक लोगो द्वारा  डाउनलोड लिया गया हैं और 13 पुराने घरों और 7 अनाथालयों को इसके माध्यम से जोड़ा गया है।

लड़कियों में से एक ने कहा कि अपने शुरुआती चरण के दौरान हम केवल दिल्ली-एनसीआर के क्षेत्र पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं, लेकिन वह अधिक से अधिक अनाथालयों और वृद्धाश्रमों को रजिस्टर करके इस ऐप को पूरे भारत में लागू करने की योजना बना रहे हैं। इस ऐप का विचार सामाजिक कल्याण के लिए उन सबके जुनून से उत्पन्न हुआ है।

टेक्नोवेशन चैलेंज लड़कियों के लिए दुनिया का सबसे बड़ा प्रौद्योगिकी और उद्यमिता कार्यक्रम है, जो 100+ देशों में चलता है। यह कार्यक्रम सेल्सफाॅर्स ।org, गूगल।org, अडोब फाउंडेशन, उबेर, सैमसंग, बीऍनवाय मेलोन  के साथ-साथ यूनेस्को, पीस कॉर्प्स और यूऍन  द्वारा समर्थित है। अब मैत्री के डेवलपर्स अपने परिचालन के पहले वर्ष के लिए आवश्यक निवेश, 40,000 अमरीकी डालर की उम्मीद कर रहे हैं।

Recent Posts

Fab India Controversy: फैब इंडिया के दिवाली कलेक्शन का लोग क्यों कर रहे हैं विरोध? जानिए सोशल मीडिया का रिएक्शन

फैब इंडिया भी अपने दिवाली के कलेक्शन को लेकर आए लेकिन इन्होंने इसका नाम उर्दू…

7 hours ago

Mumbai Corona Update: मुंबई में मार्च से अब तक कोरोना के पहली बार ज़ीरो डेथ केस सामने आए

मुंबई में लगातार कई महीनों से केसेस थम नहीं रहे थे। पिछली बार मार्च के…

8 hours ago

Why Women Need To Earn Money? महिलाओं के लिए फाइनेंसियल इंडिपेंडेंस क्यों हैं ज़रूरी

Why Women Need To Earn Money? महिलाएं आर्थिक रूप से स्वतंत्र हैं, तो वे न…

9 hours ago

Fruits With Vitamin C: विटामिन सी किन फलों में होता है?

Fruits With Vitamin C: विटामिन सी सबसे आम नुट्रिएंट्स तत्वों में से एक है। इसमें…

9 hours ago

How To Stop Periods Pain? जानिए पीरियड्स में पेट दर्द को कैसे कम करें

पीरियड्स में पेट दर्द को कैसे कम करें? मेंस्ट्रुएशन महिला के जीवन का एक स्वाभाविक…

9 hours ago

This website uses cookies.