न्यूज़

पद्मश्री अवार्डी योग दादी नानाम्मल का 99 वर्ष की उम्र में निधन

Published by
Ayushi Jain

99 साल की उम्र में, योग शिक्षिका नानम्मल ने 26 अक्टूबर, 2019 को तमिलनाडु के कोयम्बटूर के पास अपने घर पर अंतिम सांस ली। वह लोगो के बीच योग दादी के नाम से जानी जाती थीं और लगभग सैकड़ों छात्रों को योग सिखाती थीं जो आज खुद योग प्रशिक्षक हैं। उनके द्वारा तैयार किए गए छात्र सिंगापुर, मलेशिया, यूनाइटेड किंगडम, चीन, संयुक्त राज्य अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया जैसे कई स्थानों पर गए हैं।

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 2016 पर, उन्हें भारत के राष्ट्रपति द्वारा योग में उनकी प्रतिभा, कौशल और उत्कृष्टता के लिए नारी शक्ति पुरस्कार और 2019 में पद्मश्री पुरुस्कार से सम्मानित किया गया था।

जनवरी 2019 में पद्म श्री से सम्मानित किया गया

लोगों को खुशहाल जीवन जीने की दिशा में उनके प्रयासों को पहचानने की कोशिश में, योग दादी नानामल को जनवरी 2019 में पद्म श्री से सम्मानित किया गया था। उन्होंने कसम खाई थी कि वह 100 साल की उम्र के बाद भी लोगों को प्रशिक्षित करना जारी रखेंगी। वह किसानों के परिवार से है और अपने दादा दादी को ऐसा करते देख कर योग करने लगी।

10 साल की उम्र में योग करना शुरू किया

नानम्मल का जन्म 1920 में हुआ था और 10. साल की उम्र में उन्होंने योग का अभ्यास करना शुरू कर दिया था। उन्होंने लगभग 600 योग प्रशिक्षकों को प्रशिक्षित किया था और इस लिस्ट में उनके खुद के परिवार से 36  लोग शामिल हैं। वास्तव में, उन्होंने जो प्रशिक्षक तैयार किए हैं, वे सिंगापुर, मलेशिया, यूनाइटेड किंगडम, चीन, संयुक्त राज्य अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों में दूसरों को ट्रेनिंग दे रहे हैं। वह अपने बेटे वी बालकृष्णन के साथ गणपति में भारती नगर में ओजोन योग केंद्र भी चलाती थीं।

नानाम्मल मोर मुद्रा, पुल मुद्रा, शीर्षासन और कमल मुद्रा सहित लगभग 50 योग आसान कर सकती थी। उन्हें योग का अभ्यास करने से कुछ भी नहीं रोक सका।

नानामल ने एक सिद्ध चिकित्सक के साथ शादी करने के बाद भी योग के प्रति अपने जुनून को बनाए रखा। इसके अलावा, वह दिन में कम से कम एक बार योग करती थी। उन्होंने प्रकृति के बहुत करीब से जीवन जिया है। शहर का दौरा करने और उसके लिए ट्रेनिंग लेने के लिए योग-प्रेरित लोगों को आगे बढ़ाने के प्रति उनका उत्साह कभी काम नहीं हुआ।

योग दादी लगभग 50 योगासन कर सकती थीं

नानाम्मल मोर मुद्रा, पुल मुद्रा, शीर्षासन और कमल मुद्रा सहित लगभग 50 योग आसान कर सकती थी। उन्हें योग का अभ्यास करने से कुछ भी नहीं रोक सकता था । वह साड़ी में भी योग कर सकती थीं। वह स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के समाधान में योग की भूमिका के बारे में लड़कियों के बीच जागरूकता पैदा करने के लिए भी समर्पित थी।

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 2016 पर, उन्हें योग में उनकी प्रतिभा, कौशल और उत्कृष्टता के लिए भारत के राष्ट्रपति द्वारा नारी शक्ति पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। इतना ही नहीं, बल्कि उन्हें द हिंदू के अनुसार, 2014 में कर्नाटक सरकार द्वारा योग रत्न पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था। कुल मिलाकर, उन्होंने 150 पुरस्कार और छह राष्ट्रीय स्तर पर गोल्ड मैडल प्राप्त किए हैं। उन्होंने कभी भी अपनी बीमारी के लिए किसी भी तरह का एलोपैथिक उपचार नहीं लिया और बदले में हमेशा उस के इस्तेमाल का विरोध किया।

Recent Posts

महिलाओं के राइट्स: क्यों सोसाइटी सिर्फ महिलाओं की ड्यूटीज से ही रहती है ऑब्सेस्ड?

आज भी सोसाइटी में कई लोगों का ये मानना है कि महिलाओं की सबसे पहली…

2 hours ago

रायसा लील: 13 साल में ओलिंपिक पदक जीतने के बाद सामने आया ये पुराना वायरल वीडियो

टोक्यो ओलंपिक्स में स्केटबोर्डिंग में इस साल ब्राज़ील की रायसा लील ने रजत पदक जीता…

4 hours ago

बंगाल की महिलाओं से जबरजस्ती पोर्न शूट कराया गया, मामला राज कुंद्रा से जुड़ा है

इन में से एक महिला ने कहा कि यह वीडियोस कई वेबसाइट पर पोस्ट की…

5 hours ago

क्यों टूटती हुई शादियों को नहीं मिलती है सोसाइटी की एक्सेप्टेन्स?

हमारे देश में सदियों से शादी को एक "पवित्र बंधन" माना गया है जिसका हर…

5 hours ago

हैप्पी बर्थडे कुब्रा सेठ, जानिए एक्ट्रेस कुब्रा सेठ के बारे में 5 बातें

कुब्रा सेठ इनके कक्कू के रोल के लिए फेमस हैं जो कि सेक्रेड गेम्स में…

6 hours ago

मुंबई: डॉक्टर ने ली थी टीके की दोनों खुराक फिर भी दो बार कोविड रिपोर्ट आई पॉजिटिव

मुंबई के एक 26 वर्षीय डॉक्टर की 13 महीनों में तीन बार पॉजिटिव रिपोर्ट आई…

6 hours ago

This website uses cookies.