99 साल की उम्र में, योग शिक्षिका नानम्मल ने 26 अक्टूबर, 2019 को तमिलनाडु के कोयम्बटूर के पास अपने घर पर अंतिम सांस ली। वह लोगो के बीच योग दादी के नाम से जानी जाती थीं और लगभग सैकड़ों छात्रों को योग सिखाती थीं जो आज खुद योग प्रशिक्षक हैं। उनके द्वारा तैयार किए गए छात्र सिंगापुर, मलेशिया, यूनाइटेड किंगडम, चीन, संयुक्त राज्य अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया जैसे कई स्थानों पर गए हैं।

image

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 2016 पर, उन्हें भारत के राष्ट्रपति द्वारा योग में उनकी प्रतिभा, कौशल और उत्कृष्टता के लिए नारी शक्ति पुरस्कार और 2019 में पद्मश्री पुरुस्कार से सम्मानित किया गया था।

जनवरी 2019 में पद्म श्री से सम्मानित किया गया

लोगों को खुशहाल जीवन जीने की दिशा में उनके प्रयासों को पहचानने की कोशिश में, योग दादी नानामल को जनवरी 2019 में पद्म श्री से सम्मानित किया गया था। उन्होंने कसम खाई थी कि वह 100 साल की उम्र के बाद भी लोगों को प्रशिक्षित करना जारी रखेंगी। वह किसानों के परिवार से है और अपने दादा दादी को ऐसा करते देख कर योग करने लगी।

10 साल की उम्र में योग करना शुरू किया

नानम्मल का जन्म 1920 में हुआ था और 10. साल की उम्र में उन्होंने योग का अभ्यास करना शुरू कर दिया था। उन्होंने लगभग 600 योग प्रशिक्षकों को प्रशिक्षित किया था और इस लिस्ट में उनके खुद के परिवार से 36  लोग शामिल हैं। वास्तव में, उन्होंने जो प्रशिक्षक तैयार किए हैं, वे सिंगापुर, मलेशिया, यूनाइटेड किंगडम, चीन, संयुक्त राज्य अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों में दूसरों को ट्रेनिंग दे रहे हैं। वह अपने बेटे वी बालकृष्णन के साथ गणपति में भारती नगर में ओजोन योग केंद्र भी चलाती थीं।

नानाम्मल मोर मुद्रा, पुल मुद्रा, शीर्षासन और कमल मुद्रा सहित लगभग 50 योग आसान कर सकती थी। उन्हें योग का अभ्यास करने से कुछ भी नहीं रोक सका।

नानामल ने एक सिद्ध चिकित्सक के साथ शादी करने के बाद भी योग के प्रति अपने जुनून को बनाए रखा। इसके अलावा, वह दिन में कम से कम एक बार योग करती थी। उन्होंने प्रकृति के बहुत करीब से जीवन जिया है। शहर का दौरा करने और उसके लिए ट्रेनिंग लेने के लिए योग-प्रेरित लोगों को आगे बढ़ाने के प्रति उनका उत्साह कभी काम नहीं हुआ।

योग दादी लगभग 50 योगासन कर सकती थीं

नानाम्मल मोर मुद्रा, पुल मुद्रा, शीर्षासन और कमल मुद्रा सहित लगभग 50 योग आसान कर सकती थी। उन्हें योग का अभ्यास करने से कुछ भी नहीं रोक सकता था । वह साड़ी में भी योग कर सकती थीं। वह स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के समाधान में योग की भूमिका के बारे में लड़कियों के बीच जागरूकता पैदा करने के लिए भी समर्पित थी।

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 2016 पर, उन्हें योग में उनकी प्रतिभा, कौशल और उत्कृष्टता के लिए भारत के राष्ट्रपति द्वारा नारी शक्ति पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। इतना ही नहीं, बल्कि उन्हें द हिंदू के अनुसार, 2014 में कर्नाटक सरकार द्वारा योग रत्न पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था। कुल मिलाकर, उन्होंने 150 पुरस्कार और छह राष्ट्रीय स्तर पर गोल्ड मैडल प्राप्त किए हैं। उन्होंने कभी भी अपनी बीमारी के लिए किसी भी तरह का एलोपैथिक उपचार नहीं लिया और बदले में हमेशा उस के इस्तेमाल का विरोध किया।

Email us at connect@shethepeople.tv