न्यूज़

प्रियंका चोपड़ा ने हसीना की बाल विवाह के खिलाफ लड़ाई की सराहना की

Published by
Ayushi Jain

ग्लोबल आइकन प्रियंका चोपड़ा  हाल ही में यूनिसेफ गुडविल एम्बेस्डर के रूप में इथियोपिया गई और उन्होंने अपने इंस्टाग्राम हैंडल पर 15 वर्षीय हसीना के साथ तस्वीरें पोस्ट कीं, जिसने बाल विवाह के खिलाफ एक ज़बरदस्त लड़ाई लड़ी।

चोपड़ा बच्चों के लिए एक शिक्षा कार्यक्रम के लिए इथियोपिया गई थी, जहां वे गरीब अर्थव्यवस्था से जूझ रहे रिफ्यूजी और मूल निवासियों से मिले। उन्होंने कुछ समय वहां के बच्चो के साथ ही बिताया, ताकि यह पता चले कि रूढ़िवादी सामाजिक प्रथाएँ उनके जीवन पर कैसे हावी होंगी। कई कहानियों में से एक जो उसने सुनी, वह एक स्कूल जाने वाली लड़की हसीना की थी, जिसे बाल विवाह के लिए खड़े होने के लिए प्रियंका से एक पोस्ट के माध्यम से प्रशंसा मिली।

“15 साल की हसीना के साथ तस्वीरें साझा करते हुए चोपड़ा ने हसीना के परिचय में कहा,12 साल की उम्र में अपनी शादी के खिलाफ खड़े होने और अपनी शादी को रोकने के लिए उसकी हिम्मत की सराहना की। आगे उन्होंने कहा, “एक दिन जब एक आदमी उसके घर उसके माता-पिता से शादी की बात करने आया, तो वह एक दोस्त के घर भाग गई और अगले दिन कम्युनिटी बेस्ड चाइल्ड मैरिज प्रिवेंशन प्लेटफार्म में चली गई, जिसके बारे में उसने स्कूल में सुना था। उसने खुद से पूछा, अगर उसने अब शादी कर ली, तो क्या वह फिर से स्कूल वापस जा पाएगी ? हसीना को सीखना बहुत पसंद है और वह किसी भी चीज के लिए अपनी शिक्षा या स्वतंत्रता का व्यापार करने के लिए तैयार नहीं है। इससे उसे खुद के लिए खड़े होने की हिम्मत मिली। अधिकारियों के साथ, समुदाय के लोगो ने वह आकर शादी को रोक दिया। उस आदमी को जेल भेज दिया  गया। ”

इस महीने की शुरुआत में, चोपड़ा, जिन्होंने एक अभिनेता, निर्माता, गायक, निवेशक और परोपकारी के रूप में कई उपलब्धियां हासिल की है , टाइम मैगज़ीन के 100 सबसे प्रभावशाली लोग, गोल्ड हाउस की ए 100 सूची में सबसे प्रभावशाली एशियाई लोगों के बीच उनका नाम शामिल  किया गया है, टीओआई की रिपोर्ट में।

इस भावनात्मक पोस्ट ने दुनिया भर से प्यार हासिल करना शुरू कर दिया। “यह समझना महत्वपूर्ण है कि इन सांस्कृतिक” दिखावो “के खिलाफ जाने के लिए बहुत ही ज़्यादा हिम्मत चाहिए होती है। हसीना एक बहुत बहादुर लड़की है। यह देखकर बहुत खुशी होती है कि इन युवा लड़कियों के उदाहरणों से समुदाय के लोगों को बहुत कुछ सीखते हुए देखा गया, जो बाल विवाह के खिलाफ खड़ी रहती हैं। शिक्षा ने इन लड़कियों को वो नजरिया और हिम्मत दिया जिससे वो अन्याय के खिलाफ आवाज़ उठा सके । यह समुदाय इस बात का उदाहरण है कि परिवर्तन कैसे संभव है। फिमेल राइट्स ह्यूमन राइट्स हैं, ”प्रियंका ने लिखा।

35 वर्षीय प्रियंका ने ग्लोबल एक्ट्रेस के रूप में सफलता प्राप्त की। लेकिन स्वास्थ्य और शिक्षा के लिए यूनिसेफ गुडविल अम्बेसडर और प्रियंका चोपड़ा फाउंडेशन की संस्थापक के रूप में, वह और बहुत कुछ कर रही है

एक अन्य पोस्ट में, चोपड़ा ने स्कूलों में छात्रों की पढ़ाई में वृद्धि के बारे में अपनी खुशी बांटी । लेकिन, उन्होंने  लिखा कि अभी भी बहुत कुछ ऐसा है जैसे स्कूलों को चलाने के लिए धन की कमी और शिक्षकों की कमी और अन्य बुनियादी सुविधाओं की आवश्यकता है।

यूनिसेफ का कहना है कि इथियोपिया में 906,000 रजिस्टर्ड रिफ्यूजी हैं। रिफ्यूजी बच्चों की शिक्षा में को बढ़ावा देने के लिए प्रियंका इथियोपिया गई हैं।

Recent Posts

Ananya Pandey Denies Drug Allegations: अनन्या पांडेय ने आर्यन खान को ड्रग देने की बात न मंजूर की

कल NCB ने एक ही समय पर दो टीम बनाकर मन्नत और अनन्या के घर…

49 mins ago

Karwa Chauth 2021: करवा चौथ की सरगी और पूजा की थाली तैयार करने का सही तरीका

करवा चौथ का त्यौहार इस साल 24 अक्टूबर को देशभर में रखा जाएगा। इस त्यौहार…

1 hour ago

Afternoon Nap? दोपहर में सोने के फायदे और नुकसान

 मानव शरीर के लिए जितना जरूरी पौष्टिक आहार होता है उतनी ही जरूरी 8-9 घंटे…

1 hour ago

How to Manage Periods On Wedding Day: कैसे हैंडल करें पीरियड्स को शादी के दिन?

पीरियड्स कभी भी बता कर नहीं आते इसलिए कुछ लड़कियों की शादी और पीरियड्स की…

1 hour ago

Benefits Of Sitafal: किन बीमारियों के लिए सीताफल एक औषधि की तरह काम करता है?

सीताफल को कस्टर्ड एप्पल और शरीफा भी कहते हैं। सीताफल में उच्च मात्रा में न्यूट्रिएंट्स…

1 hour ago

This website uses cookies.