फ्रांस से आयी बेंजामिन ओबेरॉय भारत को एक बेहतर देश बनाने में जुड़ी हुई हैं

Published by
STP Hindi Editor

हमने अक्सर दोस्तों और रिश्तेदारों को विदेश जाकर बस्ते हुए देखा है परंतु क्या आपने कभी ऐसे विदेशियों के बारे में सुना है जिन्हें भारत में आकर ही  अपने वास्तविक उद्देश्य का ज्ञात हुआ.

फ्रांस की रहने वाली बेंजामिन ओबरॉय 1978  में चाइल्ड साइकोलॉजी में पीएचडी करने भारत आई. भारत में अपने पति से मुलाकात करने के बाद उन्होंने यहीं पर बसने का निर्णय लिया.

अपनी पीएचडी करने के बाद उन्होंने बेंगलुरु में निमहंस के साथ काम करना शुरू किया.  उसके बाद उन्होंने  एक फ्रेंच एनजीओ के साथ काम करना शुरू किया और यही से उनकी जर्नी की शुरुआत हुई. बहुत समय तक उन्हें इस बात का पता ही था कि वह जो एनजीओज के साथ काम कर रही हैं वो बहुत ही प्रभावशाली है.

उन्हें अपने कार्य के विषय में तब पता चला जब एक स्विस फाउंडेशन भारत आई और उन्हें बताया कि उनके काम कि सराहना की. तब उन्होंने ओब्जेक्टीफ फ्रांस इन्दे  शुरू किया था कि वह अपने प्रोजेक्ट के लिए फंड इकट्ठा कर सकें. कुछ ही वर्षों में बहुत से फंडिंग इंस्टिट्यूशंस में उनके मैनेजमेंट और रिपोर्टिंग स्किल्स के कारण उनके साथ काम करना शुरू कर दिया और अन्य एनजीओज से उनकी सिफारिश करनी शुरू कर दी.

यदि आप बेंजामिन ओबरोय गूगल करेंगे तो आप  को एक पेज दिखाई देगा जिसका नाम है  कासा कॉटेज.  यह बेंजामिन  और उनके पति द्वारा शुरु किया गया एक होटल है.  वह कहती हैं-: “एक व्यवसाय चलाने से हमें  बहुत ही कानूनी बातों और अन्य मुश्किलों का पता चलता है.  इससे हमें जो फायदा होता है उसका एक हिस्सा कासा फाउंडेशन के लिए जाता है. हमें अनेक लोग मदद करने के लिए तत्पर रहते हैं.डॉक्टर या डेंटिस्ट हमारे साथ बच्चों की मदद कर सकता है, आईटी सेक्टर में काम करने वाला इंसान हमें कंप्यूटर दे सकता है, और कोई भी अन्य मनुष्य हमें चादर या प्लेट दे सकता है.”

कैसा फाउंडेशन के विषय में बात करते हुए उन्होंने हमें बताया कि ऐसे बहुत ग्रामीण परियोजनाएं  होती है जिन्हे  आसानी से फंड्स नहीं मिलते. उनके अनुसार यह ग्रामीण योजनाएं बहुत अच्छा काम करती हैं.  हमने इन परियोजनाओं के विषय में कुछ कंपनीस को बताने का प्रयास किया ताकि वह किसी प्रकार की मदद कर सकें.  वहां फाउंडेशन के सभी लोग वालंटियर की तरह काम करते हैं जिसके कारण ओवरहेड कॉस्ट्स कम हो जाते हैं.

ग्रामीण इलाकों में महिला सशक्तिकरण अब जोर शोर से हो रहा है. ऐसी बहुत सी महिलाएं हैं जो अपने विकास की जिम्मेदारी स्वयं ले रही हैं.

कुछ वर्षों पहले शुरू होने के बावजूद बेंजामिन के अनुसार इस फाउंडेशन को और मान्यता की आवश्यकता है.” इस बात की प्रसन्नता है कि हमारी परियोजनाओं ने बहुत से सुविधाहीन बच्चों और महिलाओं की मदद करी है. हम इस बात की गारंटी दे सकते हैं कि फंड्स व्यर्थ नहीं जाते.”, उन्होंने कहा.

बेंजामिन  के अनुसार सभी को वालंटियर करना चाहिए और गरीब लोगों की मदद करनी चाहिए.  वह चाहती हैं कि अधिकतर लोग कुछ समय निकालकर  अलग-अलग एनजीओ के साथ वॉलिंटियर कर सकें.

भारत में ऐसे लोग बहुत हैं जो एनजीओज में  बहुत कुछ दान करते हैं  परंतु बेंजामिन एक विदेशी है जिन्होंने भारत में आकर ऐसा दुर्लभ कार्य करने की जिम्मेदारी ली. हम आशा करते हैं कि अधिकतर लोग उनका इस कार्य में साथ देंगे.

 

Recent Posts

पॉर्न मामले में शिल्पा शेट्टी के पति राज कुंद्रा को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया

बॉलीवुड अदाकारा शिल्पा शेट्टी के पति राज कुंद्रा को अश्लील फिल्मों के निर्माण और वितरण…

2 hours ago

एक्ट्रेस कृति सेनन के बारे में 10 बातें जो आपने शायद न सुनी हों

कृति के पिता एक चार्टर्ड अकाउंटेंट हैं और मम्मी दिल्ली की यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर हैं।…

2 hours ago

मिमी: सरोगेसी पर कृति सनोन-पंकज त्रिपाठी की फिल्म पर ट्विटर ने दिया रिएक्शन

सोमवार को जैसे ही फिल्म रिलीज हुई, नेटिज़न्स ने बेहतरीन परफॉरमेंस देने के लिए सेनन…

2 hours ago

एक्ट्रेस कृति सैनन ने अपना बर्थडे मैडॉक फिल्म्स के खार ऑफिस में मीडिया के साथ बनाया

एक्ट्रेस कृति सैनन आज के दिन 27 जुलाई को अपना बर्थडे बनाती हैं और इस…

3 hours ago

हैरी पॉटर की एक्ट्रेस अफशां आजाद बनी मां, किया फोटो शेयर

अफशां आजाद जो हैरी पॉटर में जुड़वा बहन के किरदार के लिए जानी जाती है।…

3 hours ago

ट्विटर पर मीराबाई चानू की नकल करती हुई बच्ची का वीडियो हुआ वायरल

वेटलिफ्टर सतीश शिवलिंगम ने सोमवार को ट्विटर पर एक छोटी लड़की की वेटलिफ्टिंग का वीडियो…

3 hours ago

This website uses cookies.