न्यूज़

महाराष्ट्र की स्कूली पुस्तके महिलाओं की नई ‘प्रगतिशील’ तस्वीरें दिखाती है

Published by
Ayushi Jain

किताबे एक बच्चे की सबसे अच्छी मित्र होती है ।  बचपन में जब हम रंग- बिरंगी तस्वीरो वाली किताबे खोलते है तो उनके चित्र हमे बहुत आकर्षित करते थे और उन तस्वीरों को हम अपने जीवन से जोड़कर देखते थे ।  किताबो में जहाँ औरतों को रसोई में दिखाया जाता था वहीं पुरूषों को हम दफ्तर जाते हुए देखते थे पर महाराष्ट्र सरकार ने अब इस बात पर रोक लगा दी है । बालभारती जो की महाराष्ट्र का स्टेट करिकुलम बोर्ड है वह नहीं चाहता की बच्चों के दिमाग में पुरुषों और महिलाओं के लिए कोई रूढ़िवादी धारणा जगह बनाये इसलिए उन्होंने  किताबों की तस्वीरों और कहानियों को बदल दिया है । वह नही चाहते की बच्चों में किसी कहानी या तस्वीर के ज़रिये किसी भी लिंग के लिए कोई धारणा बन जाए । बालभारती आज के समय के साथ बच्चो को आने वाली चुनौतियों के लिए तैयार करना चाहता है ।

पाठ्यपुस्तकों का लक्ष्य लैंगिक रूढ़ियों को दूर करना है

बोर्ड के एक अधिकारी ने कहा कि महाराष्ट्र स्टेट ब्यूरो ऑफ टेक्स्टबुक प्रोडक्शन एंड करिकुलम रिसर्च, जिसे बलभारती के नाम से जाना जाता है, रूढ़ियों को तोड़ना चाहती है और इसमें दूसरी कक्षा की पाठ्यपुस्तकों में घर के काम करने वाले पुरुष और ऑफिस जाती महिलाओं के चित्र शामिल किए गए हैं।

पाठ्यपुस्तक की शुरुआत में कई सुझावों के माध्यम से, शिक्षकों और छात्रों को एक महिला पायलट, पुरुष शेफ और महिला पुलिसकर्मी जैसे व्यक्तियों की कहानियों और तस्वीरों पर ध्यान देने और उनके और इन “सामाजिक परिवर्तनों” के बारे में बात करने के लिए कहा गया है।

कुछ प्रसिद्ध उदाहरण:

  1. एक पुरुष और महिला एक दूसरे के बगल में बैठकर सब्जियों को साफ करते हुए देखे जा सकते हैं।
  2. एक तस्वीर में में एक महिला को डॉक्टर के रूप में और एक ट्रैफिक पुलिस वाले के रूप में देखा जा सकता है ।
  3. एक अन्य उदाहरण में, एक आदमी को एक शेफ के रूप में देखा जाता है, जबकि एक अन्य तस्वीर में एक आदमी को कपड़े इस्त्री करते हुए दिखाया गया है ।

बदलाव पर बालभारती के विचार

बलभारती में निदेशक सुनील मागर ने पीटीआई को बताया कि बदलाव के पीछे तर्क यह है कि छात्रों में यह सोच पैदा की जाए कि पुरुष और महिला समान हैं और दोनों कोई भी काम कर सकते हैं। शिक्षकों ने भी पाठ्यपुस्तकों में बदलाव का स्वागत किया है जो लैंगिक समानता का साथ देते हैं।

Recent Posts

रानी रामपाल: कार्ट पुलर की बेटी ने भारत को ओलंपिक में एक ऐतिहासिक जीत दिलाई

भारतीय महिला हॉकी टीम ने सोमवार (2 अगस्त) को तीन बार की चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को…

7 hours ago

टोक्यो ओलंपिक: गुरजीत कौर कौन हैं ? यहां जानिए भारतीय महिला हॉकी टीम की इस पावर प्लेयर के बारे में

मैच के दूसरे क्वार्टर में गुरजीत कौर के एक गोल ने भारतीय महिला हॉकी टीम…

8 hours ago

मंदिरा बेदी ने कहा जब बेटी तारा हसने को बोले तो मना कैसे कर सकती हूँ?

मंदिरा ने वर्क आउट के बाद शॉर्ट्स और टॉप में फोटो शेयर की जिस में…

8 hours ago

क्रिस्टीना तिमानोव्सकाया कौन हैं? क्यों हैं यह न्यूज़ में?

एथलीट ने वीडियो बनाया और इसे सोशल मीडिया पर साझा करते हुए कहा कि उस…

8 hours ago

लखनऊ कैब ड्राइवर मारपीट वीडियो : DCW प्रमुख स्वाति मालीवाल ने UP पुलिस से जांच की मांग की

लखनऊ कैब ड्राइवर मारपीट वीडियो मामले में दिल्ली महिला आयोग (DCW) की प्रमुख स्वाति मालीवाल…

9 hours ago

स्टडी में सामने आया कोरोना पेशेंट के आंसू से भी हो सकता है कोरोना

कोरोना की दूसरी लहर फिल्हाल थमी ही है और तीसरी लहर के आने को लेकर…

10 hours ago

This website uses cookies.