न्यूज़

मैरी कॉम का कहना है कि वो टोक्यो ओलंपिक के बाद रिटायर होना चाहती हैं

Published by
Ayushi Jain

छह बार विश्व चैंपियन रह चुकी मैरी कॉम ने कहा कि वह 2020 टोक्यो ओलंपिक में देश के लिए स्वर्ण पदक जीतने के बाद रिटायर होना चाहती हैं.

छह बार विश्व चैंपियन रह चुकी एमसी मैरी कॉम ने गुरुवार को कहा कि वह टोक्यो ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने के बाद खेल से सन्यास लेने की योजना बना रही हैं।

36 वर्षीय मैरी कॉम ने भारतीय मुक्केबाजी में एक नया इतिहास बनाया हैं। अपने 18 साल के लंबे शानदार करियर में, उन्होंने छह विश्व चैंपियनशिप, एक ओलंपिक ब्रोंज मैडल और पांच एशियाई चैंपियनशिप जीती हैं।

एक अच्छी और शीर्ष स्तर की मुक्केबाज होने के अलावा, वह राज्यसभा सांसद भी हैं।

“2020 के बाद मैं रिटायर होना चाहती हूँ इसलिए मेरा मुख्य मिशन भारत के लिए एक स्वर्ण जीतना है। मैं वास्तव में (स्वर्ण) जीतना चाहती  हूं,” मैरी कॉम ने कोलगेट द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में कहा।

मैरी कॉम ने 2012 लंदन ओलंपिक में फ्लाईवेट वर्ग में ब्रोंज मैडल जीता था। वह अब अपने मैडल के रंग को सोने में बदलना चाहती है।

मैं हमेशा देश को मैडल दिलाने की पूरी कोशिश करती हूं और अगर संभव हो तो गोल्ड मैडल भी मैं ओलंपिक क्वालीफायर और विश्व चैम्पियनशिप के लिए अपनी तैयारी शुरू करूंगी मैं इस बार स्वर्ण पदक जीतना चाहती हूं।”

बॉक्सिंग बिरादरी को अगले साल ओलंपिक के लिए कठिन परिस्थितियों का सामना करना पड़ रहा है। अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आई ओ सी ) ने टोक्यो ओलंपिक में अंतर्राष्ट्रीय आयोजन से अंतर्राष्ट्रीय मुक्केबाजी संघ (ऐ आई बी ऐ ) को हटा दिया है।

आईओसी ने घोषणा की है कि वह अगले साल जनवरी से मई के बीच ओलंपिक क्वालीफायर के लिए एक नया कैलेंडर तैयार करेगा और इसके कारण वेट काटेगोरिस  में फिर से बदलाव हो सकता है। भारतीय पगिलिस्ट एक दुविधा में फंस गए हैं लेकिन मैरी कॉम को लगता है कि अगले साल क्वालीफायर आयोजित किया जाए तो यह उनके लिए फायदेमंद होगा।

यह वास्तव में मेरे लिए बेहतर है मुझे तैयारी के लिए अधिक समय मिलेगा,” उन्होंने कहा।

“हम न केवल ओलंपिक के लिए बल्कि सभी प्रतियोगिताओं के लिए नियमित रूप से प्रशिक्षण ले रहे हैं। विश्व चैम्पियनशिप में, मुझे पता चल जाएगा कि मेरे विरोधियों की  ताकत और कमजोरियां क्या हैं। फिर मई उसके अनुसार तैयारी कर सकती हूं। क्वालीफायर होने पर मुझे तैयारी के लिए ज़्यादा समय भी मिलेगा।”

रियो खेलों के लिए क्वालीफाई करने में नाकाम रहने के बाद, मैरी कॉम ने दिसंबर 2016 में अपना वजन वर्ग 48 किग्रा में बदल दिया था, लेकिन अब मणिपुर के पुगिलिस्ट 51 किग्रा में  लड़ने के लिए वापस आ गई हैं।

बदलाव के बारे में पूछे जाने पर मैरी कॉम ने कहा: “51 किग्रा वर्ग मेरे लिए नया नहीं है। मैं 4-5 साल पहले इस श्रेणी में लड़ रही थी। यह लगातार  नहीं था क्योंकि मेरा वजन बदलता रहा ।

Recent Posts

शालिनी तलवार कौन है? हनी सिंह की पत्नी जिन्होंने उनके खिलाफ घरेलू हिंसा का मामला दर्ज कराया है

यो यो हनी सिंह की पत्नी शालिनी तलवार ने उनके खिलाफ 3 अगस्त को दिल्ली…

6 hours ago

हनी सिंह की पत्नी ने दर्ज कराया उनके खिलाफ घरेलू हिंसा का केस, जाने क्या है पूरा मामला

बॉलीवुड के मशहूर सिंगर और अभिनेता 'यो यो हनी सिंह' (Honey Singh) पर उनकी पत्नी…

7 hours ago

यो यो हनी सिंह पर हुआ पुलिस केस : पत्नी ने लगाया घरेलू हिंसा का आरोप

बॉलीवुड सिंगर और एक्टर यो यो हनी सिंह की पत्नी शालिनी तलवार ने उनके खिलाफ…

7 hours ago

ओलंपिक मैडल विजेता मीराबाई चानू पर बनेगी बायोपिक : जाने बायोपिक से जुड़ी ये ज़रूरी बातें

वे किसी ऐसे व्यक्ति की तलाश में हैं जो ओलंपिक मैडल विजेता की उम्र, ऊंचाई…

7 hours ago

मुंबई सेशन्स कोर्ट ने गहना वशिष्ठ को अंतरिम राहत देने से किया इनकार

मुंबई की एक सत्र अदालत ने अभिनेत्री गहना वशिष्ठ को उनके खिलाफ दायर एक पोर्नोग्राफी…

8 hours ago

ओलंपिक मैडल विजेता मीराबाई चानू पर बायोपिक बनने की हुई घोषणा

लंपिक सिल्वर मैडल विजेता वेटलिफ्टर सैखोम मीराबाई चानू की बायोपिक की घोषणा हाल ही में…

8 hours ago

This website uses cookies.