वाईएसआरसीपी की आधिकारिक प्रवक्ता, वासिरेड्डी पद्मा को आंध्र प्रदेश राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष के रूप में शपथ दिलाई गई है। राज्य की महिला एवं बाल कल्याण मंत्री तनेति वनिता ने सोमवार को विजयवाड़ा में शपथ ली। विधान सभा अध्यक्ष ताम्मिणेनि  सीताराम ने एपी मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी के पद्मा को इस काम के लिए नियुक्त करने के फैसले की सराहना की। पद्मा के बारे में, सीताराम ने कहा कि उन्होंने जीवन में कई संघर्ष का सामना किया हैं, लेकिन उन्होंने मूल्यों पर कभी समझौता नहीं किया।

image

“आज, जगन मोहन रेड्डी ने इसे लागू करना शुरू कर दिया है और ऐसे कानून बनाए हैं जो महिलाओं के लिये राजनीतिक पदों में आरक्षण सहित समान अधिकार सुनिश्चित करेंगे। सभी पुरुषों को महिलाओं के लिए रास्ता देने के लिए तैयार होना चाहिए और बदलाव का स्वागत करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि “अब उनके पास न्याय करने की शक्ति हैं और उन्हें महिलाओं के मुद्दों को सुलझाने के लिए निष्पक्ष तरीके से काम करना चाहिए।“

पद्मा ने रेड्डी के प्रति अपना आभार व्यक्त किया और उन्हें इस काम के लिए चुनने के लिए धन्यवाद किया और उन्हें  उम्मीद है की वह ऐसे कानून बनाएंगी जो महिलाओं के खिलाफ हो रहे अपराधों को रोकने के लिए काम करेंगी। उन्होंने कहा, “बच्चों को लिंग समानता, महिलाओं के सम्मान और महिलाओं के अधिकारों के बारे में शिक्षित करने के लिए स्कूल सिलेबस में बदलाव लाने के लिए जोर दिया जाएगा।”

पार्टी की वरिष्ठ नेता पद्मा ने राज्य में सरकार के बदलाव के बाद नन्ननपेनी राजकुमारी के पद से इस्तीफा देने के बाद पद ग्रहण किया। वह कृष्णा जिले के कम्मा समुदाय से हैं, जो 2011 में अपने पति कनिकारला वेस्ले के साथ वाईएसआरसीपी पार्टी में शामिल हुई थीं। वह तेलुगु देशम पार्टी और इसके प्रमुख चंद्रबाबू नायडू की कट्टर आलोचक रही हैं।

फेयरर सेक्स वास्तव में एक कठिन दौर से गुजर रहा है क्योंकि लड़कियों और महिलाओं की सुरक्षा आज लगभग हर घर में एक बड़ी चिंता का विषय है।”

“मैं इस राज्य की महिलाओं, बच्चों और ग्राम स्वयंसेवकों सहित सभी की समस्याओं को देखूंगी। मैं मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी की भी शुक्रगुजार हूं। औपचारिक रूप से पदभार संभालने से पहले पिछले हफ्ते  गुरुवार को विजयवाड़ा में अपने युवती मिलन समारोह को संबोधित करते हुए, पद्मा ने आंध्र प्रदेश में महिलाओं के खिलाफ उच्च अपराध दर पर अफसोस जताया था । उन्होंने कहा कि महिला आयोग का फोकस इन अपराधों को बढ़ावा देने वाले मुख्या कारणों की पहचान करना और उन्हें दूर करना होगा।

उन्होंने कहा, “फेयर सेक्स वास्तव में एक कठिन दौर से गुजर रहा है क्योंकि लड़कियों और महिलाओं की सुरक्षा आज लगभग हर घर में एक बड़ी चिंता है।”

डिप्टी सीएम पुष्पा श्रीवानी, नारायण स्वामी, मंत्री धर्मन कृष्ण दास, तनीति वनिता, चेरुकुवदा श्री रंगनाथ राजू, विधायक आरके रोजा, सांसद वांगा गीता, चिन्ता अनुराधा, सरकार की सलाहकार (सार्वजनिक मामलों) सजल रामकृष्ण रेड्डी भी शपथ ग्रहण में शामिल हुए।

Email us at connect@shethepeople.tv