न्यूज़

सोशल मीडिया पर बच्चों को सुरक्षित रखने के लिए मुंबई की पुलिस दीदी ’ऑनलाइन पहुंची

Published by
Ayushi Jain

जब सांताक्रूज स्कूल के कक्षा 9 की एक छात्रा ने इस साल की शुरुआत में एक सोशल मीडिया साइट पर अपनी सेल्फी अपलोड की, तो उसे पता नहीं था की उसे इंटरनेट पर एक ऐसे व्यक्ति  द्वारा उत्पीड़न का सामना करना पड़ेगा जिसे वो जानती भी नहीं है।

उस व्यक्ति ने उस छात्रा की सेल्फी से छेड़छाड़ की, और फिर उन्हें ऑनलाइन धमकी देने और यौन उत्पीड़न के लिए इस्तेमाल किया। जिसके बाद छात्रा ने आखिरकार पुलिस में शिकायत दर्ज कराई जिसके बाद आरोपी को गिरफ्तार किया गया ।

ऑनलाइन स्टाकिंग और साइबर क्राइम में बढ़ोतरी

जैसा की ऑनलाइन स्टाकिंग काफी बढ़ गयी है इसलिए मुंबई पुलिस ने अपने स्कूल के आउटरीच कार्यक्रम, पुलिस दीदी को फिर से शुरू कर दिया है जिसमे बच्चों को सोशल मीडिया पर उत्पीड़न से सुरक्षित रखने के तरीके भी सिखाए जायेंगे। पुलिस दीदी अभियान 2016 में शुरू किया गया था, शहर भर में स्कूलों में यौन उत्पीड़न के कई मामलों के बाद। इस अभियान में देखा गया कि महिला पुलिस अधिकारी स्कूल और कॉलेज की लड़कियों से “गुड टच और बैड टच” के बारे में बात करती हैं और उन्हें सिखाती हैं कि इसके खिलाफ कैसे बोलना है।

यह अब केवल गुड टच और बाद टच के बारे में नहीं है, बल्कि इंटरनेट पर अच्छे दोस्त और बुरे दोस्त के बारे में भी है,” पुलिस उपायुक्त (बंदरगाह क्षेत्र) डॉ. रश्मि करंदीकर ने कहा।

मामले की जांच करने वाले एक पुलिस अधिकारी ने कहा, “अगर सांताक्रूज छात्रा को साइबर क्रैकिंग और उत्पीड़न से निपटने के तरीके के बारे में पता होता तो उसे इतने महीनों तक इस सब से नहीं गुजरना पड़ता।” “वह अपने माता-पिता को तुरंत बताती और उत्पीड़न को रोक सकती थी ।” जैसा कि पुलिस विभाग को साइबर क्राइम के बहुत ज़्यादा मामले मिलने लगे है, पुलिस आयुक्त संजय बर्वे ने अपने वरिष्ठ अधिकारियों को साइबर अवेयरनेस को पुलिस दीदी कैंपेन में शामिल करने के निर्देश दिए। पुलिस दीदी अभियान में महिला अधिकारी न केवल अब स्कूलों और कॉलेजों में जाती हैं, बल्कि शहर भर में रेजिडेंशियल सोसाइटियों और बस्तियों में भी जाती हैं। एक वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी ने कहा, “जैसे कि आजकल हर एक के पास स्मार्टफोन है इसलिए जोखिमों को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है।” अधिकारी ने कहा, “माता-पिता अपने बच्चों को उनके जीवन को सुविधाजनक बनाने के लिए और उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए मोबाइल फोन देते हैं, लेकिन वे अपने बच्चों को यह नहीं सिखाते हैं कि ऑनलाइन होने के खतरे से कैसे निपटें।”

पुलिस दीदी ट्रेनिंग

पुलिस दीदी को कैसे ट्रैन किया गया? “मुंबई के सभी 94 पुलिस स्टेशनों से 200 से अधिक महिला पुलिस कर्मियों (अधिकारियों और कांस्टेबल सहित) को साइबर विशेषज्ञों, बाल मनोचिकित्सकों और सलाहकारों द्वारा प्रशिक्षण दिया गया। डॉ। रश्मि करंदीकर ने कहा कि ये महिलाएं स्कूलों, कॉलेजों, रेजिडेंशियल सोसाइटियों, चॉलों और बस्तियों का दौरा करने से पहले अपने सहयोगियों को पुलिस स्टेशनों में ट्रेनिंग देती हैं।

Recent Posts

Tapsee Pannu & Shahrukh Khan Film: तापसी पन्नू और शाहरुख़ खान कर रहे साथ में फिल्म “Donkey Flight”

इस फिल्म का नाम है "Donkey Flight" और इस में तापसी पन्नू और शाहरुख़ खान…

18 hours ago

Raj Kundra Porn Case: शिल्पा शेट्टी के पति ने कहा कि उन्हें “बलि का बकरा” बनाया जा रहा है

पोर्न रैकेट चलाने के मामले में बिज़नेसमैन राज कुंद्रा ने शनिवार को एक अदालत में…

19 hours ago

हैवी पीरियड्स को नज़रअंदाज़ करना पड़ सकता है भारी, जाने क्या हैं इसके खतरे

कई बार महिलाओं में पीरियड्स में हैवी ब्लड फ्लो से काफी सारा खून वेस्ट हो…

19 hours ago

झारखंड के लातेहार जिले में 7 लड़कियां की तालाब में डूबने से मौत, जानिये मामले से जुड़ी ज़रूरी बातें

झारखंड में एक प्रमुख त्योहार कर्मा पूजा के बाद लड़कियां तालाब में विसर्जन के लिए…

20 hours ago

झारखंड: लातेहार जिले में कर्मा पूजा विसर्जन के दौरान 7 लड़कियां तालाब में डूबी

झारखंड के लातेहार जिले के एक गांव में शनिवार को सात लड़कियां तालाब में डूब…

20 hours ago

This website uses cookies.