5 भारतीय महिलाओं के नेतृत्व में हुए विरोध

Published by
STP Hindi Editor

भारत की लोकतांत्रिक भावना का श्रेय कई ऐसी महिला क्रांतिकारियों को जाता है जिन्होंने मानवता के अत्यधिक अच्छे के लिए अपने जीवन का बलिदान दे दिया। दिलचस्प बात यह है कि ये महिलायें केवल लिंग से संबंधित मुद्दों के लिए प्रसिद्द नहीं हैं, बल्कि इन्होंने देश में कुछ महान पर्यावरण और राजनीतिक आंदोलनों का नेतृत्व किया।

भारतीय महिलाओं के नेतृत्व में हुए 5 ऐसे प्रतिष्ठित विरोधों के बारे में जानने के लिए पढ़ें -:

  1. नर्मदा बचाओ आंदोलन

प्रसिद्ध पर्यावरणविद् मेधा पाटकर के नेतृत्व में, आंदोलन 1 9 85 में शुरू हुआ और इसका उद्देश्य नर्मदा नदी  के कई बांधों के निर्माण से जुड़े बहु-करोड़ परियोजना के साथ आगे बढ़ने के अपने विचार को छोड़ने के लिए सरकार को निरुत्साहित करना है। इन बांधों का निर्माण 2,50,000 से ज्यादा लोगों को बेघर कर देगा और बिना किसी आजीविका के साधन के छोड़ देगा। यह आंदोलन इतना व्यापक हो गया है कि उसने अंतर्राष्ट्रीय एजेंसियों का सहयोग प्राप्त किया है।

वह छोटी अवधि के लिए दिल्ली के आम आदमी पार्टी की सदस्य भी रही हैं।

पढ़िए: बेटों और बेटियों को एक ही संदेश दें, कहती हैं अनु आगा

  1. चिपको आंदोलन

26 मार्च, 1 9 74 भारतीय इतिहास में एक ऐतिहासिक दिन था क्योंकि इसी दिन पेड़ों की अवैध कटाई के खिलाफ आंदोलन शुरू हुआ। गौरा देवी, उत्तराखंड में गढ़वाल क्षेत्र की एक मूल निवासी ने 27 अन्य महिलाओं के साथ पेड़ों को गले लगाया और वन अधिकारियों से पेड़ों को बचाने का निवेदन किया। इस घटना ने वर्षों में गति प्राप्त की और “चिपको आंदोलन” के रूप में जानी जाने लगी।

गौरा देवी प्रकृति की गोद में बड़ी हुईं। इस घटना के बाद, जनता को अपने जंगलों को बचाने की आवश्यकता के बारे में संवेदनशील बनाना ही उनका एकमात्र लक्ष्य बन गया। 1991 में उनकी मृत्यु हो गई लेकिन वनों की कटाई के खिलाफ संघर्ष आज भी जारी है।

  1. अरक के विरोध में आंदोलन

पुरुषों द्वारा मदिरा का सेवन इतने वर्षों में महिलाओं के लिए एक पहेली बन गया है। खासकर गरीब वर्ग की महिलाओं में यह शिकायत होती है कि नशे में धुत्त उनके पति परिवारवालों पर हिंसात्मक प्रतिक्रिया करते हैं। 1 99 2 में आंध्र प्रदेश के नेल्लोर ज़िले की वर्धनेनी रोसम्मा ने एंटी-अर्रैक आंदोलन की शुरुआत की थी। यह शराब के इस खतरे से निपटने के लिए गांव की महिलाओं द्वारा उठायी गयी एक स्पष्ट आवाज़ थी। उन्होंने मांग की कि सरकार को कम लागत वाले शराब या अरक की बिक्री पर प्रतिबंध लगाना चाहिए।

डुबागुंता रोसम्मा के नाम से प्रसिद्द ये महिला एक सच्ची उदाहरण थी की एक दृढ़ महिला अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए क्या कर सकती है। उनके प्रयासों को फल मिला जब पूर्व मुख्यमंत्री एन टी रामाराव ने 1 99 5 में पूर्ण निषेध से संबंधित फ़ाइल पर अपने हस्ताक्षर किये। हालांकि, 1997 में चंद्रबाबू नायडू ने इस प्रतिबंध को बढ़ा दिया था।

पढ़िए: सिटी स्टोरी, एक वेबसाइट जो शहरों और उनके लोगों को करीब लाती है

  1. एसिड हमला बंद करो आंदोलन

उस समय 15 वर्षीय लक्ष्मी अग्रवाल की जिंदगी में एक विशेष मोड़ आया जब एक 32 वर्षीय व्यक्ति ने उस पर तेज़ाब फेंक दिया क्योंकि लक्ष्मी ने उस व्यक्ति का विवाह प्रस्ताव ठुकरा दिया था। हालांकि उस निडर महिला ने इस निजी तबाही को कुछ बड़ा शुरू करने के लिए प्रेरणा के रूप में देखा। चूंकि यह भयानक घटना हुई, इसलिए लक्ष्मी ने अपनी ज़िन्दगी लोगों को इस मुद्दे पर जुटाने और अन्य एसिड हमले के शिकार लोगों की सहायता करने के लिए समर्पित कर दी।

वह भारत में एसिड हमलों के उत्तरजीवी की मदद करने के लिए समर्पित एक गैर सरकारी संगठन छंव फाउंडेशन की निर्देशिका हैं। उन्हें पूर्व अमेरिकी फर्स्ट लेडी मिशेल ओबामा द्वारा 2014 में अंतरराष्ट्रीय महिला साहस पुरस्कार भी मिला।

  1. आर्म्ड फोर्सेज एक्ट के खिलाफ आंदोलन

आयेरम शर्मिला एक नागरिक अधिकार और एक राजनैतिक कार्यकर्ता हैं। वह 2000 में दुनिया की सबसे लंबी भूख हड़ताल पर गयीं, जो कि 16 साल तक चली। शर्मिला स्थानीय शांति आंदोलनों में शामिल थीं और दो सीआरपीएफ जवानों द्वारा किसी के घर में घुसकर एक महिला के बलात्कार की घटना को सुनकर काफी गुस्से में आ गयीं जबकि दो अन्य सीआरपीएफ जवानों ने  उस महिला के पति को घर के बाहर पकड़ कर रखा था। उनकी भूख हड़ताल की मूल शुरुवात मालोम में असम राइफल्स के जवानों द्वारा १० लोगों की मौत की खबर से हुई।

पढ़िए : “इनोवेशन एन्त्रेप्रेंयूर्शिप का दिल है” – सुरभि देवरा

Recent Posts

ऐश्वर्या राय की हमशक्ल ने सोशल मीडिया पर मचाया तहलका, जानिए कौन है ये लड़की

आशिता सिंह राठौर जो हूँबहू ऐश्वर्या राय की तरह दिखती है ,इंटेरटनेट पर खूब वायरल…

12 mins ago

आंध्र प्रदेश सरकार 30 लाख रुपये की नगद राशि के इनाम से पीवी सिंधु को करेगी सम्मानित

शटलर पीवी सिंधु को टोक्यो ओलंपिक में ब्रॉन्ज़ मैडल जीतने पर आंध्र प्रदेश सरकार देगी…

52 mins ago

Justice For Delhi Cantt Girl : जानिये मामले से जुड़ी ये 10 बातें

रविवार को दिल्ली कैंट एरिया के नांगल गांव में एक नौ वर्षीय लड़की का बलात्कार…

2 hours ago

ट्विटर पर हैशटैग Justice For Delhi Cantt Girl क्यों ट्रैंड कर रहा है ? जानिये क्या है पूरा मामला

दक्षिण-पश्चिम दिल्ली में दिल्ली कैंट के पास श्मशान के एक पुजारी और तीन पुरुष कर्मचारियों…

2 hours ago

दिल्ली: 9 साल की बच्ची के साथ बलात्कार, हत्या, जबरन किया गया अंतिम संस्कार

दिल्ली में एक नौ वर्षीय लड़की का बलात्कार किया गया, उसकी हत्या कर दी गई…

3 hours ago

रानी रामपाल: कार्ट पुलर की बेटी ने भारत को ओलंपिक में एक ऐतिहासिक जीत दिलाई

भारतीय महिला हॉकी टीम ने सोमवार (2 अगस्त) को तीन बार की चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को…

18 hours ago

This website uses cookies.