साल के आखरी महीने दिसंबर की इस ठंड में हम बिलकुल भी वर्कोउट करने के मूड में नहीं होते । न ही इतनी ठंड में हमसे उठा जाता है और तो और  ऐसे में अपनी रज़ाई से बाहर निकलकर वर्कआउट करना तो दूर की बात है। ऐसे में 47 वर्षीय भावना तोटकर हमारे लिए किसी प्रेरणा  से कम नहीं हैं ।

image

पॉवरलिफ्टिंग की शुरुआत

भावना के दो बच्चे है । भावना ने 40 साल की उम्र में अपनी पावरलिफ्टिंग करना शुरू किया। उन्हें अपनी स्किन पर हो रही सूजन से निपटने के कुछ दवाइयां ली जिससे उन्हें साइड -इफ़ेक्ट हुए और उससे बचने के लिए उन्होंने जिम में ट्रेनिंग करना शुरू किया।  इस साल मई में, उन्होंने 45-50 आयु वर्ग में अंडर 67.5 केटेगरी में चुने जाने के लिए बेंगलुरु में ट्रायल में भाग लिया। वो एक हाउसवाइफ हैं जिन्होंने इस साल जुलाई में रूस के चेल्याबिंस्क में ऐडब्ल्यूपीसी / डब्ल्यूपीसी की ओपन एशियन पावरलिफ्टिंग चैंपियनशिप में चार गोल्ड मैडल हासिल किये । भावना ने उन सभी रूढ़ियों को तोड़कर यह साबित किया है की उम्र और लिंग से कोई फर्क नहीं पड़ता ।

पॉवरलिफ्टिंग में उनका अब तक का सफर

इस साल की शुरुआत में, उन्होंने पावरलिफ्टिंग इवेंट में कम्पीट करने के लिए डब्ल्यूपीसी कर्नाटक और आंध्र प्रदेश स्टेट हेड से संपर्क किया। फिर उन्हें ट्रायल में भाग लेने के लिए कहा गया जिसके बाद उन्हें अंततः 45-50 आयु वर्ग में मास्टर्स 2 केटेगरी के लिए चुना गया। भावना ने वर्ल्ड पावरलिफ्टिंग कांग्रेस (डब्ल्यूपीसी) वर्ल्ड चैंपियनशिप 2019 में महिला मास्टर्स 45-49 एडब्ल्यूपीसी क्लासिक में भाग लिया, जिसमें स्क्वाट 100 किग्रा, बेंच प्रेस 70 किग्रा और डेडलिफ्ट 127।5 किग्रा कुल 297।5 किग्रा शामिल हैं। वह अपने इंस्टाग्राम पर अपने फॉलोअर्स से उनकी सफलता की कामना करने के लिए कहती है।

भावना की पर्सनल लाइफ

भावना की शादी भारतीय वायु सेना के एक पायलट से हुई । वेटलिफ्टिंग में जाने के लिए भावना को भारतीय वायुसेना के बॉडी बिल्डरों द्वारा प्रेरित किया गया था। वह एक लॉन्ग-डिस्टेंस रनर है जिन्होंने बहुत सारे मैराथन में हिस्सा लिया है । गोल्ड मैडल विजेता पावरलिफ्टर ने अपनी  रेगुलर एक्सेरसाइज  के वीडियो इंस्टाग्राम पर शेयर किए, जिससे उनके फोल्लोवेर्स बहुत तेज़ी से बढ़ने लगे । 47 साल की उम्र मे वह कई लोगों को उनकी फिटनेस यात्रा के लिए प्रेरित कर रही हैं।

Email us at connect@shethepeople.tv