भुज में एक कॉलेज के प्रिंसिपल ने 68 लड़कियों को यह साबित करने के लिए अपना अंडरवियर उतारने के लिए मजबूर किया कि वो अपने पीरियड्स से नहीं गुज़र रही हैं । एनसीडब्ल्यू की एक जांच में पता चला है कि सभी महिला हॉस्टलर्स को यह सहमति देने के लिए बुलाया गया था कि लड़कियों को उनके पीरियड्स के दौरान दिंनिंग हॉल में सबके साथ उन्हें खाना नहीं मिलेगा और उन्हें अपने बिस्तर पर सोने की परमिशन नहीं होगी, बल्कि वो उस दौरान फर्श पर सोएंगी ।

image

दोषियों  को किया गया ससपेंड

गुजरात के एनसीडब्ल्यू के सदस्य डॉ राजुल देसाई, एडवोकेट मालश्री गढ़वी के साथ, डीएलएसए ने संस्थान के प्रशासन के साथ इस मुद्दे पर चर्चा करने के लिए एक मीटिंग की, जिसमें उन्हें बताया गया कि अथॉरिटीज हॉस्टल में इस तरह की प्रथा से अनजान थी। जिन तीन महिला कर्मचारियों को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया गया, उन्हें श्री सहजानंद गर्ल्स इंस्टीट्यूट से ससपेंड कर दिया गया जहां यह घटना घटी।

पीरियड्स चेक करने के तरीके से प्रॉब्लम

लड़कियों ने समिति को बताया कि उन्हें इस प्रथा के साथ कोई समस्या नहीं है और उनका एकमात्र मुद्दा यह था कि लड़कियों के पीरियड्स हैं या नहीं, यह पता करने का तरीका जो बिलकुल सही नहीं था। उन्होंने बताया कि हॉस्टल वार्डन ने एक रजिस्टर बनाया हुआ था जहाँ वो उन लड़कियों का रिकॉर्ड बना रही थी जो अपने पीरियड्स पर हैं

देसाई ने हॉस्टल ऑडिटोरियम में एक लीगल अवेयरनेस प्रोग्राम की शुरुआत की, उन्होंने लड़कियों को एक स्टॉप सेंटर, 181 महिला हेल्पलाइन और लड़कियों और महिलाओं के विभिन्न कानूनी अधिकारों के बारे में जागरूक किया।

बहुत ही शर्मनाक हरकत

“एक शैक्षिक संस्थान का उद्देश्य सामाजिक परिवर्तन लाना है और इसमें रूढ़ियों को बदलना शामिल होना चाहिए । 21 वीं सदी में अगर यह घटना हुई है तो यह हमारे लिए एक बेशर्मी की बात है और हम इस मुद्दे की जड़ों तक उतरेंगे।”

13 फरवरी को, श्री सहजानंद गर्ल्स इंस्टीट्यूट की प्रिंसिपल डॉ। रीता एम। रानिंगा ने हॉस्टल से लेकर कॉलेज वॉशरूम तक लड़कियों को उनके लेक्चर के बीच यह पता करने के लिए बुलाया गया कि लडकियां अपने पीरियड्स पर है या नहीं ।हॉस्टल वार्डन ने आरोप लगाया था कि कुछ लडकियां हॉस्टल किचन में पीरियड्स के दौरान घुस रही हैं।

Email us at connect@shethepeople.tv