चीफ़ जस्टिस ऑफ़ इंडिया ने UP गवर्नमेंट को लखीमपुर वायलेंस केस में मृतक की माँ को मेडिकल केयर देने का कहा

चीफ़ जस्टिस ऑफ़ इंडिया ने UP गवर्नमेंट को लखीमपुर वायलेंस केस में मृतक की माँ को मेडिकल केयर देने का कहा चीफ़ जस्टिस ऑफ़ इंडिया ने UP गवर्नमेंट को लखीमपुर वायलेंस केस में मृतक की माँ को मेडिकल केयर देने का कहा

SheThePeople Team

07 Oct 2021

लखीमपुर वायलेंस केस में कल सुप्रीम कोर्ट ने एक पेटिशन की सुनवाई की है। इस केस में कुल 8 लोगों की मौत हुई थी। जिस में से एक इंसान की माँ इसको लेकर बहुत शॉक माँ हैं। इसलिए ही उत्तर प्रदेश सरकार को ऐसा कहा गया है कि माँ को मेडिकल केयर दी जाए। NV रामना ने ऐसा फैसला किया है और सभी जरुरी मेडिकल देने को कहा है।

लखीमपुर वायलेंस केस क्या है?


लखीमपुर खेरी मामला है जहाँ यूनियन मिन्स्टर अजय मिश्रा के बेटे ने किसानों ने ऊपर कार चला दी थी। इसके कारण से 8 किसानों की मौत हो गयी थी। यह मामला 3 अक्टूबर का है और इस केस के कई वीडियो इंटरनेट पर वायरल हो चुके हैं। उत्तर प्रदेश के दो लॉयर ने इस मामले में पेटिशन फाइल की थी जिसके लिए यह सुनवाई की गयी है।

इस बेंच ने यह भी मांग की है कि इनको बताया जाए कि इस केस में दोषी कौन कौन हैं और किस किस को इस केस में अरेस्ट किया गया है। इनको यह भी जानना है कि पुलिस ने किन किन के खिलाफ FIR फाइल की है। उत्तर प्रदेश पुलिस का कहना है कि इस कार क्रैश मामले में कुल 13 लोगों के खिलाफ FIR फाइल की गयी है। इस मामले में ज्यादातर अपोज़िशन पार्टी के लोग यूनियन मिनिस्टर का रेसिगनेशन डिमांड कर रहे हैं। हालाँकि अजय मिश्रा ने रिजाइन करने से साफ़ मना कर दिया है।

इस मामले में कांग्रेस की जनरल सेक्रेट्री भी मृत के परिवार वालों से मिलने एक लिए गयी थीं। इनको सोमवार से नज़रबंद ककरे रखा गया था वो भी बिना किसी लीगल नोटिस के। इनके साथ पंजाब के चीफ मिनिस्टर चरणजीत सिंह छन्नी और छत्तीसगढ़ से भूपेश बघेल गए थे। प्रियंका ने बाकि परिवार वालों से मिलने के लिए गुरुवार का दिन रखा है।

प्रियंका गाँधी और राहुल गाँधी इन परिवारों से जब मिले जब उत्तर प्रदेश के चीफ मिनिस्टर योगी आदित्यनाथ ने इन्हें परमिशन दे दी थी। कांग्रेस की जनरल सेक्रेटरी तीन परिवारों से मिली और वह सबके सब सिर्फ न्याय मांग रहे थे न कि पैसे और कंपनसेशन।

अनुशंसित लेख