इम्पीरियल कॉलेज , लंदन के अनुसार covid -19 से लगभग 13.4 % मरीज जो 80 साल और इससे ऊपर है , बच नहीं पाते, और वहीं कर्नाटक की हल्लाम्मा जो की 100 साल की है , इस महामारी से लड़ी।ये कर्नाटक की पहली महिला थी , जो की 100 साल की होने के बावजूद , कोरोना से रिकवर कर पायीं ।

image

जानिए उनके बारे में कुछ ज़रूरी बातें

  • ये महिला , जिनका नाम हल्लाम्मा है , जो की कर्नाटक के हुविना हडगली टाउन में रहती है ,16 जुलाई को कोरोना पॉजिटिव पायी गयीं थी ।
  • हल्लाम्मा का बेटा , बहु और पोता , पोती भी कोरोना पॉजिटिव पाएं गए और घर पर ही उनका इलाज किया गया , ताकि महामारी को फैलने से रोका जा सके ।
  • शयद , ये कर्नाटक की पहली महिला थी , जो की 100 साल की होने के बावजूद , कोरोना से रिकवर कर पायीं ।
  • ANI से बात करते हुए , हल्लाम्मा ने बताया की ,”डॉक्टर्स ने उन्हें बहुत अच्छे से ट्रीट किया , उनके रोज के खाने के साथ साथ उन्हें हर दिन एक सेब भी दिया जाता था और टेबलेट्स और इंजेक्शंस भी और अब वो स्वस्थ्य है ।
  • हेल्थ डिपार्टमेंट के अनुसार , हल्लाम्मा जी का बेटा बैंक में नौकरी करता है , और उसी के दौरान वो कोरोना पॉजिटिव हुए 3 जुलाई को , इसी के साथ साथ पूरा परिवार कोरोना पॉजिटिव पाया गया , 16 जुलाई को ।
  • हल्लाम्मा जी , ट्रिटमेंट अच्छे से फॉलो करने के बाद , 22 जुलाई को कोरोना नेगेटिव पायी गयी ।

आखरी महीने में , एक 97 साल का आगरा का आदमी , कोरोना से रिकवर कर पाया । और मई में , एक 106 साल का आदमी , दिल्ली में , कोरोना मुक्त हुआ । इस महामारी का सबसे ज्यादा खतरा , बजुर्ग लोगों को है , पर अच्छी बात तो ये है , की कुछ बजुर्ग लोग रिकवर भी कर पा रहे है ।

इम्पीरियल कॉलेज , लंदन के अनुसार covid -19 से लगभग 13.4 % मरीज जो 80 साल और इससे ऊपर है , बच नहीं पाते, और 1.25 % रेट , 50 साल की उम्र वालो का है , 40 की उम्र वालो का रेट ०.3 % है । इस महामारी में , खतरा बड़े – बजुर्गों को ज्यादा है क्यूंकि उनका इम्यून सिस्टम कमजोर होता है । और इम्यून सिस्टम कमजोर होने के कारण, ही लोगो की जानें जा रही है ।इस महामारी के दौरान , लापरवाहियों से जरूर बचे और अपने घरो में रहिये , ऐसा करने से आप और आपका परिवार सुरक्षित रहेगा

और पढ़िए : 14 साल की इंडो-अमेरिकन उद्यमी तारीनी डांग से मिलिये

 

Email us at connect@shethepeople.tv