हाल ही में एक जोड़े ने अपनी 18 साल से कम की बच्ची को यूएस में वैक्सीनेशन देने के लिए मुंबई हाईकोर्ट में वैक्सीनेशन पेटिशन दर्ज की। देश में अभी 18 वर्ष के ऊपर के लोगों को ही vaccine लगाए जाने की अनुमति दी गई है ऐसे में कई मां-बाप तीसरी लहर के दर से अपने 18 साल से कम के बच्चों को वैक्सीनेशन की बात कर रहे हैं।

कपल ने बच्ची को वैक्सीनेशन के लिए यूएस भेजने की पिटीशन दर्ज की

जैसा कि हम सभी जानते हैं देश में अभी 18 वर्ष के ऊपर के लोगों को ही डेस्टिनेशन लगाए जाने की अनुमति दी गई है ऐसे में कई मां-बाप तीसरी लहर के दर से अपने 18 साल से कम के बच्चों को वैक्सीनेशन की बात कर रहे हैं।

माता पिता ने कहा है कि वह बच्ची बचपन से ही यूएस की सिटीजन है इसलिए उसे यूएस में ही कोविड-19 की वैक्सीनेशन देने के लिए ट्रैवल के लिए अनुमति दी जाए।

हाईकोर्ट की बात

जस्टिस एसएस शिंदे और अभय अहूजा ने मंगलवार को इसकी पूरी हियरिंग के बाद कहां की बच्ची को वैक्सीनेशन के लिए बाहर भेजा जाना चाहिए।

जैसा कि बताया गया है सौम्या 14 साल से कम उम्र की है और इसलिए उसे अपने पेरेंट्स या फिर किसी गार्डियन के साथ ही वैक्सीनेशन के लिए जाना होगा।

लेकिन समय के माता-पिता उसके दादा दादी के साथ रहते हैं जिन्हें हाल ही में वैक्सीनेशन लगी है जिसके कारण उसके माता-पिता सौम्या को वैक्सीनेशन के लिए यूएस नहीं ले जा सकते। समय के माता-पिता को अभी कुछ समय ट्रैवल करने की अनुमति नहीं है।

ऐसे में वह चाहते हैं कि सौम्या को यूएस अकेले जाने की अनुमति मिले और वहां जाकर में वैक्सीनेशन करवा ले। यूएस में यूएस सिटीजन के अलावा भारतीयों को जाना फिलहाल के लिए मना है।

18 साल की कम उम्र के बच्चे अपने किसी नॉन सिटीजन गार्डियन के साथ भी जा सकते हैं इस कारण माता पिता वैक्सीनेशन पेटिशन डालने का फैसला लिया।

मुंबई हाई कोर्ट ने इस मामले पर नोटिस जारी करते हुए कहा कि वह इस पर एक हफ्ते बाद दोबारा हियरिंग करेंगे। ऐसे में माता पिता धैर्य बनाये रखें।

Email us at connect@shethepeople.tv