न्यूज़

डोमेस्टिक हेल्प की बेटी नंदिता हरिपाल ने झारखंड बोर्ड में किया टॉप

Published by
Mahima

जब झारखंड एकेडमिक काउंसिल, (JAC) रांची ने 17 जुलाई को अपने परिणाम घोषित किए तो नंदिता हरिपाल आर्ट्स टॉपर बनकर उभरीं। उन्होंने 500 में से 419 अंक हासिल कर आर्ट्स स्ट्रीम में टॉप किया। नंदिता जमशेदपुर वीमेंस कॉलेज (JCC) की छात्रा हैं। उसके पिता पेशे से एक दर्जी हैं और उसकी माँ घरेलू मदद का काम करती हैं।

इस साल, 2,34,363 उम्मीदवार JAC 12 वीं परीक्षा के लिए उपस्थित हुए थे। कुल पासिंग प्रतिशत 77.37% है। नंदिता ने हिंदी में 90, जियोग्राफी में 88, हिस्ट्री में 85, अंग्रेजी में 82 और पोलिटिकल साइंस में 74 अंक हासिल किए। वह एक जौर्नालिस्ट बनने की इच्छा रखती है।

“मैं एक अच्छे परिणाम की उम्मीद कर रही था, लेकिन मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं स्टेट टॉपर बनूँगी,” उसने टीओआई को बताया।

इम्पोर्टेन्ट बातें:

  • जब झारखंड एकेडमिक काउंसिल (JAC) रांची ने 17 जुलाई को इसके परिणाम घोषित किए, तब नंदिता हरिपाल आर्ट्स टॉपर के रूप में उभरीं ।
  • वह 500 अंकों में से 419 अंक प्राप्त करके आर्ट्स स्ट्रीम में टॉप पर रही। नंदिता जमशेदपुर वीमेंस कॉलेज (JWC) की छात्रा हैं।
  • उसके पिता पेशे से एक दर्जी हैं और उनकी माँ डोमेस्टिक हेल्प है.
  • वह एक पत्रकार बनने की इच्छा रखती है।

और पढ़िए : 12वीं कक्षा की दृष्टिहीन छात्रा हरलीन कौर ने 96.6% स्कोर किया

वह अपनी सफलता का श्रेय कक्षाओं में टाइम से पहुँचने, अपने स्टडी स्केड्यूल को और एक कोचिंग क्लास में जाने की अपनी नियमितता को देती है।

वीमेंस कॉलेज की प्रिंसिपल डॉ शुक्ला मोहंती ने भी टॉपर के घर जाकर उसे फूलों से आशीर्वाद दिया। इसके अलावा, उन्होंने टॉपर को आश्वासन दिया कि वह उसकी भाविष्य की पढ़ाई के लिए हर संभव सहायता करेंगी।

“मैं उसकी पढ़ाई में मदद करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ूंगा। माता-पिता को पढ़ाई में अपने बच्चों का समर्थन करना चाहिए। उन्हें उन पर दबाव नहीं डालना चाहिए, ”नंदिता के पिता, राजेश हरिपाल ने एएनआई को बताया।

टॉपर की रणनीति

नंदिता अपनी सफलता का श्रेय कक्षाओं में टाइम से पहुँचने, अपने स्टडी स्केड्यूल को और एक कोचिंग क्लास में जाने की अपनी नियमितता को देती है। उसने कहा कि उसके माता-पिता ने उसकी पढ़ाई में पूरी मदद की थी और अपने फाइनेंसियल क्राइसिस के कारण उसकी पढ़ाई प्रभावित नहीं होने दी ।

“यह जरूरी नहीं है कि केवल ट्यूशन लेने से ही कोई सफल होता है। हालांकि, उन्हें नियमित रूप से कक्षाओं में भाग लेना चाहिए, ”नंदिता ने एएनआई को बताया

और पढ़िए : “मैं डॉक्टर बनना चाहती हूँ”, कहती हैं हिमाचल प्रदेश क्लास 10 टोपर

Recent Posts

क्यों है सिंधु गंगाधरन महिलाओं के लिए एक इंस्पिरेशन? जानिए ये 11 कारण

अपने 20 साल के लम्बे करियर में सिंधु गंगाधरन ने सोसाइटी की हर नॉर्म को…

54 mins ago

श्रद्धा कपूर के बारे में 10 बातें

1. श्रद्धा कपूर एक भारतीय एक्ट्रेस और सिंगर हैं। वह सबसे लोकप्रिय और भारत में…

2 hours ago

सुष्मिता सेन कैसे करती हैं आज भी हर महिला को इंस्पायर? जानिए ये 12 कारण

फिर चाहे वो अपने करियर को लेकर लिए गए डिसिशन्स हो या फिर मदरहुड को…

2 hours ago

केरल रेप पीड़िता ने दोषी से शादी की अनुमति के लिए SC का रुख किया

केरल की एक बलात्कार पीड़िता ने शनिवार को सुप्रीम कोर्ट का रुख कर पूर्व कैथोलिक…

5 hours ago

टोक्यो ओलंपिक : पीवी सिंधु सेमीफाइनल में ताई जू से हारी, अब ब्रॉन्ज़ मैडल पाने की करेगी कोशिश

ओलंपिक में भारत के लिए एक दुखद खबर है। भारतीय शटलर पीवी सिंधु ताई त्ज़ु-यिंग…

5 hours ago

वर्क और लाइफ बैलेंस कैसे करें? जाने रुटीन होना क्यों होता है जरुरी?

वर्क और लाइफ बैलेंस - बहुत बार ऐसा होता है जब हम अपने काम में…

5 hours ago

This website uses cookies.