न्यूज़

दीपिका पादुकोण को वर्ल्ड इकनोमिक फोरम द्वारा क्रिस्टल अवार्ड से सम्मानित किया गया

Published by
Ayushi Jain

सोमवार को वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम ने 26 वें क्रिस्टल अवार्ड फंक्शन का आयोजन 50 वें एनुअल मीट के एक हिस्से के रूप में किया। इस कार्यक्रम ने एक ही मंच पर कई प्रभावशाली युवा नेताओं और सामाजिक कार्यकर्ताओं को एक स्टेबल सोसाइटी के निर्माण में उनके योगदान की सराहना करने के लिए एक साथ लाया। उनमें से एक दीपिका पादुकोण थीं। मेन्टल हेल्थ के लिए जागरूकता फैलाने के लिए और मानसिक बीमारी को खत्म करने की उनकी कोशिश के लिए उन्हें क्रिस्टल अवार्ड्स 2020 से सम्मानित किया गया। 2014 में पादुकोण को अपने बारे में क्लीनिकल डिप्रेशन का पता चला था।

द हिंदू के अनुसार, दीपिका पादुकोण ने अपनी स्पीच की शुरुआत मेन्टल प्रोब्लेम्स से पीड़ित लोगों के बढ़ते नंबर की और इशारा करके की। उन्होंने कहा, “जिस समय मुझे इस पुरस्कार को स्वीकार करने में मदद मिली है, दुनिया ने आत्महत्या करते हुए एक और व्यक्ति को खो दिया है। एक ट्रिलियन डॉलर वर्ल्ड इकॉनमी में डिप्रेशन और मेन्टल प्रोब्लेम्स का एस्टिमेटेड नंबर है। ”

एक कोहेसिव समाज का निर्माण

दीपिका ने एक कोहेसिवसमाज के निर्माण के महत्व के बारे में बताया जो मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों से जूझ रहे लोगों का सम्मान करता है। ऍनडीटीवी  के अनुसार, उन्होंने कहा, “जैसा कि हम में से ज्यादातर लोग जानते हैं कि एक कुहेसिव और स्टेबल दुनिया के बेनिफिट के लिए इस साल की मीटिंग के लिए टॉपिक है, लेकिन वास्तव में अब पहले से कहीं अधिक हासिल करने के लिए, हमें हर व्यक्ति की जरूरतों को प्राथमिकता देने की आवश्यकता है, इसमें शामिल हैं जो मानसिक बीमारी से प्रभावित हैं। ”

“जिस समय मुझे इस पुरस्कार को स्वीकार करने में मदद मिली है, दुनिया ने आत्महत्या करते हुए एक और व्यक्ति को खो दिया है। एक ट्रिलियन डॉलर वर्ल्ड इकॉनमी में डिप्रेशन और मेन्टल प्रोब्लेम्स का एस्टिमेटेड नंबर है। ”

उनके संघर्ष ने उन्हें क्या सिखाया

दीपिका ने खुद के संघर्ष का जिक्र करते हुए उन चुनौतियों के बारे में बताया जो मेन्टल प्रोब्लेम्स के मुद्दों को सामने लाती हैं। इंडिया टुडे के अनुसार, उन्होंने अपने अनुभव के बारे में बताया कि जब उन्हें डिप्रेशन  का पता चला था और उनकी मां के समर्थन के साथ उन्होंने ट्रीटमेंट की हेल्प मांगी थी। उन्होंने कहा, “डिप्रेशन एक नार्मल बीमारी है। यह समझना ज़रूरी है कि टेंशन और डिप्रेशन  किसी भी दूसरी बीमारी की तरह हैं और इलाज के लायक हैं। रिकवरी के लिए इसे स्वीकार करना पहला कदम है। यह इस बीमारी के साथ अनुभव था जिसने मुझे लिव लव लाफ स्थापित करने के लिए प्रोत्साहित किया। ”

Recent Posts

शालिनी तलवार कौन है? हनी सिंह की पत्नी जिन्होंने उनके खिलाफ घरेलू हिंसा का मामला दर्ज कराया है

यो यो हनी सिंह की पत्नी शालिनी तलवार ने उनके खिलाफ 3 अगस्त को दिल्ली…

6 hours ago

हनी सिंह की पत्नी ने दर्ज कराया उनके खिलाफ घरेलू हिंसा का केस, जाने क्या है पूरा मामला

बॉलीवुड के मशहूर सिंगर और अभिनेता 'यो यो हनी सिंह' (Honey Singh) पर उनकी पत्नी…

6 hours ago

यो यो हनी सिंह पर हुआ पुलिस केस : पत्नी ने लगाया घरेलू हिंसा का आरोप

बॉलीवुड सिंगर और एक्टर यो यो हनी सिंह की पत्नी शालिनी तलवार ने उनके खिलाफ…

6 hours ago

ओलंपिक मैडल विजेता मीराबाई चानू पर बनेगी बायोपिक : जाने बायोपिक से जुड़ी ये ज़रूरी बातें

वे किसी ऐसे व्यक्ति की तलाश में हैं जो ओलंपिक मैडल विजेता की उम्र, ऊंचाई…

7 hours ago

मुंबई सेशन्स कोर्ट ने गहना वशिष्ठ को अंतरिम राहत देने से किया इनकार

मुंबई की एक सत्र अदालत ने अभिनेत्री गहना वशिष्ठ को उनके खिलाफ दायर एक पोर्नोग्राफी…

7 hours ago

ओलंपिक मैडल विजेता मीराबाई चानू पर बायोपिक बनने की हुई घोषणा

लंपिक सिल्वर मैडल विजेता वेटलिफ्टर सैखोम मीराबाई चानू की बायोपिक की घोषणा हाल ही में…

8 hours ago

This website uses cookies.