Advertisment

दीपा कर्माकर ने रचा इतिहास! एशियाई चैंपियनशिप में जीता भारत का पहला स्वर्ण

भारतीय जिमनास्ट दीपा कर्माकर ने एशियाई महिला कलात्मक जिमनास्टिक चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतकर इतिहास रचा। जानिए उनके संघर्ष, वापसी और शानदार उपलब्धियों के बारे में

author-image
Vaishali Garg
New Update
Dipa Karmakar Wins India 1st Asian championship Gold

Dipa Karmakar Creates History! Wins India's 1st Gold in Asian Championships : भारतीय जिमनास्ट दीपा कर्माकर ने एक बार फिर इतिहास रच दिया है। 26 मई को ताशकंद में हुए एशियाई महिला कलात्मक जिमनास्टिक चैंपियनशिप के फाइनल में स्वर्ण पदक जीतकर उन्होंने अपनी उपलब्धियों की गौरवशाली गाथा में एक और स्वर्णिम अध्याय जोड़ा। 

Advertisment

दीपा कर्माकर ने फिर रचा इतिहास, एशियाई चैंपियनशिप में जीता भारत का पहला स्वर्ण पदक 

दृढ़निश्चय और कठिन परिश्रम का फल 

30 वर्षीय दीपा कर्माकर ने महिलाओं की वॉल्ट स्पर्धा के फाइनल में 13.566 के शानदार स्कोर के साथ भारत को इस टूर्नामेंट में पहला स्वर्ण पदक दिलाया। उत्तर कोरिया की किम सोन ह्यांग (13.466) और जो क्यूंग बोल (12.966) ने क्रमशः रजत और कांस्य पदक जीते। 2016 के ओलंपिक में भारत की पहली महिला जिमनास्ट के रूप में पहचान बनाने वाली दीपा ने 2015 में भी इसी स्पर्धा में कांस्य पदक जीता था।

Advertisment

प्रतिभा का प्रारंभिक सफर 

त्रिपुरा की मूल निवासी दीपा कर्माकर एक भारोत्तोलन कोच की बेटी हैं और मात्र छह साल की उम्र से ही जिमनास्टिक का अभ्यास कर रही हैं। जन्म से ही चपटे पैरों के साथ पैदा हुईं दीपा के लिए यह खेल एक चुनौती थी, लेकिन दृढ़निश्चयी खिलाड़ी ने इस चुनौती को पार करने के लिए कठिन प्रशिक्षण लिया। मात्र 14 वर्ष की उम्र में दीपा ने जलपाईगुड़ी में आयोजित जूनियर राष्ट्रीय चैंपियनशिप जीती थी। 

Advertisment

शानदार उपलब्धियों की धारा 

दीपा कर्माकर ने झारखंड में हुए 2011 के राष्ट्रीय खेलों में त्रिपुरा का प्रतिनिधित्व करते हुए शानदार प्रदर्शन किया। उन्होंने ऑल-अराउंड और चारों स्पर्धाओं: फ्लोर, वॉल्ट, बैलेंस बीम और असमान बार में स्वर्ण पदक जीते। 2014 के ग्लास्गो राष्ट्रमंडल खेलों में दीपा कांस्य पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला जिमनास्ट बनीं। 

2015 में विश्व चैंपियनशिप में दीपा फाइनल के लिए क्वालीफाई करने वाली पहली भारतीय बनीं और उन्होंने पाँचवाँ स्थान हासिल किया। उसी वर्ष उन्होंने जापान में एशियाई कलात्मक जिमनास्टिक चैंपियनशिप में कांस्य पदक भी जीता। 2016 के रियो ओलंपिक में भले ही दीपा पदक से 0.15 अंक से चूक गईं, लेकिन उन्होंने भारत में जिमनास्टिक का चेहरा बनने में सफलता हासिल की।

Advertisment

चोट और वापसी 

अप्रैल 2017 में दीपा कर्माकर के घुटने के पूर्वकालिक क्रूसिएट लिगामेंट की सर्जरी हुई थी और उन्हें नौ महीने से अधिक समय तक पुनर्वास से गुजरना पड़ा। वह अभ्यास भी नहीं कर सकीं और राष्ट्रमंडल खेलों, एशियाई चैंपियनशिप और विश्व चैंपियनशिप सहित कई प्रतियोगिताओं में भाग नहीं ले पाईं।

उसी वर्ष, उनकी सर्जरी के दो महीने बाद, उन्हें तत्कालीन राष्ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी द्वारा पद्म श्री से सम्मानित किया गया। 2017 में, उन्हें फोर्ब्स की 30 से कम उम्र के एशिया के सुपर अचीवर्स की सूची में भी नामित किया गया था। वह अर्जुन पुरस्कार (2014) और मेजर ध्यान चंद खेल रत्न पुरस्कार (2016) से भी सम्मानित हैं।

Advertisment

शानदार वापसी और निरंतर सफलता 

2018 में, दीपा कर्माकर ने तुर्की के मेर्सिन में FIG आर्टिस्टिक जिमनास्टिक वर्ल्ड चैलेंज कप में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय जिमनास्ट के रूप में शानदार वापसी की। दीपा कर्माकर उन चुनिंदा पांच महिलाओं में से एक हैं जिन्होंने महिला जिमनास्टिक में सबसे कठिन वॉल्टों में से एक, प्रोडुनोवा को सफलतापूर्वक उतारा है।

2023 में, प्रतिबंधित पदार्थ के सेवन के लिए सकारात्मक परीक्षण के बाद दीपा कर्माकर को 21 महीने के निलंबन का सामना करना पड़ा। वह जुलाई 2023 में खेलों में वापस आईं। जनवरी 2024 में, दीपा कर्माकर ने ओडिशा में आयोजित कलात्मक जिमनास्टिक राष्ट्रीय चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीता। एशियाई जिमनास्टिक चैंपियनशिप ओलंपिक क्वालीफिकेशन का अंतिम दौर था, जहाँ उन्होंने शानदार प्रदर्शन कर भारत के लिए पहला स्वर्ण पदक हासिल किया। 

दीपा कर्माकर की कहानी प्रेरणा से भरपूर है। उन्होंने न केवल अपने दृढ़ संकल्प और कड़ी मेहनत के बल पर सफलता हासिल की है, बल्कि चोटों से वापसी कर उन्होंने यह साबित किया है कि हार मानना उनके लिए कोई विकल्प नहीं है। दीपा कर्माकर निश्चित रूप से भारतीय जिमनास्टिक का भविष्य हैं और आने वाले वर्षों में उनसे कई और उपलब्धियों की उम्मीद की जा सकती है। 

Gold Dipa Karmakar दीपा कर्माकर Asian Championships
Advertisment