इनफ़ोसिस फाउंडेशन (Infosys Foundation) की चेयरपर्सन सुधा मूर्ति के नाम पर , एक बेबी एलीफैंट (elephant ) का नाम सुधा रखा गया. उसका जन्म बंगलुरु के “Bannerghatta Biological Park ” में सोमवार के दिन हुआ । बेबी एलीफैंट का नाम सुधा मूर्ति के नाम पर इसलिए रखा गया तांकि सुधा मूर्ति के वन्यजीव संरक्षण(wildlife conservation ) के लिए किये गए सहयोगों को सभी जाने और उन सहयोगों का सम्मान करें ।

image

बेबी एलीफैंट की माँ की उम्र 45 साल है, जिन्होंने बेबी गर्ल एलीफैंट को 17 अगस्त , सोमवार के दिन जन्म दिया और जिसका नाम सुधा मूर्ति के नाम पर रखे जाने के लिए , उनसे अनुमति मांगी गई तांकि उनके किये गए सहयोगों का धन्यवाद किया जा सकें । सुधा मूर्ति पहली महिला इंजीनियर थी जिसे ऑटोमोटिव मैन्युफैक्चरिंग कंपनी TELCO ने चुना हो. उनका 19 अगस्त को 70वा जन्मदिन भी मनाया गया था ।

बेबी एलीफैंट का नाम सुधा मूर्ति के नाम पर इसलिए रखा गया तांकि सुधा मूर्ति के वन्यजीव संरक्षण(wildlife conservation ) के लिए किये गए सहयोगों को सभी जाने और उन सहयोगों का सम्मान करें ।

सुधा मूर्ति के पति NR नारायणा मूर्ति, बंगलुरु IT मेजर इनफ़ोसिस LTD. के को – फाउंडर थे और जिनकी जिंदगी अपने आप में एक प्रेरणा भरी जिंदगी थी । सुधा और नारायणा मूर्ति को इंडिया का बेस्ट IT कपल माना जाता है । इस फाउंडेशन ने जानवरों के पीने के पानी को स्टोर करने की व्यवस्था में भी काफी मदद की और अपने रिसोर्स के साथ , हर जरूरी काम को पूरा किया ।

एक सीनियर फारेस्ट सर्विस अफसर ने IANS को कहा कि मूर्ति अक्सर BBP की रेगुलर विजिटर रहीं है और wildlife conservation enthusiasts ने सुधा के नाम पर , हाथी के बच्चे का नाम रखने का फैसला किया । उनसे अनुमति मांगी गई तांकि उनके किये गए सहयोगों का धन्यवाद किया जा सकें । 2016 और 2017 के दौरान मूर्ति ने काफी पैसों का सहयोग किया तांकि टाइगर, ज़ेबरा और जिराफ़ के लिए एक्सक्लूसिव कंपाउंड्स बनाएं जा सकें । उन्होंने एक स्टोरेज टैंक भी बनवाया और स्टाफ वेलफेयर के लिए भी पैसों की मदद की । उन्होंने काम का विकास बढ़ाने के लिए Binkadakatti Mini Zoo की अथॉरिटीज (authorities ) की भी मदद की.

और पढ़िए :  आईटी कपल नारायण और सुधा मूर्ति पर बनेगी बायोपिक

Email us at connect@shethepeople.tv