Boxing Club For Women: गाजा में महिलाओं के लिए खुला पहला बॉक्सिंग क्लब

महिलाओं के लिए बॉक्सिंग के फिलिस्तीनी केंद्र नाम के क्लब में आठ से 29 वर्ष की आयु की महिलाएं हैं और हर दिन 1.5 घंटे का ट्रेनिंग प्राप्त करती हैं। जानें अधिक इस ब्लॉग में -

Vaishali Garg
23 Jan 2023
Boxing Club For Women: गाजा में महिलाओं के लिए खुला पहला बॉक्सिंग क्लब

First Boxing Club For Women

First Boxing Club For Women: यह फिलिस्तीन बॉक्सिंग सेंटर में कोच ओसामा अय्यूब की कहानी है, जिन्होंने लड़कियों के लिए गाजा का एकमात्र बॉक्सिंग क्लब शुरू किया। आज क्लब में दो से 40 लड़कियों के टेनिंग से प्रगति की है। छह साल पहले, अय्यूब ने दो लड़कियों के साथ शुरुआत की, संख्या बढ़ने के साथ वह गैरेज से बाहर चली गईं और नए क्लब भवन में आने से पहले समुद्र तट पर या किराए के स्थानों पर ट्रेनिंग लेना शुरू कर दिया। ओसामा ने कहा, “लड़कियां तैयार हैं। मैंने उन्हें पांच साल तक कड़ी ट्रेनिंग दी, हम एक मिसाल कायम कर रहे हैं।'

गाजा में महिलाओं के लिए खुला पहला बॉक्सिंग क्लब (Gaza Women Boxing Club)

बॉक्सिंग क्लब अपने पूर्ण आकार के बॉक्सिंग रिंग, ट्रेनिंग प्रोडक्ट, और दीवारों पर माइक टायसन जैसे मुक्केबाजी नायकों के पोस्टर में 40 लड़कियों के ट्रेनिंग को कंडक्ट करता है। महिलाओं के लिए बॉक्सिंग के फिलिस्तीनी केंद्र नाम के क्लब में आठ से 29 वर्ष की आयु की महिलाएं हैं और हर दिन 1.5 घंटे का ट्रेनिंग प्राप्त करती हैं। यह एक ऐसे क्षेत्र में अपेक्षाओं को धता बता रहा है जहां मुक्केबाजी परंपरागत रूप से पुरुषों के लिए एक खेल रहा है।  उनमें से एक 15 वर्षीय फराह अबू अल-कोमसन है जो बॉक्सिंग सेंटर में कोच ओसामा अय्यूब के साथ अपनी चालों जाब्स और पंचों का अभ्यास कर रही है।  

अल-कोमसन नौ साल की उम्र से ट्रेनिंग ले रहीं हैं और उन्होंने गाजा में जीवन के तनावों से मुक्ति पाई है। अल-कोमसन ने कहा, “हम एक छोटे से गैरेज में ट्रेनिंग लेते थे। अब हम पूरे नियमों के अनुसार ट्रेनिंग लेते हैं और बुरी ऊर्जा देते हैं खेल में।"

आगे अल-कोम्सन ने कहा, "कुछ लोग मुझसे कहते थ बॉक्सिंग क्यों, इससे आपको क्या फायदा होने वाला है, जाओ और कुछ लड़कियों के साथ सीखो। मुक्केबाज़ी से मुझे बहुत फ़ायदा होता है और आज मेरी महत्वाकांक्षा अपने फ़िलिस्तीनी लोगों का प्रतिनिधित्व करने और विश्व चैंपियनशिप में भाग लेने की है।”

गाजा दुनिया के सबसे विवादित इलाकों में से एक है, वहां जिंदगी आसान नहीं रही है। स्थिति को देखते हुए इन मुक्केबाजों को चिलिंग कन्वेंशन और जेंडर स्टीरियोटाइपिंग के लिए अतिरिक्त प्रयास करने होंगे। गाजा में पहली बार खोला गया महिला मुक्केबाजी क्लब अपने आप में स्मारकीय है।

Read The Next Article