Advertisment

रूस में नदी में डूबने से चार भारतीय छात्रों की मौत

रूस में वोल्खोव नदी में डूबने से 4 भारतीय मेडिकल छात्रों की दुखद मौत हो गई। लेख में इस घटना का विवरण, परिवारों को दी जा रही सहायता और रूसी अधिकारियों द्वारा की जा रही जांच के बारे में बताया गया है।

author-image
Vaishali Garg
New Update
Crime (Freepik)

Four Indian Medical Students Drown in River in Russia: रूस के सेंट पीटर्सबर्ग के पास वोल्खोव नदी में डूबने से चार भारतीय मेडिकल छात्रों की दुखद मौत हो गई है। ये छात्र नोवगोरोड स्टेट यूनिवर्सिटी, वेलिकी नोवगोरोद में मेडिसिन की पढ़ाई कर रहे थे। उनकी उम्र 18 से 20 साल के बीच थी। 

Advertisment

रूस में नदी में डूबने से चार भारतीय छात्रों की मौत

त्रासदी का विवरण 

प्राप्त जानकारी के अनुसार, चारों छात्र - हर्षल अनंतराव देशाले, जीशान अशोक पिंजारी, जिया फिरोज पिंजारी और मलिक गुलामगौस मोहम्मद याक़ूब - वेलिकी नोवगोरोद में वोल्खोव नदी के किनारे घूम रहे थे, तभी किसी कारणवश वे पानी में गिर गए। प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया (पीटीआई) के अनुसार, इनमें से तीन छात्र महाराष्ट्र के जलगाँव जिले के रहने वाले थे: भाई-बहन जिया और जीशान पिंजारी, और हर्षल देशाले। एक परिवार के सदस्य ने पीटीआई को बताया कि जब जिया अपने माता-पिता के साथ वीडियो कॉल पर बात कर रहे थे, तभी वो और उनके तीनों साथी नदी में डूब गए। 

Advertisment

दुर्घटना तब हुई जब एक भारतीय छात्रा नदी में किनारे से थोड़ा दूर चली गई और उसे परेशानी होने लगी। उसे बचाने के लिए एक सराहनीय लेकिन दुर्भाग्यपूर्ण प्रयास में, उसके तीन साथी पानी में कूद पड़े। दुर्भाग्यवश, नदी की तेज धारा में फंसने के कारण सभी चारों छात्र डूब गए। वहीं, एक अन्य भारतीय छात्र को घटनास्थल पर मौजूद स्थानीय लोगों ने बचा लिया।

नोवगोरोड स्टेट यूनिवर्सिटी के एक प्रवक्ता ने कहा, "छात्र अपने ख़ाली समय में शाम को वोल्खोव नदी के किनारे शहर के समुद्र तट के पास घूम रहे थे। यह दुर्घटना अप्रत्याशित थी। निशा भूपेश सोनावने बच गईं। अब वे चिकित्सा कर्मचारियों की देखरेख में हैं।"

जवाबी कार्रवाई

Advertisment

इस त्रासदी के बाद, रूस में भारतीय दूतावास कार्यालय स्थानीय रूसी अधिकारियों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं ताकि छात्रों के शवों को भारत में उनके शोकग्रस्त परिवारों तक जल्द से जल्द पहुँचाया जा सके। मास्को में भारतीय दूतावास ने एक बयान जारी कर इस कठिन समय में परिवारों की मदद करने के लिए प्रतिबद्धता जताई है।

"हम शवों को जल्द से जल्द परिजनों के पास भेजने का प्रयास कर रहे हैं। जिस छात्रा की जान बचाई गई है, उन्हें भी उचित उपचार दिया जा रहा है," मास्को में भारतीय दूतावास ने कहा।

सेंट पीटर्सबर्ग में भारत के महावाणिज्य दूतावास के अनुसार, ये छात्र वेलिकी नोवगोरोद स्टेट यूनिवर्सिटी में मेडिसिन की पढ़ाई कर रहे थे। 

Advertisment

शोक संदेश और समर्थन 

इस हादसे से हुए दुखद नुक़सान पर हर तरफ से शोक संदेश और समर्थन का तांता लगा हुआ है। सेंट पीटर्सबर्ग में भारत के महावाणिज्य दूतावास ने स्थानीय अधिकारियों के साथ सहयोग पर प्रकाश डाला और कहा, "शोकग्रस्त परिवारों के प्रति हार्दिक संवेदनाएं।" महावाणिज्य दूतावास ने कहा कि वह वेलिकी नोवगोरोद के नगरपालिका अधिकारियों के साथ मिलकर मृतकों के अवशेषों को जल्द से जल्द परिवारों तक पहुँचाने के लिए काम कर रहा है। "शोकग्रस्त परिवारों से संपर्क किया गया है और उन्हें हर संभव मदद का आश्वासन दिया गया है।

इस दुखद घटना के बाद, शोकग्रस्त परिवारों को हर संभव मदद और सहायता प्रदान की जा रही है। भारतीय दूतावास और महावाणिज्य दूतावास मृतक छात्रों के परिवारों के साथ निकट संपर्क में हैं और शवों के शीघ्र प्रत्यावर्तन और अंतिम संस्कार की व्यवस्था करने में सहायता कर रहे हैं।

इसके अलावा, मनोवैज्ञानिक सहायता और भावनात्मक समर्थन भी प्रदान किया जा रहा है ताकि इस कठिन समय में परिवारों को ढांढस मिल सके।

Students Drown in River in Russia Indian Medical Students
Advertisment