2020 में आए कोरोना ने हम सबको सिखाया की पैसे और काम से बढ़कर है सेहत। जब हम सब लोग ना जाने कितने देशों के लोग महीनों घरों में बंद रहे। इस वायरस ने हमें परिवार से जोड़ा और सेहत की अहमियत सिखाई। आज पूरे एक साल बाद कोरोना की वैक्सीन बन पायी है और भारत बड़े पैमाने पर कोविद वैक्सीनेशन कार्यक्रम चला रहा है ताकि सभी को जल्दी जल्दी वैक्सीन मिले और सब वापस अपने काम में निष्फिक्र होकर लग पाएं । आज हम आपको बताएंगे की कोरोना वैक्सीन के दो डोज में कितना अंतर रखें –

एक्सपर्ट का क्या कहना है ?

एक्सपर्ट कहते हैं कि हर वैक्सीन की पहली और दूसरी वैक्सीन के डोज के बीच का फर्क अलग अलग है। जैसे की फाइजर वैक्सीन की दो खुराकों के बीच 21 दिन का गैप का सुझाव है। पर सभी वैक्सीन के बीच का गैप बीस के आस पास ही है। भारत में हमें जो वैक्सीन लगेगी उसके बीच 4 हफ्ते यानि 28 दिन का अंतर रखने को कहा गया है।

कौन कौन सी वैक्सीन है तैयार ?

वैक्सीन तो अलग अलग देशों में मिलकर बहुत सारी बनायीं गयी हैं पर भारत में सबसे पहले तो सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा विकसित कोविशिल्ड (Covishield) उसके बाद भारत बायोटेक लिमिटेड द्वारा विकसित कोवैक्सिन है। और ज्यादातर यही वैक्सीन भारत सर्कार द्वारा सबको लगायी जाएगी।

प्राथमिकता वाले लोगों की लिस्ट

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा प्राथमिकता वाले लोगों की पूरी लिस्ट तैयार की गयी है। इस लिस्ट में कुल 30 करोड़ लोग हैं। इन 30 करोड़ में से 1 करोड़ लोग स्वास्थ्य कार्यकर्ता , 2 करोड़ पुलिस विभाग से और 27 करोड़ ऐसे लोग हैं जिनकी उम्र 50 से ऊपर है या फिर जो 50 की उम्र के नीचे हैं पर उन्हें कोई बीमारी है।

वैक्सीन लगने के बाद

आप ये ना सोचें की आपको वैक्सीन लग गयी है तो अब आपको इतिहाद बरतने की जरुरत नहीं है। वैक्सीन लगने के बाद भी आपको सामाजिक दूरी बनाकर रखना है , हाँथ धोते रहना है और मास्क पहन कर रखना है।

Email us at connect@shethepeople.tv