Molestation Case: गुरुग्राम की एक महिला से देवर ने की छेड़छाड़, पति ने जमकर पीटा पत्नी को

आइए जानते हैं आज के न्यूज़ ब्लॉग में गुरुग्राम के हादसे से की क्यों आज भी पुरुषों की गलतियों के लिए महिलाओं को जिम्मेदार क्यों ठहराया जाता है-

Vaishali Garg
09 Nov 2022
Molestation Case: गुरुग्राम की एक महिला से देवर ने की छेड़छाड़, पति ने जमकर पीटा पत्नी को

Molestation Case

Molestation Case: हाल ही में हरियाणा के गुरुग्राम से एक परेशान करने वाली खबर सामने आई है जिसमें बताया गया है की एक व्यक्ति ने सिर्फ अपनी पत्नी को इसलिए पीटा क्योंकि उसने कहा कि देवर(जो उसके पति का भाई है) ने की उसके साथ छेड़छाड़। आपको बता दें की महिला ने पति और ससुराल वालों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है।

Molestation Case: आखिर क्यों आज भी पुरुषों की गलतियों के लिए महिलाओं को जिम्मेदार क्यों ठहराया जाता है

कई सदियों से पुरुषों द्वारा की जाने वाली गलतियों के लिए महिलाओं को जिम्मेदार ठहराया जाता आ रहा है। अधिकतर महिलाओं को यह सुनना पड़ता है कि अगर उसने तुमको छेड़ा है, तो तुमने मेकअप क्यों करा या फ़िर उसने तुम्हें इसलिए छेड़ा क्योंकि तुम ऐसा चाहती होगी। आज भी बहुत से पुरुषों की सोच है कि सब कुछ महिलाओं के व्यवहार या ठीक से काम न करने के कारण होता है जो एक पुरुष को अपराध करने और गलतियाँ करने के लिए मजबूर करता है। गुरुग्राम का यह हाल ही का मामला इस मनोदशा को दर्शाता है कि एक पुरुष कैसे आज भी अपनी पत्नी को देखता है। गुरुग्राम के उस पुरुष ने अपनी पत्नी को सिर्फ इसीलिए पीटा क्योंकि उसकी पत्नी ने अपने साथ हुए अत्याचार के खिलाफ आवाज उठाई और अपने पति को यह बताया कि तुम्हारे भाई ने मेरे साथ छेड़छाड़ की।

Molestation Case: महिला ने देवर पर लगाया छेड़छाड़ का आरोप

यह घटना 27 अक्टूबर को हरियाणा के गुरुग्राम के सुभाष कॉलोनी में हुई थी। 35 वर्षीय महिला के देवर ने उसे अपने आवास पर अकेला पाया और उसे पीछे से पकड़ लिया फिर उसके साथ बलात्कार करने की कोशिश की। जब उसने यह समझाने की कोशिश की अपने पति और ससुराल वालों को की उसके साथ क्या हुआ, तो उन्होंने अपने लड़के का पक्ष लिया और उसे हर चीज के लिए दोषी ठहराया। पति ने मारपीट भी की और बच्चों के साथ घर से निकाल दिया।

महिला ने अपने बयान में बताया कि, “जब मैंने इसका विरोध किया तो उसने मेरे कपड़े फाड़ दिए और मेरे साथ बलात्कार करने का प्रयास किया  मेरे पति और परिवार के अन्य सदस्यों ने उसका पक्ष लिया। उन्होंने मुझे पीटा और मेरे बच्चों के साथ देर रात मुझे अपने घर से बाहर निकाल दिया। मैं तब अपने मायके पहुंचने में कामयाब रही ”। ससुराल वालों ने देवर के इरादों और कामों पर सवाल नहीं उठाया, जो दुख की बात है कि ऐसे मामलों में एक सामान्य और गलत परिदृश्य है।

महिला ने मंगलवार 8 नवंबर को अपने पति और ससुराल वालों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई और अब पुलिस मामले की जांच कर रही है। उस शहर के पुलिस थाने के एसएचओ वेदपाल ने कहा कि एक प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है और अब पुलिस आरोपों और तथ्यों की पुष्टि कर रही है।

image widget
अनुशंसित लेख