क्यों मनाया जाता है हिंदी दिवस? हिंदी भाषा से जुड़ी जानकारी

क्यों मनाया जाता है हिंदी  दिवस? हिंदी भाषा से जुड़ी जानकारी क्यों मनाया जाता है हिंदी  दिवस? हिंदी भाषा से जुड़ी जानकारी

Swati Bundela

14 Sep 2022

हिंदी दिवस पर जानिए हिंदी भाषा से जुड़ी जानकारी हिंदी भारत की राजभाषा है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि कैसे यह हिंदुस्तान की मातृभाषा बनी और क्यों 14 सितंबर को हिंदी दिवस घोषित किया गया? आज हम इस आर्टिकल में इन सब बातों की जानकारी देंगे। क्यों मनाया जाता है हिंदी दिवस हिंदी दिवस हर साल 14 सितंबर को मनाया जाता है। आजादी के बाद 14 सितंबर 1946 को देवनागरी लिपि में लिखी हिंदी को भारत की आधिकारिक भाषा के रूप में स्वीकार किया गया।इसके बाद भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू ने इस दिन को हिंदी दिवस मनाने का फैसला किया। आधिकारिक रूप से 14 सितंबर 1953 को देश में पहली बार हिंदी दिवस मनाया गया था। क्या है हिंदी शब्द का अर्थ 'हिंदी' शब्द फारसी भाषा से निकला है जिसका मतलब है ' सिंधु नदी की भूमि'। जैसे कि आप सब जानते ही हैं कि भारत की प्राचीन सिंधु घाटी सिंधु नदी के किनारे बसी थी इसलिए फारसियों ने सिंधु नदी के पास रहने वाले लोगों को हिंदू और वहाॅ के लोगों द्वारा बोली जानी वाली भाषा को हिंदी कहा जाने लगा। क्यों मनाया जाता है हिंदी दिवस हिंदी दिवस को मनाने का मुख्य कारण लोगों को इस भाषा के बारे में जानकारी देना है। इसका विस्तार पूरी दुनिया में करना है। अलग-अलग जगाहों पर मनाया जाता है यह दिवस इस दिन स्कूल- कॉलेजों, सरकारी- निजी कार्यालयों में हिंदी दिवस को मनाने के लिए प्रोग्राम आयोजन किए जाते हैं।इसके साथ ही 1 से 15 सितंबर से हिंदी पखवाड़ा मनाया जाता है। कितने लोग बोलते हैं हिंदी भारत की बात करें तो इसमें सबसे ज्यादा हिंदी उत्तरप्रदेश में बोली जाती ही उसके बाद बिहार, मध्य प्रदेश, राजस्थान और हरियाणा में बोली जाती है। इसके अलावा यह भाषा विष्व स्तर पर अपने पैर पसार रही है। विदेशों में बसे भारतीयों के कारण बहुत से देशों में हिंदी बोलने वालों को अच्छी जनसंख्या है। भारत देश में करीब 50करोड़ लोग हिंदी बोलते हैं। आज भी कई लोग हिंदी बोलने में मानते है शर्म हैं आज भी हमारे देश में बहुत से लोग हिंदी बोलने के शर्म मानते है।उनको लगता है कि अगर वे हिंदी बोलेंगे तो समाज में उनका स्टेटस कम होंगा। आजकल तो लोग यह भी समझने लगे हैं कि अगर वे हिंदी बोलेंगे तो शायद यह लगेगा कि उन्हें अंग्रेजी नहीं आती। हिंदी हमारी भाषा है और हमें इसे बोलने पर गर्व होना चाहिए।

अनुशंसित लेख