इस समय, जब चारों ओर जानलेवा कोविड-19 का जाल फैला हुआ है और हर कोई अपनी जान बचाने के लिए घर में है, वहीं हमारे पास है एक ऐसी अफसर जिनका कोरोनावायरस का टेस्ट पॉजिटिव आया है, और उसके बावजूद भी वह काम कर रहीं है ताकि उनकी डयूटी न रह जाए। जी हाँ, वह अफसर हैं

image

मध्य प्रदेश की प्रिंसिपल सेक्रेटरी (हेल्थ), आईएएस अफसर, पल्लवी जैन गोविल, जिनका कोविड-19 टेस्ट पॉजिटिव आने के बाद वह क्वारंटाइन रहने के बजाए अपनी डयूटी निभा रहीं हैं।

आइए जानते हैं इस बारे में कुछ और बातें:

1. शनिवार की शाम, पल्लवी जैन गोविल और एडिशनल डायरेक्टर डॉ. वीणा सिन्हा का कोविड-19 टेस्ट रिजल्ट पॉजिटिव आया। यही नहीं, हेल्थ डिपार्टमेंट के और तीन अफसर भी पॉजिटिव पाए गए हैं।

2. उनके साथ मीटिंग्स करने वाले व उनके कांटेक्ट में आने वाले 12 अफसरों ने अपने आप को होम क्वारंटाइन कर लिया है।

3. द वीक की रिपोर्ट के मुताबिक़, डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर ने भोपाल व चार इमली लोकैलिटी भी है, जहाँ सीनियर आईएएस अफसर रहते हैं, समेत 5 लोकलिटीज़ में एक किमी. की दूरी बनाए रखने को कहा गया है। इन्हे कन्टेनमेंट एरियाज घोषित कर दिया गया है।

4. आईएएस अफसर पल्लवी कोविड-19 से लड़ने के लिए बनाई गई टास्क फाॅर्स की पार्ट हैं।

5. वह मध्य प्रदेश में ड्रग्स, एकविपमेन्ट व लोजिस्टिक्स को मैनेज करने का काम करतीं हैं।

6. उन्होंने एक छोटे वीडियो में कहा कि,”आपको अखबारों से पता चला होगा की मेरा कोरोनावायरस के लिए पॉजिटिव पाई गई हूँ। हम इतने लोगों के साथ काम करते हैं तो हो सकता है मुझे किसी से इन्फेक्शन हो गया हो। मुझे लक्षण महसूस नहीं हो रहे। मैं स्वस्थ हूँ और डॉक्टर की सलाह पर ही अपने कमरे से काम कर रही हूँ।”

7. राज्य के मुख्य मंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पल्लवी की तारीफ की है। उन्होंने कहा की पल्लवी को घर पर रह कर आराम करने की सलाह दी गई थी, लेकिन फिर भी उन्होंने काम काने का चुना।

8. और तो और, चौहान का यह भी कहना है कि,”यह आपके जैसे अफसरों की असिस्टेंस ही है जिसके कारण हम जल्द ही इस इन्फेक्शन को अपने राज्य से निकाल पाएंगे।

9. गोविल का यह भी कहना है कि,”ज़्यादातर लोगों के लिये यह एक माइल्ड इन्फेक्शन है, जिसमे उन्हें लक्षण भी महसूस नहीं होते। अच्छा यही है कि हम घर पर रहें।”

10. मध्य प्रदेश में कुल 194 केसेस हैं, जिनमे से 26 पेशेंट्स भोपाल के एम्स में ट्रीटमेंट करवा रहें हैं। 13 लोगों की मौत हो चुकी है। सबसे ज़्यादा, 128 केसेस इंदौर में हैं। भारत में कुल 4067 केसेस हैं, व 109 की मौत हो चुकी है।

यह आर्टिकल महक कौर कक्कर द्वारा लिखा गया है

Email us at connect@shethepeople.tv