Kangana Ranaut On Diwali Crackers: कंगना रनौत ने कहा जो पटाखे चलाने से मना कर रहे हैं वो 2-3 दिन के लिए कार की जगह पैदल ऑफिस जाएं

Kangana Ranaut On Diwali Crackers: कंगना रनौत ने कहा जो पटाखे चलाने से मना कर रहे हैं वो 2-3 दिन के लिए कार की जगह पैदल ऑफिस जाएं Kangana Ranaut On Diwali Crackers: कंगना रनौत ने कहा जो पटाखे चलाने से मना कर रहे हैं वो 2-3 दिन के लिए कार की जगह पैदल ऑफिस जाएं

SheThePeople Team

03 Nov 2021

Kangana Ranaut On Diwali Crackers - जैसे ही दिवाली आती है वैसे ही पटाखे के बैन को लेकर सभी जगह शोर होने लगता है ऐसे में अलग अलग लोगों के अलग अलग ओपिनियन सामने आते हैं। हाल में ही एक्ट्रेस कंगना रनौत ने कहा कि जो भी लोग दिवाली के पटाखे बैन करने कि कह रहे हैं वो कुछ दिनों के लिए ऑफिस पैदल ही जाएं और कार का इस्तेमाल न करें।

सदगुरु ने दिवाली को लेकर क्या कहा? Kangana Ranaut On Diwali Crackers


यह कंगना का स्टेटमेंट सदगुरु के एक वायरल वीडियो के बाद आया है जिस में सदगुरु कह रहे हैं कि छोटे छोटे बच्चे पटाखों के लिए कई महीनों पहले से उत्साहित रहते हैं और ऐसे में उन्हें पटाखे चलाने की ख़ुशी न देना गलत होगा। इससे बेहतर है कि आप आपके बच्चों की यह ख़ुशी न छीने उन्हें पटाखे चलाने दें और खुद दो तीन दिन के गाड़ी की जगह पैदल चलें जिससे प्रदुषण का असर कम हो जाएगा।

अरविन्द केजरीवाल ने दिवाली को लेकर क्या कहा?


कंगना ने भी सदगुरु की यह वीडियो इनके इंस्टाग्राम पर पोस्ट भी की और लिखा कि इन्होंने खुद लाखों पेड़ लगाएं हैं और उन्होंने उन लोगों को सही जवाब दिया है जो पटाखे चलाने के लिए मना करते हैं। वहीँ दूसरी ओर दिल्ली के चीफ मिनिस्टर अरविन्द केजरीवाल ने दिल्ली में पटाखों को जनवरी तक के लिए बैन कर दिया है और कहा है कि यह लोगों की सेहत के लिए जरुरी था।

दिल्ली के प्रदुषण कण्ट्रोल कमिटी ने पटाखों की बेच और खरीद पर रोक लगा दी है और जो भी पटाखे चलते देखा जायेगा उसके खिलाफ कार्यवाही भी की जाएगी।

ऐसा इसलिए कहा गया है क्योंकि दिल्ली में हर साल पटाखे चलाने ने दिवाली के बाद बहुत जयादा प्रदुषण बड़ जाता है और यह अभी से बड़ना चालू हो भी चुका है। कई एक्टर भी दिवाली के वक़्त प्रदुषण को लेकर खुलकर बोलते हैं और रिया कपूर ने कहा है कि पटाखे चलना न सिर्फ अब बहुत पुराणी बात हो गयी है बल्कि इसका मतलब यह भी है कि आप बहुत गैर ज़िम्मेदार भी हैं। इसलिए पटाखे न चलाएं।

अनुशंसित लेख