Karnataka Girl Arrested: व्हट्सप्प स्टेटस की वजह से अरेस्ट हुई लड़की, जानिए पूरा मामला

Karnataka Girl Arrested: व्हट्सप्प स्टेटस की वजह से अरेस्ट हुई लड़की, जानिए पूरा मामला Karnataka Girl Arrested: व्हट्सप्प स्टेटस की वजह से अरेस्ट हुई लड़की, जानिए पूरा मामला

SheThePeople Team

28 Mar 2022


Karnataka Girl Arrested: एक व्हट्सप्प स्टेटस की वजह से कोई व्यक्ति अरेस्ट भी हो सकता है, शायद ही किसी ने सुना होगा। पर ऐसा कर्नाटक के मुधोल शहर में रहने वाली एक औरत के साथ हुआ जहाँ उसके 23 मार्च को व्हट्सप्प नाम की ऐप पर व्हट्सप्प स्टेटस पोस्ट करने पर जेल जाना पड़ा। आईए जानते है पूरी खबर-

Karnataka Girl Arrested: पूरा मामला क्या है?

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार कर्नाटक के बागलकोट जिले के मुधेल शहर में रहने वाली 25 वर्षीय कुठमा शेख नाम की महिला जो मदरसे की छात्रा भी है, उसने 23 मार्च को पाकिस्तान के गणतंत्र दिवस पर व्हाट्सएप स्टेटस डाला। जिसमे उन्होंने 23 मार्च,पाकिस्तान के गणतंत्र दिवस पर अपने व्हाट्सएप स्टेटस पर उर्दू में लिखा था- "अल्लाह हर मुल्क में इत्तिहाद... अमन...सुकून...अता फरमा मौला।"
इसका अर्थ -"अल्लाह हर देश को शांति और एकता प्रदान करे"। जिसके चलते कार्यकर्ता अरुण कुमार भजंत्री ने मुधोल पुलिस स्टेशन में कुठमा शेख के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई। जिसके बाद कुठमा शेख को गिरफ्तार किया गया था।

महिला के खिलाफ शिकायत में क्या दर्ज है?

अरुण ने अपनी पुलिस रिपोर्ट में दावा किया कि महिला तनाव भड़काने का लक्ष्य बना रही थी। इसलिए उसे गिरफ्तार किया जाए। पुलिस ने कुठमा शेख पर इंडियन पेनल कोर्ट की धारा 153 (ए) और 505(2) लगाई जो किसी धर्म, नस्ल या अन्य करक्टेरिस्टिक्स के आधार पर समूहों के बीच घृणा को उकसाने और ग्रुप्स के बीच शत्रुता, बैर को बढ़ावा देने वाले बयान पर लगाई जाती है।

पुलिस के अनुसार उन्होंने महिला को देश में शांति और व्यवस्था बनाए रखने के लिए हिरासत में लिया गया था। पुलिस ने महिला को 24 को कस्टडी में लिया और अगले ही दिन उसे बेल मिल गयी।

अथानी-बेस्ड लॉयर ने क्या कहा?

कर्नाटक के एक लॉयर और राइट तो इनफार्मेशन एक्टिविटिस्ट Bheemangouda Paragonda ने इस मामले पर टिपण्णी की। उन्होंने पुलिस पर तंग कसा और कहा- ऐसे आरोप अदालत में नहीं टिकेगे। पुलिस का ऐसी प्रतिक्रिया निर्दोष लोगों को परेशान करने वाली प्रतीत होती है। पुलिस को अपने विवेक और जजमेंट का इस्तेमाल कर एक्शन लेना चाहिए था। इसपर एक पुलिस अधिकारी ने कहा अगर वो समय पर एक्शन ना लेते तो दंगे हो सकते थे।





अनुशंसित लेख