COVID-19 महामारी और नेशनल लॉकडाउन के बीच, हमारे जीवन उलट पलट हो गया है। हालांकि, विग्नेश केएम और अंजलि रंजीथ – केरल के रहने वाले कपल – एक साल से ज़्यादा टाइम से अपनी शादी की प्लानिंग कर रहे थे, उन्होंने उनकी फिक्स्ड तारीक पे ही शादी करने का फैसला किया।

image

“सौभाग्य से सब कुछ ठीक से हो गया। एक स्टेबल इंटरनेट और टेक्नोलॉजी ने वर्चुअल शादी में शामिल होने के लिए हमारे परिवार और दोस्तों को दुनिया भर से जुड़ने में मदद की। यह एक पूरी तरह से अलग एक्सपीरियंस लेकिन यादगार एक्सपीरियंस था। ” विग्नेश ने कहा।

इस कपल ने सभी ट्रेडिशन और रीति-रिवाजों का पालन किया और शादी पूरी की। दूल्हे ने ट्रेडिशनल “सफेद धोती” के साथ सफेद शर्ट पहना और दुल्हन ने नीले और सुनहरे बॉर्डर वाली नौ यार्ड्स की सफेद साड़ी पहनी थी।

केरल के विग्नेश और अंजलि अपनी शादी के लिए अपने घर वापस जाने वाले थे, लेकिन COVID-19 महामारी के कारण नहीं जा सके।

और पढ़िए: कोरोनावायरस के समय में इस भारतीय कपल ने की वर्चुअल शादी

“लॉकडाउन के शुरुआती दिनों के टाइम हमें उम्मीद थी कि मई के पहले सप्ताह तक हम कम से कम घर जा सकेंगे। लेकिन जैसे-जैसे दिन बीतते गए, हमें एहसास होने लगा कि हम नहीं जा सकते, लेकिन फिर भी, हम शादी को टालना नहीं चाहते ”अंजलि ने कहा।

वर और वधू के माता-पिता केरल से वर्चुअल शादी का हिस्सा बने। उन्होंने मंगलसूत्र और शादी में पहनने के कपडे केरल में लॉकडाउन में ढील होने के बाद स्पीड पोस्ट द्वारा भेजे। इस जोड़ी ने इंडियन पोस्ट को लॉकडाउन के बीच भी समय से डिलीवरी करने के लिए आभार व्यक्त किया और उसकी प्रशंसा भी की।

COVID-19 महामारी के कारण नेशनल लॉकडाउन ने पूरे देश में लोगों को अपनी शादियों को टालने के लिए मजबूर कर दिया है। कोरोनवायरस ने शादी के इंडस्ट्री को बहुत बुरी तरह इफ़ेक्ट किया है।इस महामारी के कारण शादियों के प्लानिंग और एक्सेक्यूटिव में शामिल लोगों को भारी नुकसान भी हुआ है। कई डेस्टिनेशन वेड्डिंग्स को बंद कर दिया गया है और इंटरनेशनल बुकिंग में भी काफी कमी आई है।

और पढ़िए: बीएसएफ के एक कांस्टेबल ने शादी में 11 लाख रुपये दहेज में लेने से किया इंकार

Email us at connect@shethepeople.tv