Child's Letter to PM: कृति दुबे की बढ़ती महंगाई के बारे में वायरल पत्र

Child's Letter to PM: कृति दुबे की बढ़ती महंगाई के बारे में वायरल पत्र Child's Letter to PM: कृति दुबे की बढ़ती महंगाई के बारे में वायरल पत्र

Monika Pundir

01 Aug 2022

पहली कक्षा के एक छात्र ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मैगी, पेंसिल और महंगे हो चुके अन्य सामानों के बारे में एक दिल को छूने वाला पत्र लिखा। इस पत्र को उन्होंने हिंदी में लिखा, उत्तर प्रदेश के कन्नौज के छिबरामऊ की 6 वर्षीय कृति दुबे ने अपने संघर्षों को शेयर किया।

कृति दुबे का पत्र:

सोशल मीडिया पर व्यापक रूप से लोकप्रिय हुए इस नोट में कहा गया है: "मेरा नाम कृति दुबे है। मैं कक्षा एक में पढ़ती हूं। मोदी जी आपने बहुत महंगाई कर दी है। यहां तक पेंसिल-रबड़ तक महंगी कर दी है और ...मैगी के दाम बढ़ा दिए हैं। अब मेरी मां पेंसिल मांगने पर मारती है। मैं क्या करूं? बच्चे मेरी पेंसिल चोरी कर लेते हैं।"

सोशल मीडिया पर उनके पिता और वकील विशाल दुबे ने पत्र की पुष्टि की। यह उनकी बेटी की मन की बात है, उन्होंने पत्रकारों से कहा। उसने कहा, कि, वह हाल ही में परेशान हो गई जब उसकी माँ ने उसे स्कूल में पेंसिल खो जाने पर फटकार लगाई।

बच्चों द्वारा प्रधानमंत्री को शिकायत:

हालांकि, यह पहली बार नहीं है जब बच्चों ने किसी बात को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सामने  विरोध किया है। रिपोर्ट्स के अनुसार, पिछले साल एक अन्य लड़की द्वारा ऑनलाइन पोस्ट किए गए एक वीडियो में, जम्मू-कश्मीर के एक 6 वर्षीय बच्चे ने कोरोनावायरस के प्रकोप के परिणामस्वरूप ऑनलाइन क्लासेस आयोजित किए जाने पर अपनी नाराजगी व्यक्त की। उन्होंने विस्तारित कक्षाओं और गृहकार्य(होमवर्क) पर भी चर्चा की।

बच्ची ने वीडियो में मोदी को अभिवादन के साथ संबोधित किया और खुद को छह साल के बच्चे के रूप में पेश किया, जो उनसे ऑनलाइन पाठ के बारे में बात करना चाहती थी। उसने यह भी उल्लेख किया कि उसे अंग्रेजी, उर्दू और गणित कक्षाओं के साथ-साथ कंप्यूटर और पर्यावरण स्टडीज कार्यक्रमों में भाग लेना था।

जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल(लेफ्टिनेंट गवर्नर) मनोज सिन्हा ने घोषणा की कि उन्होंने स्कूल शिक्षा विभाग को इस वीडियो के वायरल होने के 48 घंटे के भीतर एक नीति जारी करने का आदेश दिया। सिन्हा ने कहा, “बहुत प्यारी शिकायत। स्कूली बच्चों पर होमवर्क का बोझ कम करने के लिए स्कूल शिक्षा विभाग को 48 घंटे के भीतर नीति बनाने का निर्देश दिया है। बचपन की मासूमियत भगवान का उपहार है और उनके दिन जीवंत, ख़ुशी और आनंद से भरे होने चाहिए।”

केंद्र शासित प्रदेश(यूनियन टेरिटरी) के स्कूल शिक्षा विभाग को जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने दो दिनों के भीतर छात्रों पर ऑनलाइन कक्षाओं का बोझ कम करने का आदेश दिया था, जब उस छह वर्षीय कश्मीरी लड़की के वीडियो में प्रधानमंत्री नरेंद्र से बहुत अधिक होमवर्क के बारे में शिकायत की, जो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया।

अनुशंसित लेख