Who Is Manpreet Monika Singh? अमेरिका की पहली महिला सिख न्यायाधीश

मनप्रीत मोनिका जो अमेरिका में पहली सिख महिला न्यायधीश है उनका कहना है कि वह इस बात से अधिक उत्साहित हैं कि जज के रूप में उनका चुनाव बड़े पैमाने पर सिख समुदाय के लिए क्या मायने रखता है। जानें पूरी खबर इस न्यूज़ ब्लॉग में-

Vaishali Garg
09 Jan 2023
Who Is Manpreet Monika Singh? अमेरिका की पहली महिला सिख न्यायाधीश

Manpreet Monika Singh

Manpreet Monika Singh: भारत की मनप्रीत मोनिका सिंह ने हैरिस काउंटी जज के रूप में शपथ ली है जिससे वह अमेरिका में पहली महिला सिख न्यायाधीश बन गईं हैं। मनप्रीत मोनिका सिंह ने 20 वर्षों तक एक परीक्षण वकील के रूप में काम किया और अब वे स्थानीय राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर विभिन्न नागरिक अधिकार संगठनों में शामिल रहीं हैं।

मनप्रीत मोनिका सिंह ने शपथ समारोह में कहा "यह मेरे लिए बहुत मायने रखता है क्योंकि मैं एच डाउन का सबसे अधिक प्रतिनिधित्व करती हूं इसलिए हम इसके लिए खुश हैं"। मनप्रीत मोनिका जो अमेरिका में पहली सिख महिला न्यायधीश है उनका कहना है कि वह इस बात से अधिक उत्साहित हैं कि जज के रूप में उनका चुनाव बड़े पैमाने पर सिख समुदाय के लिए क्या मायने रखता है। उन्होंने कहा "मैं इस बात से उत्साहित हूं कि समुदाय को स्पॉटलाइट मिल रही है और लोग पूछ रहे हैं कि सिख कौन है इससे क्या फर्क पड़ता है।"

Who Is Manpreet Monika Singh?

  • मनप्रीत का जन्म और पालन-पोषण ह्यूस्टन में हुआ और वर्तमान में वह अपने पति और दो बच्चों के साथ बेलेयर में रहती हैं। मनप्रीत के पिता 1970 के दशक की शुरुआत में अमेरिका चले गए थे।
  • मनप्रीत का पालन पोषण नॉर्थवेस्ट ह्यूस्टन में हुआ और उन्होंने क्लीन फॉरेस्ट हाई स्कूल ऑस्टिन में टेक्सास विश्वविद्यालय और टैक्सेस कॉलेज ऑफ लॉ में पढ़ाई की। 2010 में मनप्रीत ह्यूस्टन यंग लॉयर्स एसोसिएशन मोस्ट अंडरस्टैंडिंग अटोनी की उपविजेता रही। 2017 में मनप्रीत ने दक्षिण एशियाई बार एसोसिएशन के प्रतिष्ठित सदस्य का पुरस्कार जीता।
  • सिंह टेक्स उसके एसीएलयू टेक्स प्लेस यू और सिख गठबंधन के निदेशक मंडल में है, जहां वे एक ट्रस्टी के रूप में भी काम करती हैं। वह एक्सक्लूसिव अमेरिका बोर्ड ऑफ ट्रायल एडवोकेट्स के लिए एक चैप्टर प्रतिनिधि के रूप में काम करती हैं। मनप्रीत एक्सेस बार सीए क्लासेस के लिए चल रही लेक्चर भी लेती हैं जहां उन्हें 2018 में टेक्स्ट डायवर्सिटी चैंपियन अवार्ड से सम्मानित किया गया था।
  • मनप्रीत ने उत्कृष्टता पुरस्कार के लिए एक राष्ट्रव्यापी जुनून भी प्राप्त किया। एफबीआई नागरिक एकेडमी से मनप्रीत ने ग्रेजुएशन की उपाधि प्राप्त की और लीडरशिप ट्यूशन कार्यक्रम पूरा किया। मनप्रीत ने मेयर टर्नर की संक्रमण टीम में और होमलैंड सुरक्षा विभाग के संपर्क के रूप में भी काम किया है।
  • एक अप्रवासी की बेटी के रूप में टॉप पर पहुंचने की उनकी यह राह इतनी आसान नहीं थी। इस बारे में मनप्रीत कहती हैं कि जब उन्होंने कानून में अपना करियर शुरू किया तो पैसे पर गोरे लोगों का वर्चस्व था और उनमें से ज्यादातर को उनके नाम का उच्चारण करने में भी परेशानी होती थी, मनप्रीत के पिता और भाई को भी भेदभाव का सामना करना पड़ा और मनप्रीत ने हमेशा एक संकल्प खोजने और बदलाव लाने की कोशिश।
  • एक बच्चे के रूप में वे इतिहास में विशेष नागरिक अधिकारों के आंदोलनों में रुचि रखती थी। वह कहती हैं कि लोगों को हिलाते बदलाव लाते देखना उनके लिए बहुत बड़ी बात है, इसलिए उस समय अमेरिका में सामान्य सिख परिवार के अधिकांश बच्चों की तरह इंजीनरिंग या चिकित्सक का अध्ययन करने की वजह है उन्होंने वकील बनने का विकल्प चुना।


Read The Next Article