मध्य प्रदेश के माइग्रेनट वर्कर की बेटी पूजा रानी ने हरियाणा बोर्ड ऑफ स्कूल एजुकेशन में 10वीं की परीक्षाओं में 80.4 प्रतिशत मार्क्स हासिल किए। पूजा अपने पेरेंट्स और तीन बहनों के साथ रोहतक कॉलोनी के एक फुटपाथ पर 10×10 के टिन शेड में रहती है।

image

यूनियन HRD मिनिस्टर डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने पूजा रानी की तारीफ की और ट्वीट किया, “प्रवासी श्रमिक की बेटी पूजा रानी ने एचबीएसई की दसवीं कक्षा की परीक्षा में 80.4 प्रतिशत अंक हासिल किए। अपने परिवार के साथ एक फुटपाथ पर 10 × 10 टिन शेड में रहते हुए, लड़की ने साबित कर दिया है कि कुछ भी असंभव नहीं है। पूजा, आप हम सभी के लिए एक प्रेरणा हैं! ”

और पढ़ें ‌-क्या CBSE टॉपर्स को ट्रोल करने से हमारा एजुकेशन सिस्टम सुधर जाएगा ?

“मेरी बेटियों ने किताबों में अपना जीवन पाया है”

“पाँच साल पहले, मैंने अपनी पढ़ाई गांधी स्कूल’ से शुरू की थी – एक अन्फॉर्मल स्कूल जो स्ट्रीटलाइट के नीचे था। जहाँ माइग्रेंट वर्कर्स के बच्चों को शिक्षा मिलती थी, ”पूजा ने बताया, जिसके पिता कैलाश कुमार एक डेली वैजर है। उसकी माँ कई घरों में पार्ट-टाइम क्लीनर के रूप में काम करती है। पूजा के पिता ने अपनी चार बेटियों के बारे में कहा- “मेरी बेटियों ने किताबों में अपना जीवन पाया है” ।

पूजा टीचर बननाा चाहती है

पूजा ने कहा- “मुझे आज यह बताते हुए गर्व हो रहा है कि मैंने 80 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त किए हैं और मेरे मां-बाप मेरी इस उपलब्धि से काफी खुश हैं, खासकर मेरी माँ, जो चार बेटियों की पढ़ाई को सपोर्ट करने के लिए स्वीपिंग, क्लीनिंग जैसे कई काम करती हैं।”

पूजा जो एक टीचर बनने का सपना देखती है, वह अपने जैसे अन्य माइग्रेनट परिवारों के बच्चों को पढ़ाने की उम्मीद करती है। फाइनेंशियल सपोर्ट और गाइडेंस की कमी के कारण ये बच्चे अक्सर पीछे रह जाते हैं।

और पढ़ें ‌-अनुष्का पांडा ने डिसेबल्ड कैटेगरी में 12 वी में टॉप कर 95.2 प्रतिशत अंक प्राप्त किये

Email us at connect@shethepeople.tv