Advertisment

निशा दहिया: पेरिस 2024 ओलंपिक के लिए क्वालीफाई कर इतिहास रचने वाली पहलवान

24 वर्षीय भारतीय पहलवान निशा दहिया ने 68 किग्रा वर्ग में शानदार प्रदर्शन कर पेरिस 2024 ओलंपिक के लिए क्वालीफाई किया। जानिए उनकी प्रेरणादायक यात्रा और भारत की महिला कुश्ती में उनके योगदान के बारे में।

author-image
Vaishali Garg
New Update
Nisha Dahiya

Image credit: IANS

Nisha Dahiya: Wrestler Creates History by Qualifying for Paris 2024 Olympics : 24 वर्षीय भारतीय कुश्ती सनसनी निशा दहिया ने कैसे लड़ीं अपना रास्ता और पहुंचीं पेरिस ओलंपिक 2024 तक! इस्तांबुल में आयोजित विश्व ओलंपिक क्वालीफायर्स में, 24 वर्षीय भारतीय कुश्ती सनसनी निशा दहिया ने 68 किग्रा वर्ग में पेरिस 2024 ओलंपिक के लिए भारत का पांचवां कोटा हासिल कर लिया। विश्व ओलंपिक क्वालीफायर्स में शानदार प्रदर्शन के साथ, दहिया ने प्रतिष्ठित पेरिस ओलंपिक के लिए अपनी जगह पक्की कर ली है। यह उल्लेखनीय उपलब्धि हासिल करने वाली वह पांचवीं भारतीय महिला पहलवान बन गई हैं।  

Advertisment

उनकी पेरिस ओलंपिक यात्रा का सफर तब और मजबूत हुआ, जब उन्होंने सेमीफाइनल में रोमानिया की एलेक्जेंड्रा एंजेल के खिलाफ 8-4 के दमदार स्कोर के साथ शानदार जीत हासिल की।

निशा दहिया: पेरिस 2024 ओलंपिक के लिए क्वालीफाई कर इतिहास रचने वाली पहलवान 

ऐतिहासिक उपलब्धि 

Advertisment

ओलंपिक क्वालीफिकेशन के लिए दहिया का रास्ता वाकई उल्लेखनीय है। पहलवानों का गढ़ माने जाने वाले हरियाणा के रोहतक से ताल्लुक रखने वाली दहिया ने प्रसिद्ध छोటు राम स्टेडियम में अनुभवी कोचों के मार्गदर्शन में अपने कौशल को निखारा है। महिला कुश्ती के शीर्ष पर पहुंचने का उनका सफर उनकी प्रतिबद्धता और लचीलेपन को दर्शाता है, जो कभी भी चुनौती से पीछे नहीं हटतीं।

दहिया का शानदार प्रदर्शन 

दहिया का ओलंपिक कोटा हासिल करने का सफर चुनौतियों और दृढ़ संकल्प से भरपूर रहा। विश्व अंडर-23 कांस्य पदक विजेता के रूप में, दहिया ने क्वालीफायर के शुरू होते ही अपना दमखम दिखा दिया। चेक गणराज्य की शीर्ष वरीयता प्राप्त एडेला हंजलिकोवा के खिलाफ कड़े मुकाबले के क्वार्टरफाइनल मैच में, दहिया ने पिछड़ने के बाद शानदार वापसी करते हुए अपनी धैर्य का परिचय दिया। हार के करीब पहुंचने के बावजूद, जब हंजलिकोवा ने उन्हें चित करने का प्रयास किया, तब दहिया ने रणनीतिक दांवपेंच के साथ वापसी की और अंततः 7-4 के स्कोर से जीत हासिल की।

Advertisment

शुरुआती झटके से बेखौफ होकर, एलेक्जेंड्रा एंजेल के खिलाफ सेमीफाइनल मुकाबले में दहिया ने कुश्ती के मैदान पर अपने कौशल को और मजबूत किया। 8-0 की बढ़त के साथ, दहिया ने अपनी रणनीतिक प्रतिभा का प्रदर्शन किया, लेकिन उनकी रोमानियाई प्रतिद्वंद्वी ने भी जोरदार वापसी करते हुए स्कोर को 8-4 तक पहुंचा दिया। हालांकि, दहिया का संकल्प अडिग रहा और वह जीत हासिल कर पेरिस ओलंपिक के लिए भारत का पांचवां कोटा हासिल करने में सफल रहीं।

भारतीय महिला कुश्ती की अग्रणी 

दहिया की जीत भारतीय कुश्ती के लिए एक महत्वपूर्ण क्षण है, क्योंकि वह पेरिस खेलों में जगह बनाने वाली देश की पांचवीं महिला पहलवान बन गई हैं। अंतिम पंघाल, विनेश फोगाट, अंशु मलिक और रितिका फूल के साथ दहिया की उपलब्धि वैश्विक मंच पर इस खेल में भारतीय महिलाओं के बढ़ते पराक्रम को रेखांकित करती है। गौरतलब है कि यह पहला मौका होगा जब भारत चार साल में होने वाले इस खेल महाकुंभ में पांच महिला पहलवानों को भेजेगा।

पेरिस ओलंपिक क्षितिज पर है, भारत का कुश्ती दल सबसे बड़े मंच पर अपना कौशल दिखाने के लिए तैयार है। यह जीत न सिर्फ देश का गौरव बढ़ाएगी बल्कि आने वाली पीढ़ी के पहलवानों को भी बड़े सपने देखने और उत्कृष्टता के लिए प्रयास करने की प्रेरणा देगी। निशा दहिया की कहानी निष्ठा, कड़ी मेहनत और कभी हार न मानने की भावना का प्रतीक है। उनकी जीत भारत के उज्ज्वल भविष्य की निशानी है, जहां खेल के क्षेत्र में महिलाएं भी अपना दम दिखा रही हैं।

Paris 2024 Olympics Paris 2024 Nisha Dahiya
Advertisment