Fake Death: मॉल कर्मचारी की हत्या कर अपनी मौत का नाटक किया महिला ने

नोएडा की एक महिला ने दूसरी महिला की हत्या कर दी, उसके शरीर को कपड़े पहनाकर और एक नकली सुसाइड नोट लिखकर फिर अपनी मौत का नाटक किया। आइए जानते हैं पूरा मामला आज के इस न्यूज़ ब्लॉग में-

Vaishali Garg
02 Dec 2022
Fake Death: मॉल कर्मचारी की हत्या कर अपनी मौत का नाटक किया महिला ने

Fake Death

Fake Death: नोएडा की एक महिला ने दूसरी महिला की हत्या कर दी, उसके शरीर को कपड़े पहनाकर और एक नकली सुसाइड नोट लिखकर फिर अपनी मौत का नाटक किया। आरोपी पायल भाटी ने 12 नवंबर को अजय ठाकुर की मदद से हेमा चौधरी का मडर कर दिया। आपको बता दें कि भाटी और ठाकुर दोनों को नोएडा पुलिस ने गिरफ्तार किया था।

पुलिस के अनुसार, भाटी और ठाकुर ने 12 नवंबर को  हेमा चौधरी को किडनैप कर लिया और फिर उसकी हत्या कर दी। आरोपियों ने पहचान मुश्किल बनाने के लिए चौधरी के चेहरे को विकृत कर दिया और एक सुसाइड नोट लिखा। नकली सुसाइड नोट के आधार पर शव भाटी के परिजनों को सौंप दिया गया जिन्होंने शव का अंतिम संस्कार कर दिया।

Woman Fakes Her Death

आपको बता दें की 1 दिसंबर को पुलिस ने दंपति की पोल खोल दी और उन्हें बुलंदशहर में खोज ही लिया। भाटी और ठाकुर एक स्थानीय मंदिर से भाग गए थे और दोनों एक साथ रह रहे थे। एक पुलिस अधिकारी ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया, "उसने <भाटी> और उसके प्रेमी <ठाकुर> ने 12 नवंबर को हेमा को किडनैप कर लिया था, जब हेमा गौड़ सिटी मॉल में अपने कार्यस्थल से चली गई। वे उसे घर बढ़पुरा ले गए, उसकी कलाई काट दी, और उसके चेहरे को विकृत करने के लिए गर्म तेल डाला ताकि शव की पहचान न हो ”।

नकली सुसाइड नोट में भाटी ने लिखा है कि किचन में गर्म तेल उसके चेहरे पर गिर गया था और वह अपंग हो गई थी और वह उसके साथ नहीं रह सकती थी। पुलिस अधिकारी ने कहा कि भाटी ने अपने कपड़े चौधरी को पहना दिए। पुलिस ने कपड़ों की पहचान करने के लिए कपड़ों का इस्तेमाल किया और चौधरी के शरीर को भाटी के रूप में गलत तरीके से पहचाना गया। उसके परिजनों ने लास्ट रिचुअल कर शव का अंतिम संस्कार कर दिया है। पुलिस ने बताया कि छह महीने पहले भाटी के माता-पिता की सुसाइड से मौत हो गई थी और भाटी ने अपने चचेरे भाई और उसकी पत्नी को जिम्मेदार ठहराया था। नोएडा सेंट्रल के अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त साद मिया खान के अनुसार, भाटी अपनी मौत का मंचन करना चाहती थी ताकि वह और हत्याओं की योजना बना सके और ठाकुर के साथ भाग सके।

पुलिस ने बताया की, “वह बदला लेना चाहती थी।  यह एक सुनियोजित मडर था जिसकी हम अभी तक जांच कर रहे हैं।” हेमा चौधरी की गुमशुदगी की शिकायत पर जांच करते हुए पुलिस इस मामले का पर्दाफाश करने में सफल रही थी। मॉल के आसपास के सीसीटीवी फुटेज को स्कैन किया गया और हेमा के फोन को सर्विलांस पर रखा गया।  इससे पता चला कि उसका आखिरी ठिकाना बढ़पुरा घर के 50 मीटर के दायरे में था, जहां उसका शव मिला था। पुलिस ने आत्महत्या की आगे जांच की क्योंकि यह संदिग्ध था और भाटी के प्रेमी ठाकुर को ट्रैक किया, जो उन्हें भी भाटी तक ले गया।

Read The Next Article