Brain Dead Woman Saves Lives: ब्रेन-डेड महिला ने बचाई 5 लोगों की जान

Brain Dead Woman Saves Lives: ब्रेन-डेड महिला ने बचाई 5 लोगों की जान Brain Dead Woman Saves Lives: ब्रेन-डेड महिला ने बचाई 5 लोगों की जान

Monika Pundir

16 Jul 2022

एक 34 वर्षीय ब्रेन डेड महिला के परिवार के अंग दान करने के लिए सहमत होने के बाद, पुणे में सेना की दक्षिणी कमान के अस्पताल के अधिकारियों ने यह सुनिश्चित करने के लिए अपने प्रयासों का कोआर्डिनेशन किया कि गंभीर रूप से बीमार पांच रोगियों को गुरुवार की देर रात जीवन पर नए अवसर मिले। सेना अस्पताल के डिप्टी कमांडेंट ब्रिगेडियर भूपेश गोयल के अनुसार, दो सक्रिय-ड्यूटी सैनिकों के लिए अंग ट्रांसप्लांट(प्रत्यारोपण) गुरुवार रात और शुक्रवार की सुबह के बीच हुआ।

गोयल ने कहा, "कमांड अस्पताल (दक्षिणी कमान) सशस्त्र बल मेडिकल कॉलेज काम्प्लेक्स के आई बैंक में आंखों को सुरक्षित रखा गया है।" रिपोर्ट्स के मुताबिक रूबी हॉल क्लिनिक की एक सर्जिकल टीम ने अस्पताल के एक मरीज का लीवर निकाला। महिला एक रिटायर्ड सैनिक की पत्नी थी, और वह ब्रेन डेड थी। उसे गुरुवार को भर्ती कराया गया था, और मृत घोषित होने के बाद, उसके परिवार ने उसे अंग दान के लिए तैयार हो गए।

ब्रेन-डेड महिला ने बचाई जान

14 जुलाई की देर शाम और 15 जुलाई की सुबह के समय, दो भारतीय सेना के जवान जो अभी भी सक्रिय ड्यूटी पर थे, उनका किडनी ट्रांसप्लांट किया गया, सीएच (एससी) -आर्म्ड फोर्सेस मेडिकल कॉलेज के कॉम्प्लेक्स का आई बैंक में आँखें बचाई गईं, और पुणे के रूबी हॉल क्लिनिक में एक मरीज का लिवर ट्रांसप्लांट हुआ।

अस्पताल के ट्रांसप्लांट कोऑर्डिनेटर के साथ बातचीत के बाद, उसके परिवार के सदस्यों ने फैसला किया कि उसके अंग उन रोगियों को दान कर दिए जाने चाहिए जिन्हें उनकी तत्काल आवश्यकता थी। आवश्यक अप्रूवल प्राप्त करने के बाद अस्पताल की ट्रांसप्लांट टीम को सक्रिय कर दिया गया था, और सेना के ऑर्गन रिट्रीवल एंड ट्रांसप्लांट डिपार्टमेंट(AORTA) और जोनल ट्रांसप्लांट कोऑर्डिनेशन सेंटर (ZTCC) को भी अलर्ट कर दिया गया था।

इसी तरह के मामले

नोएडा स्थित एक समाचार पोर्टल के अनुसार, 8 जुलाई को अस्पताल में भर्ती एक 25 वर्षीय मरीज को इंट्राक्रैनील ब्लीडिंग के कारण ब्रेन-डेड घोषित कर दिया गया था। ट्रांसप्लांट कोऑर्डिनेटर मयूरी बार्गे के मुताबिक, परिवार के अंगदान के लिए राजी होने के बाद उनकी दो किडनी, एक लीवर और दोनों कॉर्निया डोनेट किए गए। डीवाई पाटिल के अस्पताल में एक किडनी 40 वर्षीय चिकित्सक को और दूसरी दीनानाथ मंगेशकर अस्पताल में एक मरीज को दी गई। एक 65 वर्षीय अस्पताल के डॉक्टर ने उनसे लिवर ट्रांसप्लांट किया।

पिंपरी अस्पताल में, एक 72 वर्षीय महिला को डीआरएस की टीमों से लिवर ट्रांसप्लांट किया गया। 

ऑर्गन डोनेशन से जान बचाई जाती हैं। हम मरकर भी किसी और को जीवनदान दे सकते हैं।

अनुशंसित लेख