12th एग्जाम को लेकर सभी जगह टेंशन फैली हुई है ऐसे में पैरेंट्स भी अब बच्चों के सपोर्ट में आ गए हैं। पेरेंट्स का भी यही मन्ना है कि इस महामारी के बीच पेपर करवाना सही नहीं है। अभी देश में कोरोना कि दूसरी लहर उफान पर है और इस वक़्त जान से बढ़कर कुछ भी नहीं है इसलिए सभी पेरेंट्स ने मिलकर PM मोदी को एग्जाम कैंसिल करने के लिए आवेदन लिखा था। पेरेंट्स एसोसिएशन PM मोदी

कोरोना की दूसरी लहर के चलते क्लास 10th के बोर्ड एग्जाम कैंसिल कर दिए गए थे। इन सभी चीज़ों से बच्चे बहुत समय से परेशान थे और अभी सेंट्रल बोर्ड ने परीक्षा को रद्द कर के सब बच्चों को खुश कर दिया है। ऐसा निर्णय ने ये साबित कर दिया कि सरकार को अभी भी बच्चों की चिंता है और वो कोरोना वायरस को सीरियसली लेते हैं। इसके बाद से ही किस तरीके से बच्चों को मार्क्स दिए जाये उसके बारे में फैसला लेने को लेकर चर्चा चल रही थी।

12th बोर्ड को लेकर क्या चर्चा चल रही है ?

अभी CBSE 12th बोर्ड एग्जाम कैंसिल होने को लेकर कोई भी फैसला नहीं आ पाया है और बात अभी चल रही है। इसका फैसला अगले हफ्ते तक आने की उम्मीद है। इसके लिए सभी बच्चे काफी लम्बे समय से इंतज़ार कर रहे हैं और इस से उनके मेन्टल हेल्थ पर भी काफी फर्क पढ़ रहा है। कोरोना की दूसरी लहर अभी चल रही है और सभी जगह अभी हज़ारों लोग रोजाना अपनी जान गवा रहे हैं।

10th क्लास को लेकर क्या फैसला आया है ?

CBSE बोर्ड एग्जाम के मार्क्स कुल 100 मेसे हर सब्जेक्ट के लिए दिए जायेंगे। 100 में से 20 मार्क्स इंटरनल अस्सेस्मेंट के होंगे। इसके बाद बचे हुए 80 मार्क्स जो स्कूल पहले से पेपर ले चुके हैं सके हिसाब से दिए जायेंगे।

सभी CBSE स्कूलों में एक कमिटी बनाने का निर्णय लिया गया है। इस कमिटी में प्रिंसिपल होंगे और इसके अलावा सात टीचर्स होंगे। इन टीचर्स में से पांच स्कूल के ही होंगे जो कि हर एक विषय के होंगे। इसका रिजल्ट बनने के बाद CBSE के पोर्टल पर ही अपलोड करदिया जायेगा और बच्चे घर बैठे आसानी से रिजल्ट जान पाएंगे।

Email us at connect@shethepeople.tv