Advertisment

क्यों कई भावी माता-पिता इस हफ्ते 'मुहूर्त डिलीवरी' की तलाश कर रहे हैं?

डॉक्टर भावी माता-पिता के बीच 22 जनवरी को राम मंदिर प्रतिष्ठा समारोह के अनुरूप सिजेरियन डिलीवरी निर्धारित करने की बढ़ती मांग देख रहे हैं। देश भी जिन महिलाओं की डिलीवरी जनवरी के आखिर में होनी है वे 22 जनवरी को सिजेरियन डिलीवरी कराना चाहती हैं।

author-image
Priya Singh
New Update
Pregnant (Pinterest).png

(Image Credit - Pinterest)

Advertisment

उन्होंने मीडिया को बताया कि माता-पिता कथित तौर पर ऐसा इसलिए कर रहे हैं ताकि उनके बच्चे भगवान राम के गुणों को अपना सकें। डॉक्टरों ने कहा कि उस दिन सिजेरियन डिलीवरी कराने के अनुरोधों की संख्या "चिंताजनक" है, क्योंकि कुछ लोग उम्मीद करते हैं कि वे जटिलताओं को नजरअंदाज कर देंगे।

Ram Mandir Consecration: डॉक्टरों ने मुहूर्त डिलीवरी अनुरोधों की बौछार कर दी

Advertisment

कानपुर के गणेश शंकर विद्यार्थी मेमोरियल मेडिकल कॉलेज के प्रसूति एवं स्त्री रोग विभाग की सीमा द्विवेदी के अनुसार, उन्हें एक लेबर रूम में 12 से 14 सिजेरियन डिलीवरी के अनुरोध मिले हैं। उन्होंने प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया को यह भी बताया कि 22 जनवरी को 35 सीजेरियन ऑपरेशन की व्यवस्था की जा रही है।

उनके अनुसार, माता-पिता का मानना है कि शुभ दिन पर अपने बच्चे को जन्म देने से उनके परिवार को उनके अपने भगवान राम का आशीर्वाद मिलेगा। द्विवेदी ने कहा, "माताओं का मानना है कि भगवान राम वीरता, अखंडता और आज्ञाकारिता के प्रतीक हैं, इसलिए मंदिर में 'प्राण प्रतिष्ठा' (अभिषेक) के दिन पैदा होने वाले शिशुओं में भी वही गुण होंगे।"

दक्षिण में भी, राम मंदिर के उत्साह ने कई भावी माता-पिता को उस दिन सिजेरियन सेक्शन डिलीवरी का अनुरोध करने के लिए प्रेरित किया है। टाइम्स ऑफ इंडिया  के अनुसार, बेंगलुरु निवासी अंकिता अग्रवाल ने इस शुभ दिन के लिए अपने लिए एक स्लॉट बुक किया है। उन्होंने कहा, "यह वास्तव में एक आशीर्वाद है।" उन्होंने कहा कि वे उसी दिन दोपहर को बच्चे को जन्म देंगे। डॉक्टरों को यह बात कष्टदायक लगती है कि बहुत से माता-पिता उस दिन सिजेरियन डिलीवरी की उम्मीद करते हैं।

बेंगलुरु के एक निजी अस्पताल में प्रसूति एवं स्त्री रोग की प्रमुख सलाहकार डॉ. एन सपना लुल्ला ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया, "जन्म देना एक प्राकृतिक प्रक्रिया है और यह अपने आप ही प्रकट होता है। मुझे लगता है कि हमें इसमें खलल नहीं डालना चाहिए। इसलिए, हम समय-निर्धारण की अनुशंसा नहीं करते हैं।" किसी विशिष्ट दिन या समय के लिए डिलीवरी।" इस बीच, सीमा द्विवेदी ने पीटीआई-भाषा से कहा, ''यह चिंताजनक है कि कभी-कभी परिवार के सदस्य हमसे यह अपेक्षा भी करते हैं कि हम ऐसा करने से मां और बच्चे के लिए उत्पन्न होने वाली जटिलताओं को नजरअंदाज कर दें।''

Ram Mandir Consecration Muhurat Deliveries Expectant Parents राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा
Advertisment