Advertisment

प्रीति पाल ने रचा इतिहास: पैरा एथलेटिक्स में कांस्य जीतकर पेरिस पैरालिंपिक के लिए क्वालीफाई किया

प्रीति पाल ने वर्ल्ड पैरा एथलेटिक्स चैंपियनशिप में 200 मीटर दौड़ में कांस्य पदक जीतकर इतिहास रचाया। जानिए उनकी प्रेरक कहानी और पेरिस पैरालिंपिक के लिए कैसे किया क्वालीफाई।

author-image
Vaishali Garg
एडिट
New Update
Preeti Pal Makes History: Wins Bronze in Para Athletics, Qualifies for Paris Paralympics

Image Credit: paralympicindia Instagram

Preeti Pal Makes History: Wins Bronze in Para Athletics, Qualifies for Paris Paralympics: उत्तर प्रदेश की प्रीति पाल ने कोबे, जापान में चल रहे वर्ल्ड पैरा एथलेटिक्स चैंपियनशिप में नई ऊंचाइयां हासिल की हैं। कठिन चुनौतियों का सामना करने के बावजूद, 23 वर्षीय एथलीट ने महिलाओं की T35 200 मीटर स्पर्धा में कांस्य पदक जीता, जिससे उन्होंने खेल इतिहास में अपना नाम दर्ज करा लिया। अपने शानदार प्रदर्शन के साथ, प्रीति ने न केवल प्रतिष्ठित कांस्य पदक हासिल किया बल्कि पेरिस पैरालिंपिक के लिए एक महत्वपूर्ण कोटा भी हासिल किया, जो दुनिया भर के महत्वाकांक्षी एथलीटों के लिए एक प्रेरणा के रूप में उनके दर्जे की पुष्टि करता है।

Advertisment

प्रीति पाल ने रचा इतिहास: पैरा एथलेटिक्स में कांस्य जीतकर पेरिस पैरालिंपिक के लिए क्वालीफाई किया

दृढ़ संकल्प और निरंतर प्रयासों से बनाई गई सफलता की राह

पोडियम तक पहुंचने का प्रीति का सफर दृढ़ता और निरंतरता से भरा रहा है। हांगझोउ एशियाई पैरा खेलों सहित पिछली प्रतियोगिताओं में पदक जीतने से चूकने के बाद, उन्होंने विश्व चैंपियनशिप का रुख दृढ़ संकल्प के साथ किया। खराब मौसम की परवाह किए बिना, प्रीति ने 30.49 सेकंड का प्रभावशाली समय निकालते हुए शानदार प्रदर्शन किया, जो वैश्विक मंच पर उनकी क्षमता का प्रदर्शन करता है।

Advertisment

विश्व मंच पर भारत का गौरव बढ़ाया

प्रीति पाल की जीत न केवल एक व्यक्तिगत उपलब्धि है बल्कि पैरालिंपिक के वैश्विक मंच पर भारत के स्थान को भी ऊंचा ले जाती है। वह विश्व पैरा एथलेटिक्स चैंपियनशिप में तीव्र प्रतिस्पर्धा वाली 200 मीटर दौड़ में पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला हैं। उनकी यह जीत देश के लिए गौरव का क्षण है।

Advertisment

अविश्वसनीय प्रदर्शन के साथ पेरिस का टिकट हासिल किया

अपने अदम्य संकल्प और बेजोड़ कौशल के साथ, प्रीति ने T35 वर्ग में 30.49 सेकंड का शानदार समय निकालते हुए कांस्य पदक जीतकर जीत हासिल की। इस उल्लेखनीय उपलब्धि के साथ, प्रीति ने इस साल के अंत में पेरिस में होने वाले आगामी पैरालंपिक खेलों में अपनी जगह बना ली है।

कठिनाइयों को पार कर हासिल किया लक्ष्य

Advertisment

छोटी उम्र में सेरेब्रल पाल्सी से ग्रसित होने के बावजूद, उन्होंने एथलेटिक्स के लिए अपने जुनून को पूरा करने के लिए चुनौतियों का सामना किया। मेरठ से ताल्लुक रखने वाली प्रीति के लिए जहां पैरा-एथलीटों के लिए सुविधाएं सीमित थीं, वहीं उनका सफर दृढ़ता और समर्पण की परिवर्तनकारी शक्ति का प्रतीक है। खेलो इंडिया योजना में शामिल होना उनके करियर में एक महत्वपूर्ण मोड़ साबित हुआ, जिसने उन्हें नई दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में विश्व स्तरीय प्रशिक्षण सुविधाओं तक पहुंच प्रदान की।

गुरु के मार्गदर्शन में मिली सफलता

अपने कोच गजेंद्र सिंह के मार्गदर्शन में, प्रीति ने अपनी तकनीक को निखारते हुए अपने प्रदर्शन को बेहतर बनाया। गजेंद्र सिंह की विशेषज्ञता और मार्गदर्शन ने प्रीति की इस यात्रा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, जो खेलों में प्रतिभा को निखारने और उत्कृष्टता की संस्कृति को बढ़ावा देने के महत्व को रेखांकित करता है।

Advertisment

आगामी चुनौतियों के लिए तैयार

प्रीति पाल ने 200 मीटर दौड़ में कांस्य पदक जीतकर इतिहास रचने के बाद अपनी खुशी का इज़हार करते हुए कहा, "यह मेरे लिए एक सपने के सच होने जैसा है। मैं इस पल का आनंद ले रही हूं, लेकिन मैं जानती हूं कि अभी भी बहुत काम किया जाना बाकी है।" 

वह आगे कहती हैं, "मेरा लक्ष्य हमेशा से ही स्वर्ण पदक जीतना रहा है। मैं जानती हूं कि यह आसान नहीं होगा, लेकिन मैं इसके लिए कड़ी मेहनत करने के लिए तैयार हूं।"

Advertisment

प्रीति ने अपनी जीत का श्रेय अपने परिवार, दोस्तों, कोच और प्रशंसकों को दिया। उन्होंने कहा, "मैं उन सभी लोगों की आभारी हूं जिन्होंने मेरा समर्थन किया है। मैं उनसे प्रेरित हूं और मैं उन्हें निराश नहीं होने दूंगी।"

प्रीति की अगली चुनौती 25 मई को होने वाली T35 100 मीटर दौड़ है। वह इस दौड़ में भी पदक जीतने की उम्मीद कर रही हैं। 

प्रीति पाल की सफलता भारत के लिए प्रेरणा का स्रोत है। वह उन लाखों लोगों के लिए एक उदाहरण हैं जो अपनी शारीरिक अक्षमताओं के बावजूद अपने सपनों को पूरा करना चाहते हैं। 

Paris Paralympics Para Athletics Preeti Pal
Advertisment