न्यूज़

कुल्लू की महिलाओं ने एक प्रेग्नेंट महिला को 18 किलोमीटर तक कैरी कर हॉस्पिटल पहुँचाया

Published by
Ayushi Jain

एक प्रेग्नेंट महिला का वीडियो जिसमे बाकी महिलाओं द्वारा उसे एक कामचलाऊ पालकी पर ले जाया जा रहा है, इंटरनेट पर काफी वायरल हो रही है। शक्ति गांव की 27 वर्षीय निवासी सुनीता देवी ने रविवार सुबह उस समय लेबर पेन की शिकायत की, जब गांव में कोई पुरुष नहीं था, जब वह सब काम के लिए निकले थे। मोबाइल फोन कनेक्टिविटी की अनुपस्थिति के कारण, किसी से संपर्क नहीं किया जा सका। रिपोर्ट्स के अनुसार, महिलाओं ने उन्हें 18 किमी के कठिन रास्ते और जंगल के रास्ते में ले जाने का फैसला किया ताकि वह नज़दीक के अस्पताल तक पहुंच सके। शक्ति, कुल्लू, मनाली में  एक दूरस्थ गाँव है जहाँ पर बुनियादी स्वास्थ्य सुविधाएं भी नहीं है।

18 किमी के रास्ते को पूरा करने में उन्हें लगभग 7 घंटे लगे। कुछ पुरुष भी बाद में उनके साथ जुड़ गए। वे सुबह 8:45 बजे शक्ति से शुरू हुए थे और दोपहर 3:30 बजे निहारनी पहुंचे। सुनीता को तब सड़क के रास्ते से सैंज के कम्युनिटी हेल्थ सेण्टर ले जाया गया था। यह पहली बार नहीं था जब मेडिकल इमरजेंसी में किसी को इस तरह की जरूरत पड़ी, ग्रामीणों ने बताया कि इस तरह की घटनाएं लगभग हर महीने होती हैं। स्थानीय लोग राशन और अन्य आवश्यक सामान अपनी पीठ पर लादकर तकरीबन हर रोज़ इस असुरक्षित मार्ग से यात्रा करते हैं।

महिलाओं ने उन्हें 18 किमी के कठिन रास्ते और जंगल के रास्ते में ले जाने का फैसला किया ताकि वह नज़दीक के अस्पताल तक पहुंच सके।

मेडिकल सुविधाओं की भी कमी

यह पहली बार नहीं था जब मेडिकल इमरजेंसी में किसी को इस तरह की जरूरत पड़ी, ग्रामीणों ने बताया कि इस तरह की घटनाएं लगभग हर महीने होती हैं।

स्वाभाविक रूप से यहाँ पर लैंडस्लिड्स और भूकंप का खतरा बना रहता है और कई लोग इससे अपनी जान गंवा चुके हैं। स्वास्थ्य सेवाओं की गंभीरता के अलावा, इस क्षेत्र में बिजली की भी कमी है। सैंज शहर में स्थित मुख्य सिविल अस्पताल पूरी घाटी के लिए है और अभी भी अल्ट्रासाउंड सुविधा के रूप में बुनियादी कुछ नहीं है। इसलिए, पूरे वजन के साथ 7 घंटे तक ट्रेकिंग करने के बाद भी, अल्ट्रासाउंड करवाने के लिए माँ को कुल्लू के क्षेत्रीय अस्पताल में ले जाना पड़ता है।

अधिकारियों की प्रतिक्रिया

बंजार एसडीएम, एम आर भारद्वाज ने कहा, “सरकार इन गांवों को जोड़ने के लिए एक सड़क बनाने के बारे में सोच रही है। शक्ति गांव का क्षेत्र में धार्मिक महत्व है। विभिन्न विकास कार्यक्रमों को अंजाम देने में मुख्य बाधा यह है कि गाँव ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क के अंदर आता हैं। ”

Recent Posts

लैंडस्लाइड में मां बाप और परिवार को खो चुकी इस लड़की ने 12वीं कक्षा में किया टॉप

इसके बाद गोपीका 11वीं कक्षा में अच्छे मार्क्स नहीं ला पाई थी क्योंकि उस समय…

12 mins ago

जिया खान के निधन के 8 साल बाद सीबीआई कोर्ट करेगी पेंडिंग केस की सुनवाई

बॉलीवुड लेट अभिनेता जिया खान के मामले में सीबीआई कोर्ट 8 साल के बाद पेंडिंग…

53 mins ago

दृष्टि धामी के डिजिटल डेब्यू शो द एम्पायर से उनका फर्स्ट लुक हुआ आउट

नेशनल अवॉर्ड-विनिंग डायरेक्टर निखिल आडवाणी द्वारा बनाई गई, हिस्टोरिकल सीरीज ओटीटी पर रिलीज होगी। यह…

2 hours ago

5 बातें जो काश मेरी माँ ने मुझसे कही होती !

बाते जो मेरी माँ ने मुझसे कही होती : माँ -बेटी का रिश्ता, दुनिया के…

2 hours ago

पूजा हेगड़े ने किया करीना को सपोर्ट सीता के रोल के लिए, कहा करीना लायक हैं

पूजा हेगड़े ने कहा कि करीना ने वही माँगा है जो वो डिज़र्व करती हैं।…

3 hours ago

This website uses cookies.