Rita Yadav Was Shot By Miscreants: नरेंद्र मोदी को 'काले झंडे' दिखाने वाली, कांग्रेस नेता रीता यादव को गोली मारी

Rita Yadav Was Shot By Miscreants: नरेंद्र मोदी को 'काले झंडे' दिखाने वाली, कांग्रेस नेता रीता यादव को गोली मारी Rita Yadav Was Shot By Miscreants: नरेंद्र मोदी को 'काले झंडे' दिखाने वाली, कांग्रेस नेता रीता यादव को गोली मारी

SheThePeople Team

04 Jan 2022


Rita Yadav Was Shot By Miscreants: उत्तर प्रदेश कांग्रेस की सदस्य रीता यादव, जो हाल ही में उस समय चर्चा में थीं, जब उन्होंने प्रधान मंत्री मोदी के सामने विरोध किया और उन पर काले झंडे लहराए, सोमवार शाम को गोली मार दी गई। यादव ने नवंबर 2021 में, 'योगी मुर्दाबाद' जैसे नारे लगाए थे और पीएम मोदी के मंच के पास काले झंडे लहराए थे, जब वह पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का उद्घाटन करने के लिए राज्य का दौरा कर रहे थे।

Rita Yadav Was Shot By Miscreants: ''अपराधियों में से एक को थप्पड़ मारा", तो उन्होंने उसे गोली मार दी और भाग गए

यादव को सुल्तानपुर में अंडर कंस्ट्रक्शन लखनऊ-वाराणसी फोर लेन हाईवे के पास पैर में गोली लगी थी। समाचार रिपोर्टों के अनुसार, सोमवार, 3 जनवरी को शाम लगभग 6:30 बजे, वह पार्टी ऑफिस में एक बैठक से घर लौट रही थी, जब उसका वाहन, एक बोलेरो, ओवरब्रिज के पास पहुंचा, पल्सर बाइक सवार तीन लोगों ने उन पर घात लगाकर हमला किया। जब उसके चालक ने कार रोकी, तो उनमें से एक ने यादव को गोली मार दी और तीनों भाग गए। उसके ड्राइवर ने उसे हेल्थ सेंटर पहुंचाया, जिसने पुलिस को सूचित किया। पुलिस का कहना है, कि उसे जिला अस्पताल ले जाया गया और उसकी हालत अब स्टेबल है।

यादव के अनुसार, अपराधियों, जिनकी पहचान होनी बाकी है, उसे धमकी दी और वरबली रूप से गाली दी, और उसके ड्राइवर पर बंदूक भी तान दी। उसने कहा, कि जब उसने "अपराधियों में से एक को थप्पड़ मारा", तो उन्होंने उसे गोली मार दी और भाग गए। पुलिस का कहना है, कि मामले की जांच की जा रही है और आरोपी की तलाश शुरू कर दी गई है।

कौन हैं, रीता यादव?

रीता यादव सबसे पहले तब चर्चा में थीं, जब उन्होंने समाजवादी पार्टी छोड़ दी और 17 दिसंबर को प्रियंका गांधी की उपस्थिति में कांग्रेस की सदस्यता में शामिल हुईं। 16 नवंबर, 2021 को रीता यादव उस समय सुर्खियों में थीं, जब उन्होंने पीएम मोदी को काले झंडे दिखाए और विरोध जताया। जिले के अरवल कीरी में अपनी रैली में यूपी के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ के खिलाफ नारेबाजी की। रिपोर्टों के अनुसार, रीता यादव को पीएम के मंच के पास जनता के विरोध के लिए गिरफ्तार किया गया था, और उन्हें "दो दिनों के बाद" जमानत दे दी गई थी।


अनुशंसित लेख