चौथे चरण के लॉक डाउन में जैसा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने कहा था कि कई छूट मिलेगी वैसे ही कई जगह अब लोगों का काम वापस ट्रैक पर आ रहा है।

image

स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (Sports Authority Of India) ने अब गाइडलाइन्स दे दी हैं और खिलाड़ियों को आश्वासन दिया है कि फिर से ट्रेनिंग और खेल टूर्नामेंट्स जल्दी ही शुरू होंगे। पर खिलाड़ी अभी भी संतुष्ट नही हैं।

कोरोना वायरस पान्डेमिक और लॉक डाउन की वजह से सारे बड़े खेल टूर्नामेंट जैसे ओलंपिक्स कैंसिल हो गये हैं।

साक्षी मलिक जैसे कई बड़े खिलाड़ी जो अपने बेस्ट फॉर्म में थे उनके लिए ये एक बड़ा झटका है।

साक्षी मालिक का क्या कहना है?

साक्षी कहती हैं “ये काफी निराशाजनक है क्योंकि मैंने बहुत तैयारी की थी और ओलंपिक्स के क्वालिफिकेशन बस होने ही वाले थे। अब तो इतनी अनिश्चितता है कि हमें पता ही नही है कि हम किसके लिए ट्रेनिंग करें। मुझे पता है कि ये समय वापस नही आएगा और ये सब मेरे हाथ मे नही है।”

संयम बनाये रखना ज़रूरी

साक्षी मानती हैं की अपनी संयम बनाये रखने के लिए हमें बड़ी पिक्चर पर ध्यान देना होगा। वो समझाते हुए कहती हैं कि उन्हें दिलासा इस बात से मिलता है कि वो अकेली नही हैं जो घर मे बन्द हैं।

“1 महीना जब घुटने की सर्जरी की वजह से मैं ब्रेक में थी तभी मुझे वो समय बहुत लंबा लगता था। मुझे लगता था कि मेरे ओपोनेंट्स जीत के आगे बढ़ रहे हैं और मैं पीछे रह गयी।पर इस बार सब घर पर ही हैं।”

देसी अखाड़े पर ट्रेनिंग का अनुभव

ट्रेनिंग के अभाव में साक्षी अपने ससुराल, हरयाणा में देसी अखाड़े पर ट्रेनिंग कर रही हैं।

” मैंने पहले कभी मिट्टी पर ट्रेनिंग नही की और मुझे इसमे ट्रेनिंग की आदत होने में थोड़ा टाइम लगेगा। स्पीड, टेक्नीक सब कुछ अलग है पर मैं फिट रहने और कुश्ती से जुड़े रहने के लिए ट्रेनिंग कर रही हूँ।”

पति सत्यव्रत केदान के साथ समय बिताने का मौका

साक्षी ये भी कहती हैं कि इस लॉक डाउन और अखाड़े में ट्रेनिंग की वजह से उन्हें अपने पति सत्यव्रत केदान के साथ समय बिताने का मौका मिल रहा है।

“उनको कुश्ती में अनुभव है और वो भारत केसरी रह चुके हैं। वो मुझे टिप्स देते हैं और हम एक दूसरे के साथ समय बिताते हैं।”

साक्षी मालिक एक जानी मानी पहलवान

साक्षी मालिक 2016 में पहली ऐसी भारतीय महिला बनी जो ओलंपिक्स में कुश्ती में मेडल जीती थी। उन्होंने रियो ओलंपिक्स में ब्रॉन्ज़ मेडल जीता था। उन्होंने 2014 में ग्लास्गो कामनवेल्थ गेम्स में सिल्वर मेडल जीता था। उन्होंने 2017 में पहलवान सत्यव्रत केदान से शादी की।

और पढ़िए- पलक कोहली लखनऊ में लॉक डाउन होने के बावजूद ट्रेनिंग कर रहीं हैं

Email us at connect@shethepeople.tv