बंगाल के स्कूल में मिड-डे मील के अंदर मिला सांप, कई बच्चे हुए बीमार

यह भयावह घटना तब सामने आई जब मिड-डे मील पकाने वाले स्कूल के स्टाफ के एक सदस्य ने दावा किया कि दाल वाले एक कंटेनर में एक सांप मिला था। जानें पूरी खबर इस न्यूज़ ब्लॉग में -

Vaishali Garg
12 Jan 2023
बंगाल के स्कूल में मिड-डे मील के अंदर मिला सांप, कई बच्चे हुए बीमार

Snake Found In Midday Meal

Midday Meal: पश्चिम बंगाल के एक बीरभूम स्कूल में बच्चों के खाने में मिला सांप, कढ़ाई में पकाई गई दाल खाने से बच्चे हुए बीमार। ब्लॉक के ठेका का क्षेत्र में मंडलपुर प्राथमिक विद्यालय के कई छात्रों को सोमवार की दोपहर सरकार द्वारा प्रदान किए गए मिड डे मील खाने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया। छात्रों को तुरंत रामपुरहाट मेडिकल कॉलेज अस्पताल ले जाया गया था। इन सभी को बाद में छुट्टी दे दी गई। अधिकारियों के ने बताया स्कूल के कुल 53 छात्रों में से करीब 20 ने मिड-डे मील का खाना खाया।

Snake Found In Midday Meal

यह भयावह घटना तब सामने आई जब मिड-डे मील पकाने वाले स्कूल के स्टाफ के एक सदस्य ने दावा किया कि दाल वाले एक कंटेनर में एक सांप मिला था। स्कूल की प्रिंसिपल निमाई चंद्र डे ने बताया कि खाना परोस रही एक महिला ने दाल परोसते समय सांप को देखा। सांप को देखने के बाद सभी को खाना बंद करने के लिए कहा गया। हालांकि, कुछ छात्रों ने पहले ही खाना खा लिया था।

इस बात की खबर फैलते ही ग्रामीण लोग स्कूल में एकत्र हो गए और प्रधानाध्यापक के वाहन में तोड़फोड़ की। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर प्रधानाध्यापक को छुड़ाया। प्राथमिक शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष प्रलोय नाइक ने छात्रों की जांच के लिए रामपुरहाट मेडिकल कॉलेज अस्पताल का दौरा किया। उन्होंने कहा कि लापरवाही हुई है और खाना बनाने और परोसने वाले रसोइयों को ज्यादा जागरूक और सतर्क रहना चाहिए था। उन्होंने अस्पताल में सभी बच्चों से मुलाकात की और उनके माता-पिता से बात भी की। उन्होंने आश्वासन दिया कि सभी बच्चे अब ठीक हैं।

इससे पहले भी बंगाल मे घटी ऐसी ही एक घटना

11 जनवरी को पश्चिम बंगाल के मालदा के एक स्कूल में मिड-डे मील में चूहा और छिपकली मिली थी। ग्रामीणों लोगों ने हंगामा किया और शिकायत की कि मिड-डे मील खाना की गुणवत्ता घटिया है।

छात्र काफी समय से खाने की खराब गुणवत्ता के बारे में शिकायत कर रहे हैं। मालदा के जिलाधिकारी नितिन सिंघानिया ने कहा कि जिम्मेदार लोगों को जवाबदेह ठहराया जा रहा है। आपको बता दें की यह घटनाएं तब सामने आईं जब पश्चिम बंगाल सरकार ने जनवरी से शुरू होने वाले चार महीनों के लिए मिड-डे मील खाने के दौरान बच्चों को चिकन और तले हुए फल परोसने का फैसला किया और कुछ रुपये आवंटित किए। 

Read The Next Article