तालिबान ने सोशल मीडिया पर मलाला को धमकी दी: एक पाकिस्तानी तालिबान आतंकवादी, जिसने नौ साल पहले नोबेल पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफजई को कथित रूप से गोली मारकर घायल कर दिया था, ने उन्हें फिर से ट्विटर पर धमकी दी है। ट्विटर पर जाते हुए, नोबेल पुरस्कार विजेता ने कहा कि बुधवार को, तालिबान के एक आतंकवादी ने उन्हें ट्वीट करते हुए धमकी दी कि अगली बार, “कोई गलती नहीं होगी।” पोस्ट के बाद उसके अकाउंट को स्थायी रूप से ससपेंड कर दिया गया था।

image

धमकी के बाद, ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की ग्रेजुएट मलाला ने पाकिस्तान के सेना और प्रधान मंत्री इमरान खान दोनों से पूछा की उन्हें यह समझाएं की शूटर एहसानुल्लाह एहसान सरकार की गिरफ्त से कैसे बच निकला । “यह तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान का पूर्व स्पोकेसपर्सन है, जो मुझ पर और कई निर्दोष लोगों पर हमले की जिम्मेदारी का दावा करता है। वह अब सोशल मीडिया पर लोगों को धमकी दे रहा है, “23 वर्षीय पाकिस्तानी शिक्षा कार्यकर्ता, यूसुफजई ने ट्वीट करके पूछा” वह कैसे बच गया? ”

कथित तौर पर, एक बार पाकिस्तानी तालिबान के टॉप अधिकारियों में गिने जाने वाले एहसान को 2017 में गिरफ्तार कर लिया गया था। बाद में वह जनवरी 2020 में एक सेफ हाउस से भाग गया, जहां वह पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी के कब्जे में था।

मलाला सबसे कम उम्र की नोबेल शांति पुरस्कार विजेता हैं। 15 साल की उम्र में, वह एक तालिबानी हमले की सर्वाइवर हैं।

“स्वात में अपने घर में वापस आओ, हमारे पास तुम्हारे और तुम्हारे पिता (जियाउद्दीन यूसुफजई) के साथ अभी भी बहुत से हिसाब बाकी है। उसने कहा की हम इस बार वो ज़रूर खत्म करेंगे जो हमने शुरू किया था ” TOI की रिपोर्ट के अनुसार, एहसान ने ट्वीट किया।

हालाँकि, डिजिटल मीडिया पर पीएम के फोकल पर्सन डॉ अरसलान खालिद ने कहा कि ट्विटर पर एहसान का अकाउंट फेक था।

युसुफ़ज़ई , जिन्होंने 2018 में लड़कियों की शिक्षा को बढ़ावा देने जैसे ग्राउंड-ब्रेकिंग काम के लिए हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से एक पुरस्कार प्राप्त किया था, 2012 में एहसान द्वारा कथित तौर पर मलाला पर हमला किया गया था। उन्होंने 15 वर्षीय मलाला यूसुफजई की शूटिंग के लिए पाकिस्तानी तालिबान की ओर से जिम्मेदारी का दावा किया था, पीड़िता का पक्ष लेने के लिए हमले के बाद पत्रकारों को धमकी देना और “इस्लाम और तालिबान के खिलाफ प्रचार” प्रकाशित करने पर भी।

पाकिस्तानी कार्यकर्ता मलाला ने 2014 में नोबेल शांति पुरस्कार जीता।

Email us at connect@shethepeople.tv