Tamil Nadu Violence: तमिलनाडु में लड़की की मौत के कारण हिंसक प्रदर्शन

Tamil Nadu Violence: तमिलनाडु में लड़की की मौत के कारण हिंसक प्रदर्शन Tamil Nadu Violence: तमिलनाडु में लड़की की मौत के कारण हिंसक प्रदर्शन

Monika Pundir

18 Jul 2022

तमिलनाडु के कल्लाकुरिची जिले में चिन्ना सलेम के निकट कनियामूर में एक प्राइवेट आवासीय स्कूल में पढ़ रही 17 वर्षीय एक लड़की की मौत को लेकर रविवार को हिंसक विरोध प्रदर्शन हुआ। प्रदर्शनकारी स्कूल में घुस गए जहां लड़की की आत्महत्या से मौत हुई थी, और तोड़फोड़ की। आंदोलन के दौरान कई बसों को भी आग लगा दिया गया। 

पुलिस का मामले को लेकर क्या कहना है?

स्थिति को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। बाद में, अतिरिक्त 500 पुलिस कर्मियों को साइट पर तैनात किया गया था, डाइरेक्टर जेनेरल ऑफ़ पुलिस (डीजीपी) ने कहा, स्कूल पर हमला करने वाले सभी लोगों को कानून और व्यवस्था की स्थिति को तोड़ने के लिए गिरफ्तार किया जाएगा।

“लोगों का एक छोटा ग्रुप स्कूल में विरोध करने आया था। प्रदर्शनकारियों के लिए इंतजाम किए गए लेकिन बड़ी संख्या में लोग जमा हो गए। शांतिपूर्ण विरोध के बजाय, उन्होंने हमला करना शुरू कर दिया… लाठीचार्ज करना पड़ा। अब 500 अतिरिक्त पुलिस कर्मियों को भेजा गया है। हम एक स्कूल पर हमला करने वाले सभी आरोपियों को गिरफ्तार करना चाहते हैं, किसी को भी नहीं बख्शा जाएगा … हमारे पास वीडियो भी हैं” डीजीपी सी सिलेंद्र बाबू ने एएनआई को बताया।

इस बीच, स्टालिन ने प्रदर्शनकारियों से शांति बनाए रखने का आग्रह किया और छात्र की मौत के लिए जिम्मेदार लोगों को कड़ी सजा देने का आश्वासन दिया। ट्वीट्स की एक श्रृंखला में, उन्होंने लिखा, “हिंसा मुझे चिंतित करती है। स्कूली छात्रा की मौत पर पुलिस की जांच खत्म होने पर आरोपी को सजा दी जाएगी। मैंने डीजीपी और होम सेक्रेटरी को कल्लाकुरिची की यात्रा करने के लिए कहा है। मैं लोगो को शांति बनाए रखने का अनुरोध करता हूं।

लड़की की मृत्यु का कारण

बुदवार को स्कूल के वॉचमैन ने लड़की का शव जमीन पर पड़ा पाया और स्कूल के अधिकारियों को सूचित किया। स्थानीय पुलिस को सूचित किया गया और लड़की को पास के अस्पताल ले जाया गया जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया।

रिपोर्ट्स के अनुसार एक नोट में, लड़की ने दो शिक्षकों का नाम लेते हुए कहा कि उन्होंने उसे प्रताड़ित किया और कुछ अन्य छात्रों को हर समय पढ़ने के लिए मजबूर किया। "दो शिक्षकों को पूछताछ के लिए पुलिस स्टेशन लाया जाया गया था। उन्होंने हमें बताया कि उन्होंने लापरवाही से उसे अधिक ध्यान केंद्रित करने और कड़ी मेहनत करने के लिए कहा क्योंकि वह बहुत चंचल थी" कल्लाकुरिची एसपी एस सेल्वाकुमार ने बताया। पुलिस के मुताबिक, स्कूल प्रबंधन ने लड़की के माता-पिता को सूचित करने के बाद, वे अपने रिश्तेदारों के साथ कल्लाकुरिची सरकारी अस्पताल पहुंचे। पुलिस ने कहा कि स्कूल प्रबंधन पर उसे चरम कदम उठाने के लिए प्रेरित करने का आरोप लगाते हुए सदस्यों ने उसकी मौत के लिए न्याय की मांग करते हुए कल्लाकुरिची-सलेम राजमार्ग पर 'रोड रोको' का मंचन किया।

भीड़ के स्कूल में घुसने और शिक्षकों को स्कूल में प्रवेश करने से रोकने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची और प्रदर्शनकारियों को शांत कराया। CrPC की धारा 174 (अप्राकृतिक मौत) के तहत मामला दर्ज किया गया था।

“हम जांच कर रहे हैं। सुसाइड नोट में कहा गया है कि लड़की को इन शिक्षकों ने डांटा था और अन्य शिक्षकों को भी घटना के बारे में पता है। पोस्टमार्टम किया जा रहा है और एक बार यह पूरा हो जाने के बाद, हम शव माता-पिता को सौंप देंगे, ”एसपी सेल्वाकुमार ने कहा।

अनुशंसित लेख